घूंघट और बुर्का दोनों पर बैन लग जाए मुझे कोई आपत्ति नहीं हैं: जावेद अख़्तर

javed akhtar
घूंघट और बुर्का दोनों पर बैन लग जाए मुझे कोई आपत्ति नहीं हैं: जावेद अख़्तर

मुंबई। श्रीलंका में हुए बम धमाके के बाद बुर्के पर बैन लगा दिया गया है। इस बैन के चलते भारत में भी शिवसेना ने बुर्के पर बैन लगाने की बात कही। जिसके बाद से लोकसभा चुनाव 2019 में इस नए मुद्दे को लेकर लेकर चर्चा हो रही है। वहीं, बॉलीवुड के मशहूर गीतकार जावेद अख्तर ने बुर्के पर बैन लगाने को लेकर कोई आपत्ति नहीं जताई है।

If You Ban Burqa Ban Ghoonghat To Says Javed Akhtar :

जावेद अख्तर का कहना है कि, ‘देश में बुर्के पर प्रतिबंध लगाने पर मुझे कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन केंद्र सरकार को चाहिए कि राजस्थान में 6 मई को होने वाले लोकसभा सीटों के लिए मतदान से पहले घूंघट प्रथा पर प्रतिबंध लगाए।’ आगे उन्होंने कहा ‘बुर्के पर मेरा नॉलेज बहुत कम है। इसकी वजह ये है कि जिस घर में मैं रहता हूं वहां कामकाजी महिलाएं रहती थीं। मैंने तो कभी अपने घर में बुर्का नहीं देखा।’

जावेद अख्तर का कहना है कि, ‘इराक कट्टर मुस्लिम देश है। लेकिन वहां पर औरतें चेहरे को कवर नहीं करती हैं। श्रीलंका में भी जो कानून आया है उसमें यह है कि आप चेहरे को कवर नहीं कर सकते। बुर्का पहनो, लेकिन चेहरा ढका हुआ नहीं होना चाहिए। ये श्रीलंका का कानून बनाया गया है।’

साथ ही उन्होंने कहा ‘इससे पहले कि राजस्थान में आखिरी मतदान हो जाए, केन्द्र सरकार को ऐलान करना पड़ेगा कि राजस्थान में कोई घूंघट नहीं लगा सकता। मुझे लगता है कि घूंघट और बुर्का दोनों हट जाए मुझे इससे कोई आपत्ति नहीं हैं।

मुंबई। श्रीलंका में हुए बम धमाके के बाद बुर्के पर बैन लगा दिया गया है। इस बैन के चलते भारत में भी शिवसेना ने बुर्के पर बैन लगाने की बात कही। जिसके बाद से लोकसभा चुनाव 2019 में इस नए मुद्दे को लेकर लेकर चर्चा हो रही है। वहीं, बॉलीवुड के मशहूर गीतकार जावेद अख्तर ने बुर्के पर बैन लगाने को लेकर कोई आपत्ति नहीं जताई है। जावेद अख्तर का कहना है कि, 'देश में बुर्के पर प्रतिबंध लगाने पर मुझे कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन केंद्र सरकार को चाहिए कि राजस्थान में 6 मई को होने वाले लोकसभा सीटों के लिए मतदान से पहले घूंघट प्रथा पर प्रतिबंध लगाए।' आगे उन्होंने कहा 'बुर्के पर मेरा नॉलेज बहुत कम है। इसकी वजह ये है कि जिस घर में मैं रहता हूं वहां कामकाजी महिलाएं रहती थीं। मैंने तो कभी अपने घर में बुर्का नहीं देखा।' जावेद अख्तर का कहना है कि, 'इराक कट्टर मुस्लिम देश है। लेकिन वहां पर औरतें चेहरे को कवर नहीं करती हैं। श्रीलंका में भी जो कानून आया है उसमें यह है कि आप चेहरे को कवर नहीं कर सकते। बुर्का पहनो, लेकिन चेहरा ढका हुआ नहीं होना चाहिए। ये श्रीलंका का कानून बनाया गया है।' साथ ही उन्होंने कहा 'इससे पहले कि राजस्थान में आखिरी मतदान हो जाए, केन्द्र सरकार को ऐलान करना पड़ेगा कि राजस्थान में कोई घूंघट नहीं लगा सकता। मुझे लगता है कि घूंघट और बुर्का दोनों हट जाए मुझे इससे कोई आपत्ति नहीं हैं।