1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. यदि आपका बच्चा भी करता है बिस्तर गीला तो आपके लिए उपयोगी साबित होगी यह खबर

यदि आपका बच्चा भी करता है बिस्तर गीला तो आपके लिए उपयोगी साबित होगी यह खबर

If Your Child Also Does Bed Wetting Then This News Will Prove Useful For You

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

लखनऊ: कई लोग अपने बच्चों को लेकर खासा परेशान रहते है। उनकी सबसे बड़ी परेशानी होती उनके बच्चों का बिस्तर पर पेशाब कर देना। बच्चों का बिस्तर पर पेशाब करना एक उम्र तक हर मां- बाप को अच्छा लगता है लेकिन उम्र निकल जाने के बाद भी आगरा बच्चे ऐसा कर रहे हैं तो चिंता का कारण बन जाते हैं। अगर आपका भी बच्चा बिस्तर गीला कर देता है तो आपको ज्यादा परेशान होने की जरुरत नहीं है।

पढ़ें :- आसान तरीके से घर में बनाए रिफ्रेशिंग एनर्जी ड्रिंक, हेल्थ को मिलेंगे कई फायदे

आपको बता दें कि सोते समय बिस्तर पर पेशाब करने का रोग बच्चो में बहुत ज्यादा पाया जाता है। बच्चों में यह रोग पाचनक्रिया खराब होने के कारण तथा ठंड लग जाने के कारण होता है। इसके अलावा अधिक मीठी चीजें खिलाने से भी यह रोग बच्चों में हो जाता है। बच्चे दिन भर कुछ न कुछ खाया करते हैं| बार-बार कुछ खाने से बच्चों की पाचन क्रिया खराब हो जाती है। इसके अलावा कुछ बच्चे दिन में ज्यादा समय खेलते-कूदते रहते हैं जिसकी वजह से बच्चे बुरी तरह से थक जाते हैं। ऐसे बच्चों को ज्यादा भूख लगती है और वह खाते ही सो जाते हैं।

थकावट की वजह से बच्चे रात को सोते हुए बार-बार पेशाब करते हैं। कई अनुभवियों के अनुसार स्नायु विकृति के कारण बच्चे रात को सोते हुये बिस्तर पर पेशाब कर देते हैं। स्नायु विकृति में शरीर में बहुत ज्यादा उत्तेजना होती है। ऐसे में बच्चा सोते हुए पेशाब करने पर काबू नहीं कर पाता और पेशाब कर देता है। । पेट में कीड़े होने पर भी बच्चे सोते हुए बिस्तर पर पेशाब कर देते हैं।

घरेलू उपचार-
जो बच्चे रात में बिस्तर गीला कर देते हैं उन्हें खजूर व छुहारे अधिक मात्रा में खिलाना चाहिए| इसके अलावा मुनक्का के बीज को निकालकर उसके स्थान पर उसमे काली मिर्च के दाने डाल दें|
2-3 मुनक्के प्रतिदिन सुबह बच्चों को खिलाएं। रोजाना रात को सोने से पहले बच्चे को एक चम्मच शहद खिलाएं| एक चम्मच शहद को एक कप पानी में घोलकर 4-5 दिन तक बच्चे को पिलाने से बच्चे का बिस्तर पर पेशाब करना बंद हो जाता है।

काला तिल भी इस रोग में लाभदायक होता है| काले तिल को पीसकर चूर्ण बनाकर बच्चों को चटाने से बच्चों के इस प्रकार के रोग जल्दी ही ठीक हो जाते हैं। जिन बच्चों को यह रोग हो तो उनके भोजन में चावल, केला, दूध तथा मट्ठा आदि देना बंद कर देना चाहिए।

पढ़ें :- कभी न खाएं खाली पेट ये 5 चीजें, हो सकती हैं परेशानियां

बच्चे के पेड़ू पर मिट्टी की गीली पट्टी तथा उसकी रीढ़ पर 8-10 मिनट के लिए गर्म ठंडा सेंक करने से बच्चे का ये रोग ठीक हो जाता है। इसके अलावा बच्चों की धूप में मालिश करने से भी उसका बिस्तर गीला करना बंद हो जाता हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...