1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. यदि आपका स्वामी ग्रह कमजोर है तो पीपल के पेड़ की करें पूजा: जानिए क्यों माना जाता है पीपल की पूजा करना शुभ

यदि आपका स्वामी ग्रह कमजोर है तो पीपल के पेड़ की करें पूजा: जानिए क्यों माना जाता है पीपल की पूजा करना शुभ

कहा जाता है कि अगर आप अपनी राशि के किसी भी 'दोष' से छुटकारा पाना चाहते हैं तो पीपल की पूजा करना बहुत शुभ होता है। इसका जीवनकाल बहुत लंबा होता है। साथ ही पीपल का पेड़ लगाने से व्यक्ति की आयु लंबी होती है और उसका वंश नष्ट नहीं होता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

पीपल का पेड़, जिसे वासुदेव के नाम से भी जाना जाता है, हिंदू धर्म में सबसे पवित्र माना जाता है। सनातन धर्म में पीपल को देवताओं का वृक्ष कहा गया है। कहा जाता है कि पेड़ के हर पत्ते पर देवताओं का वास होता है।

पढ़ें :- नारद जयंती 2022: जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और इस शुभ दिन का महत्व

विशेष रूप से शनिवार के दिन पीपल के पेड़ में देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु का वास होता है। इसलिए सौभाग्य और सुख की प्राप्ति के लिए पीपल के पेड़ की पूजा करनी चाहिए। पीपल की पूजा करने से आपके ग्रह शांत होते हैं और जो लोग पीपल की पूजा करते हैं उन्हें हमेशा सुख और समृद्धि का आशीर्वाद मिलता है।

कहा जाता है कि अगर आप अपनी राशि के किसी भी ‘दोष’ से छुटकारा पाना चाहते हैं तो पीपल की पूजा करना बहुत शुभ होता है। इसका जीवनकाल बहुत लंबा होता है। साथ ही पीपल का पेड़ लगाने से व्यक्ति की आयु लंबी होती है और उसका वंश नष्ट नहीं होता है।

जानिए क्यों माना जाता है पीपल की पूजा करना शुभ

यदि रविवार को छोड़कर हर दिन पीपल पर जलाभिषेक किया जाता है, खासकर शनिवार को, तो कुंडली के कमजोर ग्रह मजबूत होते हैं।

पढ़ें :- पंचांग: मंगलवार, 17 मई, 2022

यह वृक्ष अमर है और जन्म-मरण के चक्र का प्रतिनिधित्व करता है, पीपल के पेड़ की परिक्रमा करने से कुंडली में व्याप्त कालसर्प दोष से मुक्ति मिलने के योग बनते हैं।

शनिवार के दिन पीपल को दोनों हाथों से छूकर ‘O नमः शिवाय’ मंत्र का 108 बार जाप करने से ग्रह दोषों से मुक्ति मिलती है।

जिस व्यक्ति की कुण्डली में पितृ दोष होता है यदि वह पीपल का पेड़ लगाता है तो उसे राहत मिलती है।

शनि की साढ़ेसाती, ढैय्या और अशुभ प्रभाव से पीड़ित लोगों को हर शनिवार को पीपल के पेड़ पर गुड़, दूध मिलाकर जल चढ़ाना चाहिए। साथ ही शनिवार की शाम को सरसों के तेल का दीपक जलाएं।

पीपल के 11 पत्ते लें और उन पर चन्दन की स्याही से जय श्री राम लिखें। इन पत्तों की माला बनाकर हनुमान जी पर लगाएं। आपकी राशि से शनि देव का क्रोध समाप्त होगा और आपको फलदायी परिणाम प्राप्त होंगे।

पढ़ें :- बुध कंगन: इसे पहनने से तनाव और बीमारियों से मिलता है छुटकारा

यदि किसी का रोग लंबे समय से ठीक नहीं हो रहा है तो पीपल की जड़ को तकिये के नीचे रखने से उसे शीघ्र ही स्वास्थ्य लाभ होता है।

ध्यान रखने योग्य बातें- सूर्योदय से पहले पीपल की पूजा नहीं करनी चाहिए और रविवार के दिन पीपल को जल नहीं चढ़ाना चाहिए और न ही इसकी पूजा करनी चाहिए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...