1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. भारत में 98 फीसदी लोगों में विकसित हो चुकी है नेचुरल इम्युनिटी, इसलिए कोविड की लहर आने की संभावना नहीं : प्रो. मणींद्र

भारत में 98 फीसदी लोगों में विकसित हो चुकी है नेचुरल इम्युनिटी, इसलिए कोविड की लहर आने की संभावना नहीं : प्रो. मणींद्र

चीन (China) में कोरोना के नए वैरिएंट बीएफ.7 (Corona's New Variant BF.7) ने हाहाकार मचा रखा है, लेकिन भारत के लोगों को घबराने की आवश्यकता नहीं है। यह नया वैरिएंट बीएफ.7 (New Variant BF.7) उन लोगों को चपेट में ले सकता है जिनकी इम्यूनिटी वैक्सीन (Immunity Vaccine) की वजह से बनी हो। भारत (India)  में वैक्सीन से इम्यूनिटी जनरेट (Generate immunity from vaccine) करने वाले दो फीसदी लोग ही हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

कानपुर। चीन (China) में कोरोना के नए वैरिएंट बीएफ.7 (Corona’s New Variant BF.7) ने हाहाकार मचा रखा है, लेकिन भारत के लोगों को घबराने की आवश्यकता नहीं है। यह नया वैरिएंट बीएफ.7 (New Variant BF.7) उन लोगों को चपेट में ले सकता है जिनकी इम्यूनिटी वैक्सीन (Immunity Vaccine) की वजह से बनी हो। भारत (India)  में वैक्सीन से इम्यूनिटी जनरेट (Generate immunity from vaccine) करने वाले दो फीसदी लोग ही हैं।

पढ़ें :- नौतनवा:ब्लाक प्रमुख ने आरसीसी सड़क के लिए किया भूमि पूजन

बाकी सभी की नेचुरल इम्युनिटी (Natural Immunity) बनी है, उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है। आईआईटी कानपुर के प्रो. मणींद्र अग्रवाल (IIT Kanpur Prof. Manindra Agarwal) ने अपने गणितीय मॉडल सूत्र (Mathematical Model Formula) की मदद से कोरोना के उतार चढ़ाव का आंकलन करते हैं। उनके पहले भी आकलन सटीक साबित हुए हैं। प्रो. अग्रवाल ने कहा कि देश में चीन (China) जैसे हालात बिल्कुल भी नहीं होंगे। उन्होंने लोगों से कहा कि घबराने की आवश्यकता नहीं है। जैसे सामान्य जीवन जी रहे हैं, वैसे ही जीएं, अफवाहों पर ध्यान न दें।

प्रो. अग्रवाल ने बताया कि भारत (India) में खतरे की कोई वजह नहीं है, क्योंकि भारत (India) में 98 प्रतिशत से ज्यादा लोगों में नैचुरल इम्युनिटी (Natural immunity) विकसित हो चुकी है। अभी तक स्टडी में जो बातें सामने आई हैं, उसके मुताबिक अभी देश में कोविड की लहर आने की संभावना नहीं है। हां, लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है। सभी कोविड नियमों (Covid Rules)का पालन जरूर करना चाहिए। बाकी देश में केस बढ़ने के बाद ही सटीक आकलन किया जा सकेगा।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...