अवैद्य शराब तस्करी मामले में दोषियों को दस-दस वर्ष की सजा

जालौन। जनपद में बड़े पैमाने पर अवैद्य शराब का कारोबार करने वाले दो लोगों को गैंगस्टर कोर्ट ने दस-दस वर्ष की सजा सुनाते हुए पचास-पचास हजार रूपर्य अर्थदण्ड घोषित कर दिया। साथ ही जुर्माना की धनराशि अदा न करने पर एक-एक वर्ष की अतिरिक्त सजा भुगतने का फरमान जारी कर दिया।





कैलिया थाना क्षेत्र के नरी निवासी सियाराम व मुन्नालाल जोकि काफी समय से अवैध शराब के धंधे लिप्त थे पुलिस कई बार इन लोगों के खिलाफ छोटी-मोटी कार्यवाही भी कर चुकी थी। लेकिन इनकी आदतों में कोई सुधार न आया और इन्होंने सीधा शार्टकट का रास्ता अपनाते हुए नकली शराब का काम शुरू कर दिया। मध्य प्रदेश से आ रही शराब की शीशियों के होलोग्राम बदलकर यह लोग मध्य प्रदेश व उत्तर प्रदेश की सीमा पर सटेे क्षेत्रों में सप्लाई करने लगें जिसकी भनक पुलिस को लगी और उन्होने दोनों लोगों के खिलाफ 60 आबकारी एक्ट के अलावा 420, 467,468,473 व 486 आई0पी0सी0 के तहत मुकदमा दर्ज कर काफी मात्रा में शराब बरामद करते हुए कार्यवाही की थी।

जिसक का ट्रायल गैंगस्टर कोर्ट के विशेश न्यायाधीश मनोज कुमार शुक्ला की अदालत में चल रहा था। आज आदेश की तारीख नियत थी जैसे ही न्यायालय में इनके नामों की पुकार हुई और ये लोग न्यायायलय की समक्ष उपसिथत हुए विद्वान न्यायाधीश मनोज कुमार शुक्ला ने दोनों लोगों को दस-दस वर्ष के कारावास एवं 50-50 हजार रूपये अर्थदण्ड की सजा सुनायी । सजा सुनाते ही इन लोगों को हिरासत में ले लिया गया और जेल भेज दिया।

जालौन से सौरभ पाण्डेय की रिपोर्ट