IMF ने पाकिस्तान के लिए 6 अरब डॉलर के कर्ज को दी मंजूरी

imran
IMF ने पाकिस्तान के लिए 6 अरब डॉलर के कर्ज को दी मंजूरी

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने आर्थिक संकट का सामना कर रहे पाकिस्तान को तीन साल के लिए छह अरब डॉलर के कर्ज की बुधवार को मंजूरी दी। पाकिस्तान की कमजोर अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और लोगों की जीवन दशा को सुधारने के मकसद से यह कर्ज मंजूर किया गया है। इमरान खान की सरकार के पद संभालने के बाद बेलआउट पैकेज के लिए पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने अगस्त 2018 में आईएमएफ से संपर्क किया था।

Imf Approves 6 Billion Loan For Pakistan :

आईएमएफ (IMF) ने साफ किया कि पाकिस्तान की कमजोर अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और लोगों की जीवन दशा को सुधारने के मकसद से यह कर्ज मंजूर किया गया है। इमरान खान की सरकार के पद संभालने के बाद बेलआउट पैकेज के लिए पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने अगस्त 2018 में आईएमएफ से संपर्क किया था ।

आईएमएफ के प्रवक्ता गेरी राइस ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि आईएमएफ के कार्यकारी बोर्ड ने पाकिस्तान की आर्थिक योजना को मदद देने के लिए तीन साल के लिए छह अरब डॉलर के कर्ज की मंजूरी दी है। यह कर्ज देश की अर्थव्यवस्था को ठीक करने और जीवन दशा को बेहतर करने के मकसद से दिया गया है।

इस्लामाबाद को विस्तारित फंड सुविधा (ईएफएफ) के तहत 2 बिलियन डॉलर सालाना तौर पर मुहैया कराए जाएंगे। आईएमएफ के अनुसार, ईएफएफ व्यापक कार्यक्रमों के समर्थन में सहायता प्रदान करता है जिसमें विस्तारित अवधि में संरचनात्मक असंतुलन को ठीक करने के लिए आवश्यक गुंजाइश और नीतियां शामिल हैं। अर्नेस्टो रामिरेज़ रिगो के नेतृत्व में एक आईएमएफ मिशन ने बेलआउट पैकेज पर चर्चा करने के लिए 29 अप्रैल से 11 मई तक इस्लामाबाद का दौरा किया था।

आईएमएफ ने एक बयान में कहा, “इस कार्यक्रम का उद्देश्य घरेलू और बाहरी असंतुलन को कम करके, व्यापार के माहौल को बेहतर बनाना, संस्थानों को मजबूत करना, पारदर्शिता बढ़ाना और सामाजिक खर्चों में मजबूती प्रदान करने के लिए अधिकारियों की रणनीति का समर्थन करना है।” इसका श्रेय रिगो को जाता है।

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने आर्थिक संकट का सामना कर रहे पाकिस्तान को तीन साल के लिए छह अरब डॉलर के कर्ज की बुधवार को मंजूरी दी। पाकिस्तान की कमजोर अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और लोगों की जीवन दशा को सुधारने के मकसद से यह कर्ज मंजूर किया गया है। इमरान खान की सरकार के पद संभालने के बाद बेलआउट पैकेज के लिए पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने अगस्त 2018 में आईएमएफ से संपर्क किया था। आईएमएफ (IMF) ने साफ किया कि पाकिस्तान की कमजोर अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और लोगों की जीवन दशा को सुधारने के मकसद से यह कर्ज मंजूर किया गया है। इमरान खान की सरकार के पद संभालने के बाद बेलआउट पैकेज के लिए पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने अगस्त 2018 में आईएमएफ से संपर्क किया था । आईएमएफ के प्रवक्ता गेरी राइस ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि आईएमएफ के कार्यकारी बोर्ड ने पाकिस्तान की आर्थिक योजना को मदद देने के लिए तीन साल के लिए छह अरब डॉलर के कर्ज की मंजूरी दी है। यह कर्ज देश की अर्थव्यवस्था को ठीक करने और जीवन दशा को बेहतर करने के मकसद से दिया गया है। इस्लामाबाद को विस्तारित फंड सुविधा (ईएफएफ) के तहत 2 बिलियन डॉलर सालाना तौर पर मुहैया कराए जाएंगे। आईएमएफ के अनुसार, ईएफएफ व्यापक कार्यक्रमों के समर्थन में सहायता प्रदान करता है जिसमें विस्तारित अवधि में संरचनात्मक असंतुलन को ठीक करने के लिए आवश्यक गुंजाइश और नीतियां शामिल हैं। अर्नेस्टो रामिरेज़ रिगो के नेतृत्व में एक आईएमएफ मिशन ने बेलआउट पैकेज पर चर्चा करने के लिए 29 अप्रैल से 11 मई तक इस्लामाबाद का दौरा किया था। आईएमएफ ने एक बयान में कहा, "इस कार्यक्रम का उद्देश्य घरेलू और बाहरी असंतुलन को कम करके, व्यापार के माहौल को बेहतर बनाना, संस्थानों को मजबूत करना, पारदर्शिता बढ़ाना और सामाजिक खर्चों में मजबूती प्रदान करने के लिए अधिकारियों की रणनीति का समर्थन करना है।" इसका श्रेय रिगो को जाता है।