बेडरूम में सुधारना चाहते हैं सेक्स परफॉर्मेंस तो जरूर आजमाएं ये आसन

नई दिल्ली: योग न सिर्फ तनाव और अवसाद को कम करके आपको स्वस्थ रखता है, बल्कि बेडरूम में भी ये आपकी उतनी ही मदद कर सकता है। योग विशेषज्ञों की माने तो उनका कहना हैं कि सूर्य नमस्कार और भुजंगासन जैसे योग आसन शरीर में रक्त के संचार को बढ़ाते हैं, जो कि सेक्स के दौरान बेहद ज़रूरी होता है। जबकि कुछ आपके प्रजनन अंग को भी स्वस्थ रखते हैं। कई अध्ययनों में भी साबित हो गया हैं रोजाना योग के ऐसे आसन जो शरीर के निचले हिस्से को प्रभावित करते हैं, उनसे शुक्राणुओं की गुणवत्ता और उनकी गतिशीलता में आश्चर्यजनक रूप से इजाफा होता है। ये हमारे शरीर में स्वस्थ हॉर्मोन्स के स्राव में भी मददगार होते हैं। तो अगर आप भी बेडरूम में अपनी परफॉर्मेंस सुधारना चाहते हैं, तो इन 5 आसनों को जरूर आजमाएं-




माउंटेन क्लाइमर पोज़:
फर्श पर पेट के बल लेट जाएं। इसके बाद अपनी कोहनी को छाती से सटाकर रखें और हाथों और कंधों के दम पर शरीर को फर्श से थोड़ा ऊपर उठाएं। अब एक पैर को स्ट्रेच करके पीछे ले जाएं साथ ही दूसरे पैर को घुटने से मोड़ कर आगे लाएं। फिर से सामान्य अवस्था में आएं और यही प्रोसेस दूसरे पैर के साथ करें। ये आसन जांघों की अंदरूनी मांसपेशियों और हिप में लचक और कसाव लाता है जो निश्चित रूप से एक आनंददायक सेक्स के लिए जरूरी है।

भुजंगासन :
सबसे पहले फर्श पर पेट के बल लेट जाएं। इसके बाद कंधों की सीध में हाथों को बगल में रखकर हथेलियों से नीचे की ओर दबाएं, साथ ही अपने शरीर के ऊपरी हिस्से को ऊपर भी उठाते जाएं। अब इस स्थिति में आने के बाद लंबी सांस लें और ऊपर देखने की कोशिश करें। यदि गर्दन में दर्द की समस्या हो तो इससे बचें। ध्यान रखें कि इस दौरान आपके दोनों हाथ बिल्कुल सीधे होने चाहिए। इससे आपके सेक्शुअल एनर्जी सेंटर को भरपूर जीवनशक्ति मिलती है।

कर्णपिदासन :
इस आसन में आपका शरीर एक हल की आकृति बनाता है। इसके लिए फर्श पर पीठ के बल शवासन की मुद्रा में लेट जाएं। अपनी हथेलियों को फर्श की ओर करके हाथों को बगल में सीधा रखें। लंबी सांस लें, और फिर सांस को छोड़ते हुए अपने पैरों को घुटनों से मोड़ते हुए ऊपर की ओर उठाएं और इसे अपने सिर के पास तक ले आएं। इसके बाद अपने पैर के अंगूठों को सिर के पीछे ले जाकर उनसे फर्श छूने का प्रयास करें। इस दौरान दोनों पैरों को साथ ही रखें। धीरे-धीरे सांस लेते रहें। अधिक से अधिक तीन मिनट तक इस अवस्था में रहने के बाद सामान्य स्थिति में लौट आएं। ये आसन इनफर्टिलिटी में आश्चर्यजनक रूप से कारगर है। ये आपके सेक्स ऑर्गन्स को स्टिम्युलेट करता है।




तितली आसन:
सबसे पहले मैट पर बैठ जाएं। अपने घुटनों को मोड़ते हुए पैरों को पेल्विस के ज्यादा से ज्यादा नजदीक लाने की कोशिश करें। ध्यान रखें कि इस दौरान दोनों पैरों के तलवे एक दूसरे से जुड़े रहें। पैरों को अपने हाथों से कसकर पकड़े भी रहें। अब लंबी सांस लेते हुए अपनी जांघों को नीचे फर्श की ओर ले जाएं, और धीरे-धीरे इसे तितली के पंखों की तरह हिलाना शुरू करें। कुछ देर करने के बाद सांस बाहर छोड़ते हुए वापस सामान्य मुद्रा में लौट आएं। इससे पेल्विक और ग्रोइन एरिया में फ्लेक्सिबिलटी बढ़ जाती है। इसके साथ ही यह आसन सेक्शुअल ऑर्गन्स और चैनल्स को भी भीतर से मजबूती देता है।

180 डिग्री स्प्लिट पोज़:
इस आसन में अपने पैरों को 180 डिग्री पर रखकर बैठना होता है। इसके बाद हाथों से दोनों पैरों के अंगूठों को पकड़कर रखना है। इस स्थिति में करीब 30 सेकेंड तक बने रहिए। यह आसन पेल्विस में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ा देता है। इसके साथ ही तनाव और अवसाद कम करके आपकी सेक्स पर्फॉर्मेंस को बेहतर करता है।