इमरान खान का 1 ट्वीट, भारत के साथ वार्ता के सारे रास्ते बंद

इमरान खान का 1 ट्वीट, भारत के साथ वार्ता के सारे रास्ते बंद
इमरान खान का 1 ट्वीट, भारत के साथ वार्ता के सारे रास्ते बंद

नई दिल्ली। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शनिवार को भारत-पाक विदेश मंत्रियों की बैठक के रद्द होने पर ट्वीट कर नई दिल्ली पर अपना गुस्सा निकाला। उन्होंने भारत के फैसले को ‘अहंकारी’ बताया और साथ ही इशारों में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी हमला बोला। खान ने ट्वीट कर कहा, ‘शांति वार्ता फिर से शुरू किए जाने के मेरे आह्वान पर भारत के अहंकारी और नकारात्मक रुख से निराश हूं। छोटे लोग बड़े पदों पर आसीन रहे हैं लेकिन उनके पास बड़ी तस्वीर देने का दृष्टिकोण नहीं है।’

Imran Khan Closes All Diplomatic Doors For Now :

मोदी सरकार और बीजेपी यूएनजीए के इतर विदेश मंत्रियों की वार्ता के रद्द होने को राजनीतिक रूप से लाभप्रद मान रही है, क्योंकि इस मुलाकात से आतंकवाद पर बिना कुछ किए ही पाकिस्तान को ही फायदा होने की संभावना थी। इमरान खान ने भारत के साथ वार्ता को लेकर जो भी रुख दिखाया है वह सबकुछ दरअसल पाकिस्तान आर्मी के आदेश पर कर रहे हैं।

वहीं, भारत ने यह कहते हुए वार्ता रद्द कर दी है कि जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन पुलिसकर्मियों को निशाना बना रहे हैं और उनकी हत्या कर रहे हैं, और ऐसी स्थिति में किसी तरह की बातचीत नहीं हो सकती। नई दिल्ली ने साथ ही भारत में मारे गए आतंकियों पर पाकिस्तान की तरफ से तारीफ करते हुए 20 डाक टिकट जारी करने का भी मामला उठाया है। इसके अतिरिक्त जम्मू कश्मीर में पंचायत चुनाव से पहले बढ़ती हिंसा ने भी यह दिखाने की कोशिश की है कि पाक सरकार की शांति की बात पाक आर्मी के ऐक्शन से मैच नहीं करती।

बीजेपी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पर किया पलटवार

सत्तारूढ़ बीजेपी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर शनिवार को निशाना साधते हुए कहा कि वह अपने देश की सेना के निर्देशों पर सत्ता में है और भारत पड़ोसी देश के साथ तब तक बातचीत नहीं करेगा जब तक उसके सैनिकों को मारा जाता रहेगा। वरिष्ठ बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने पूछा कि उस व्यक्ति से और क्या उम्मीद की जा सकती है जो अपने देश की सेना के निर्देश पर प्रधानमंत्री के पद पर बैठा है। उन्होंने कहा, ‘‘जब तक हमारे सैनिकों की हत्या की जाती रहेगी तब तक पाकिस्तान के साथ कोई वार्ता नहीं होगी।’’

नई दिल्ली। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शनिवार को भारत-पाक विदेश मंत्रियों की बैठक के रद्द होने पर ट्वीट कर नई दिल्ली पर अपना गुस्सा निकाला। उन्होंने भारत के फैसले को 'अहंकारी' बताया और साथ ही इशारों में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी हमला बोला। खान ने ट्वीट कर कहा, ‘शांति वार्ता फिर से शुरू किए जाने के मेरे आह्वान पर भारत के अहंकारी और नकारात्मक रुख से निराश हूं। छोटे लोग बड़े पदों पर आसीन रहे हैं लेकिन उनके पास बड़ी तस्वीर देने का दृष्टिकोण नहीं है।’ मोदी सरकार और बीजेपी यूएनजीए के इतर विदेश मंत्रियों की वार्ता के रद्द होने को राजनीतिक रूप से लाभप्रद मान रही है, क्योंकि इस मुलाकात से आतंकवाद पर बिना कुछ किए ही पाकिस्तान को ही फायदा होने की संभावना थी। इमरान खान ने भारत के साथ वार्ता को लेकर जो भी रुख दिखाया है वह सबकुछ दरअसल पाकिस्तान आर्मी के आदेश पर कर रहे हैं। वहीं, भारत ने यह कहते हुए वार्ता रद्द कर दी है कि जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन पुलिसकर्मियों को निशाना बना रहे हैं और उनकी हत्या कर रहे हैं, और ऐसी स्थिति में किसी तरह की बातचीत नहीं हो सकती। नई दिल्ली ने साथ ही भारत में मारे गए आतंकियों पर पाकिस्तान की तरफ से तारीफ करते हुए 20 डाक टिकट जारी करने का भी मामला उठाया है। इसके अतिरिक्त जम्मू कश्मीर में पंचायत चुनाव से पहले बढ़ती हिंसा ने भी यह दिखाने की कोशिश की है कि पाक सरकार की शांति की बात पाक आर्मी के ऐक्शन से मैच नहीं करती।

बीजेपी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पर किया पलटवार

सत्तारूढ़ बीजेपी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर शनिवार को निशाना साधते हुए कहा कि वह अपने देश की सेना के निर्देशों पर सत्ता में है और भारत पड़ोसी देश के साथ तब तक बातचीत नहीं करेगा जब तक उसके सैनिकों को मारा जाता रहेगा। वरिष्ठ बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने पूछा कि उस व्यक्ति से और क्या उम्मीद की जा सकती है जो अपने देश की सेना के निर्देश पर प्रधानमंत्री के पद पर बैठा है। उन्होंने कहा, ‘‘जब तक हमारे सैनिकों की हत्या की जाती रहेगी तब तक पाकिस्तान के साथ कोई वार्ता नहीं होगी।’’