पाकिस्तान में निकले आजादी मार्च से खौफ में आई इमरान सरकार

imran khan
पाकिस्तान में निकले आजादी मार्च से खौफ में आई इमरान सरकार

नई दिल्ली। पाकिस्तान में इमरान सरकार के खिलाफ निकले आजादी मार्च से इमरान सरकार पूरी तरह से खौफ में आ चुकी है। पाकिस्तान के उलमा-ए-इस्लाम संगठन के प्रमुख फजलुर रहमान ने इस्लामाबाद में इमरान खान पर देश को बेंचने का आरोप लगाया तो इमरान सरकार उनसे बातचीत करने पर तैयार हो गयी है। हालांकि अभी तक आजादी मार्च इमरान के स्थीपे की मांग पर अंड़ी है। वहीं इमरान सरकार इतने खौफ मे आ चुकी है कि वो किसी भी हालत में आजादी मार्च को रोंकना चाहती है।

Imrans Government Came In Fear After Independence March In Pakistan :

कट्टरपंथी मौलाना फजलुर रहमान ने कहा है कि प्रधानमंत्री इमरान के इस्तीफे तक उनका विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। इस मामले में पाकिस्तान की सारी विपक्षी पार्टियां आजादी मार्च में शामिल हो गयी हैं। पाकिस्‍तान के एक अखबार मे लिखा है कि इमरान खान सरकार की ओर से वार्ताकारों की दो टीमों ने सोमवार को जेयूआई-एफ से संपर्क किया। पूर्व प्रधानमंत्री सुजात हुसैन की अगुवाई में एक प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार रात को मौलाना से मुलाकात की।

सोमवार को इमरान सरकार की तरफ से मौलाना फजलुर के खिलाफ लाहौर हाई कोर्ट में एक अर्जी भी दाखिल की गई थी। इस अर्जी में मौलाना पर सरकार के खिलाफ भड़काऊ और नफरत फैलाने वाला भाषण देने का आरोप लगाया है। आपको बता दें कि बीते शुक्रवार को आजादी मार्च के इस्लामाबाद पंहुचा था तब मौलाना ने इमरान को दो दिन में स्थीपा देने का अल्टीमेटम दिया था।

नई दिल्ली। पाकिस्तान में इमरान सरकार के खिलाफ निकले आजादी मार्च से इमरान सरकार पूरी तरह से खौफ में आ चुकी है। पाकिस्तान के उलमा-ए-इस्लाम संगठन के प्रमुख फजलुर रहमान ने इस्लामाबाद में इमरान खान पर देश को बेंचने का आरोप लगाया तो इमरान सरकार उनसे बातचीत करने पर तैयार हो गयी है। हालांकि अभी तक आजादी मार्च इमरान के स्थीपे की मांग पर अंड़ी है। वहीं इमरान सरकार इतने खौफ मे आ चुकी है कि वो किसी भी हालत में आजादी मार्च को रोंकना चाहती है। कट्टरपंथी मौलाना फजलुर रहमान ने कहा है कि प्रधानमंत्री इमरान के इस्तीफे तक उनका विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। इस मामले में पाकिस्तान की सारी विपक्षी पार्टियां आजादी मार्च में शामिल हो गयी हैं। पाकिस्‍तान के एक अखबार मे लिखा है कि इमरान खान सरकार की ओर से वार्ताकारों की दो टीमों ने सोमवार को जेयूआई-एफ से संपर्क किया। पूर्व प्रधानमंत्री सुजात हुसैन की अगुवाई में एक प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार रात को मौलाना से मुलाकात की। सोमवार को इमरान सरकार की तरफ से मौलाना फजलुर के खिलाफ लाहौर हाई कोर्ट में एक अर्जी भी दाखिल की गई थी। इस अर्जी में मौलाना पर सरकार के खिलाफ भड़काऊ और नफरत फैलाने वाला भाषण देने का आरोप लगाया है। आपको बता दें कि बीते शुक्रवार को आजादी मार्च के इस्लामाबाद पंहुचा था तब मौलाना ने इमरान को दो दिन में स्थीपा देने का अल्टीमेटम दिया था।