एक जगह ऐसी भी जहां देह व्यापार करना है परंपरा

sex-worker

In One Place Where The Body Is Traded

नई दिल्ली। आपको बता दें कि मध्य प्रदेश और राजस्थान में एक ऐसी कम्युनिटी रहती है जिनकी लड़कियों का सेक्स वर्कर बनना परंपरा की तरह है। यहाँ कि महिलाओं का मानना है कि ‘सेक्स उनका खानदानी धंधा’ है। इस कम्युनिटी की एक सेक्स वर्कर एक दिन में करीब 1200 से 2000 रुपए कमा लेती हैं। बता दें कि ये बस्ती जयपुर हाईवे से करीब दो किलोमीटर दूर भरतपुर के पास रहती है। यहां कई बालिक लड़किया भी बतौर सेक्स वर्कर काम करती हैं।

यहां की एक महिला बताया था कि जब वह 10-11 साल की थी तो पिता ने उसे एक बिजनेसमैन के पास भेज दिया था।परिवार को महिला की वर्जिनिटी खोने के बदले करीब 10 हजार रुपए दिए गए थे। महिला ने आगे यह भी बताया है कि आज 20 साल बाद भी यहां की किसी लड़की के लिए सबसे अधिक कमाई 10 हजार रुपए ही होती है। एक रिपोर्ट्स के अनुसार कुछ साल पहले तक एक सौ से अधिक बेदिया सेक्स वर्कर मलाहा गांव में रहतीं थीं। बता दें कि ये महिला अपने आप को सजा और मेकअप करके सड़क से कुछ दूरी पर ग्राहकों का इंतजार करती हैं।

इस मामले में कई लोगों का कहना है कि यहां लड़कियों को जबरन सेक्स वर्क करना पड़ता है। लेकिन कम्युनिटी के पुरुष ये कहते हैं कि यहां की हर लड़कियों से पूछा गया था कि धंधा करोगी या शादी? बता दें कि इस कम्युनिटी में जो बाहरी महिलाएं बहू बनकर आती हैं वे सेक्स वर्क में शामिल नहीं होतीं। उनका काम घर की देख रेख करना और बच्चों की परवरिश होती है।

नई दिल्ली। आपको बता दें कि मध्य प्रदेश और राजस्थान में एक ऐसी कम्युनिटी रहती है जिनकी लड़कियों का सेक्स वर्कर बनना परंपरा की तरह है। यहाँ कि महिलाओं का मानना है कि ‘सेक्स उनका खानदानी धंधा’ है। इस कम्युनिटी की एक सेक्स वर्कर एक दिन में करीब 1200 से 2000 रुपए कमा लेती हैं। बता दें कि ये बस्ती जयपुर हाईवे से करीब दो किलोमीटर दूर भरतपुर के पास रहती है। यहां कई बालिक लड़किया भी बतौर सेक्स वर्कर…