इस तरह कि लड़कियां ज्यादा बनाती हैं शारारिक सम्बन्ध

शारारिक सम्बन्ध को लेकर लड़कों-लड़कियाें के बारे में ना जाने किस-किस तरह की बातें कहीं जातीं रही हैं और सोची जाती है। एक स्टडी के अनुसार टीनएजर्स लड़कियों के स्कूल की दिनचर्या और उनके सेक्सुअल रिलेशन के बीच अहम खुलासा हुआ है।  इंडियाना यूनिवर्सिटी ने स्कूली छात्राओं पर ये स्टडी किया है। इस स्टडी में स्कूल बंक करना, टेस्ट में फेल होना और बिना कंडोम के सेक्स के बीच संबंध निकाला है। जो वाकई सोचने पर मजबूर कर देगा।

In This Way Girls Make More Than Physical Relations :

इंड‍ियाना यूनिवर्सिटी ने सेक्स के एक और सच पर्दा उठाने का दावा किया है । यह सर्वे 14 से 17 साल की लड़कियों पर किया गया है। 10 साल में पूरे हुए इस अध्ययन के लिए 387 लड़कियों की डायरियों से रोमांटिक और फिजिकल रिलेशन को लेकर उनके व्यवहार को समझने प्रयास किया गया। स्टडी में शामिल लड़कियां अपने हर छोटे-बड़े व्यवहार को रिसर्चर से साझा करती थीं।

जो युवा लड़कियां स्कूल बंक करती हैं और टेस्ट में फेल होती हैं, ऐसी लड़कियां के स्कूल बंक करने और टेस्ट में फेल होने वाले दिन बिना कंडोम के सेक्स करने के मामले ज्यादा पाए गए हैं।  लड़कियों ने यह माना की टेस्ट में फेल होने के बाद वो बिना कंडोम के सेक्स करती है।

युवाओं के बीच किया गया यह अपनी तरह का पहला सर्वे है जिसमें लड़कियों के स्कूल की दिनचर्या और रिश्तों को लेकर आदतें समझने की कोशिश की गई है। ‘द जर्नल ऑफ एडोलिसेंट हेल्थ’ में यह स्टडी साझा की गई है। वहीं सुरक्ष‍ित यौन सम्बंध बनाने वाली लड़क‍ियों का शैक्ष‍िक प्रदर्शन बेहतर पाया गया।

शारारिक सम्बन्ध को लेकर लड़कों-लड़कियाें के बारे में ना जाने किस-किस तरह की बातें कहीं जातीं रही हैं और सोची जाती है। एक स्टडी के अनुसार टीनएजर्स लड़कियों के स्कूल की दिनचर्या और उनके सेक्सुअल रिलेशन के बीच अहम खुलासा हुआ है।  इंडियाना यूनिवर्सिटी ने स्कूली छात्राओं पर ये स्टडी किया है। इस स्टडी में स्कूल बंक करना, टेस्ट में फेल होना और बिना कंडोम के सेक्स के बीच संबंध निकाला है। जो वाकई सोचने पर मजबूर कर देगा। इंड‍ियाना यूनिवर्सिटी ने सेक्स के एक और सच पर्दा उठाने का दावा किया है । यह सर्वे 14 से 17 साल की लड़कियों पर किया गया है। 10 साल में पूरे हुए इस अध्ययन के लिए 387 लड़कियों की डायरियों से रोमांटिक और फिजिकल रिलेशन को लेकर उनके व्यवहार को समझने प्रयास किया गया। स्टडी में शामिल लड़कियां अपने हर छोटे-बड़े व्यवहार को रिसर्चर से साझा करती थीं। जो युवा लड़कियां स्कूल बंक करती हैं और टेस्ट में फेल होती हैं, ऐसी लड़कियां के स्कूल बंक करने और टेस्ट में फेल होने वाले दिन बिना कंडोम के सेक्स करने के मामले ज्यादा पाए गए हैं।  लड़कियों ने यह माना की टेस्ट में फेल होने के बाद वो बिना कंडोम के सेक्स करती है। युवाओं के बीच किया गया यह अपनी तरह का पहला सर्वे है जिसमें लड़कियों के स्कूल की दिनचर्या और रिश्तों को लेकर आदतें समझने की कोशिश की गई है। ‘द जर्नल ऑफ एडोलिसेंट हेल्थ’ में यह स्टडी साझा की गई है। वहीं सुरक्ष‍ित यौन सम्बंध बनाने वाली लड़क‍ियों का शैक्ष‍िक प्रदर्शन बेहतर पाया गया।