‘द क्विंट’ के संस्थापक राघव बहल के घर और दफ्तर पर इनकम टैक्स की छापेमारी

'द क्विंट' के संस्थापक राघव बहल के घर और दफ्तर पर इनकम टैक्स का छापेमारी
'द क्विंट' के संस्थापक राघव बहल के घर और दफ्तर पर इनकम टैक्स का छापेमारी

नई दिल्ली। आयकर विभाग ने गुरुवार को कथित टैक्स चोरी के मामले में ‘द क्विंट’ के सह-संस्थापक राघव बहल के घर और दफ्तर पर छापेमारी की। इनकम टैक्स विभाग की यह कार्रवाई टैक्स चोरी की आशंका पर हुई। उनके दिल्ली से सटे नोएडा वाले घर पर छापेमारी हुई। राघव बहल नेटवर्क 18 ग्रुप के संस्थापक रहे चुके हैं, इस वक्त द क्विंट वेबसाइट का संचालन करते हैं।

Income Tax Department Tax Raids Raghav Bahls Noida Home :

उधर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने द क्विंट के दफ्तर पर छापेमारी के सवाल कहा कि मुझे देखना पड़ेगा कि वह कौन सा मीडिया हाउस है। उसका कारण क्या है मुझे नहीं मालुम। मेरे ख्याल में हम लोकतंत्र की आज़ादी के पूरे पूरे पक्षधर हैं। हम लोगों ने एमरजेंसी का विरोध किया था। आज लोकतंत्र में मीडिया को आलोचना का पूरा अधिकार है। वो प्रधानमंत्री और सारे वरिष्ठ मंत्रियों की की आलोचना करते हैं और सवाल पूछते हैं लेकिन अगर किसी मीडिया हाउस ने कोई भ्रष्टाचार किया है उसकी जवाबदेही होगी। लेकिन मुझे तथ्यों की जानकारी लेनी होगी।

राघव बहल ने इस मामले पर कहा, ‘जब मैं मुंबई में था, तब सुबह आयकर विभाग के दर्जनों अधिकारी मेरे घर पर दफ्तर पर जांच करने के लिए पहुंचे। हम पूरी तरह से टैक्स चुकाते हैं। हम विभाग को मामले से जुड़े हर तरह के दस्तावेज उपलब्ध कराएंगे। मैंने एक अधिकारी मिस्टर यादव से बात करके अनुरोध किया है कि वह किसी भी अन्य दस्तावेज या मेल को न देखें या लें। इन डॉक्युमेंट में पत्रकारिता की संवेदनशील और गंभीर चीजे हैं। अगर उनके द्वारा ऐसा किया जाएगा, तो हम विरोध करेंगे। इस मामले को एडिटर्स गिल्ड आॅफ इंडिया के सामने उठाऊंगा और उम्मीद करता हूं कि मुझे उनसे सहयोग मिलेगा। साथ ही मैंने अधिकारियों से अनुरोध किया है कि वे अपने स्मार्टफोन का उपयोग करके किसी अन्य डॉक्युमेंट की फोटो न लें। मैं दिल्ली लौट रहा हूं।

नई दिल्ली। आयकर विभाग ने गुरुवार को कथित टैक्स चोरी के मामले में 'द क्विंट' के सह-संस्थापक राघव बहल के घर और दफ्तर पर छापेमारी की। इनकम टैक्स विभाग की यह कार्रवाई टैक्स चोरी की आशंका पर हुई। उनके दिल्ली से सटे नोएडा वाले घर पर छापेमारी हुई। राघव बहल नेटवर्क 18 ग्रुप के संस्थापक रहे चुके हैं, इस वक्त द क्विंट वेबसाइट का संचालन करते हैं।उधर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने द क्विंट के दफ्तर पर छापेमारी के सवाल कहा कि मुझे देखना पड़ेगा कि वह कौन सा मीडिया हाउस है। उसका कारण क्या है मुझे नहीं मालुम। मेरे ख्याल में हम लोकतंत्र की आज़ादी के पूरे पूरे पक्षधर हैं। हम लोगों ने एमरजेंसी का विरोध किया था। आज लोकतंत्र में मीडिया को आलोचना का पूरा अधिकार है। वो प्रधानमंत्री और सारे वरिष्ठ मंत्रियों की की आलोचना करते हैं और सवाल पूछते हैं लेकिन अगर किसी मीडिया हाउस ने कोई भ्रष्टाचार किया है उसकी जवाबदेही होगी। लेकिन मुझे तथ्यों की जानकारी लेनी होगी।राघव बहल ने इस मामले पर कहा, 'जब मैं मुंबई में था, तब सुबह आयकर विभाग के दर्जनों अधिकारी मेरे घर पर दफ्तर पर जांच करने के लिए पहुंचे। हम पूरी तरह से टैक्स चुकाते हैं। हम विभाग को मामले से जुड़े हर तरह के दस्तावेज उपलब्ध कराएंगे। मैंने एक अधिकारी मिस्टर यादव से बात करके अनुरोध किया है कि वह किसी भी अन्य दस्तावेज या मेल को न देखें या लें। इन डॉक्युमेंट में पत्रकारिता की संवेदनशील और गंभीर चीजे हैं। अगर उनके द्वारा ऐसा किया जाएगा, तो हम विरोध करेंगे। इस मामले को एडिटर्स गिल्ड आॅफ इंडिया के सामने उठाऊंगा और उम्मीद करता हूं कि मुझे उनसे सहयोग मिलेगा। साथ ही मैंने अधिकारियों से अनुरोध किया है कि वे अपने स्मार्टफोन का उपयोग करके किसी अन्य डॉक्युमेंट की फोटो न लें। मैं दिल्ली लौट रहा हूं।