कानपुर में सेल्स टैक्स अधिकारी के घर आयकर छापा, 10 करोड़ से ज्यादा की नगदी बरामद

लखनऊ। आयकर विभाग पिछले कुछ दिनों से देशभर में छापेमारी कर रह सरकारी अधिकारियों की तिजोरियां खंगाल रहा है। इसी क्रम बुधवार को कानपुर के ​एडिशनल कमिश्नर सेल्स टैक्स केशवलाल के ठिकाने पर शुरू हुई छापेमारी में गुरुवार तक 10 करोड़ रुपए और कई किलो सोने की बरामदगी हुई है। करीब 48 घंटे चली कार्रवाई में आयकर विभाग ने नोएडा समेंत कई मंहगे शहरों में कई संपत्तियों के दस्तावेज भी बरामद किए हैं। इसे बरामदगी को घूंस में ली गई सबसे बड़ी रकम की बरामदगी के रूप में देखा जा रहा है।




अलग-अलग मीडिया रिपोर्टस में केशवलाल के ठिकानों से करीब 18 करोड़ की नगदी नई करेंसी में जबकि कुछ रकम पुराने नोटों में मिलने के दावे किए गए है। इसके साथ ही केशवलाल और उनके परिजनों के नाम पर कई बैंक लॉकरों की जानकारी भी मिली है। ऐसा माना जा रहा है कि केशवलाल ने मोटी घूंस देकर कानपुर में तैनाती ली थी। पान मसाला कारोबारियों के हब के रूप में मशहूर कानपुर से कई करोंड का गुटखा बाजार में जाता है। गुटखा कारोबार कानपुर के सेल्स टैक्स अधिकारियों की कमाई का सबसे अहम जरिया है। गुटखा कारोबारी अपनी बिक्री से कम उत्पादन दिखा कर बड़े स्तर पर सेल्स टैक्स की चोरी करते हैं, जिसका बड़ा हिस्सा केशवलाल जैसे अधिकारियों की जेब में जाता है।




सूत्रों की माने तो केशवलाल को हिरासत में लेकर आयकर विभाग के अधिकारियों ने उनसे पूछताछ भी की है। उम्मीद की जा रही है कि केशवलाल की हैसियत भी 500 करोड़ से ज्यादा की निकलेगी। इस कार्रवाई के अलावा आयकर विभाग ने लखनऊ के जाने माने शताब्दी ट्रैवल्स के आॅफिस में भी छापेमारी की है। जहां से ​मिले सुराग के आधार पर टीम ने आरटीओ सुनीता वर्मा और उनके पति ज्वांइट कमिश्नर सेल्स टैक्स डीके वर्मा के आवास पर छापामार कर करीब 87 लाख रुपए बरामद किए हैं। आयकर अधिकारियों ने बरामद हुए दस्तावेजों के आधार पर शताब्दी ट्रैवल्स से सुनीता वर्मा और डीके वर्मा के कारोबारी जुड़ाव की उम्मीद जताई। शुरूआती जांच में शताब्दी ट्रैवल्स पर टैक्स में करीब 20 करोड़ का घालमेल करने की पुष्टि हुई है। शताब्दी ट्रैवल्स अपनी लग्जरी बसों के लिए अपनी अलग पहचान रखता है।