1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. पंजाब में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू, लॉकडाउन फेल होने पर अमरिंदर सरकार ने उठाया कदम

पंजाब में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू, लॉकडाउन फेल होने पर अमरिंदर सरकार ने उठाया कदम

By बलराम सिंह 
Updated Date

चंडीगढ़। पंजाब की कैप्टन अमरिंदर सरकार ने आगामी 31 मार्च तक पूरे प्रदेश में लॉक डाउन के आदेश जारी किए थे। सरकार का यह आदेश सोमवार को वह विफल हो गया। प्रदेश से हालात का जायजा लेने के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू लगा दिया है। कोरोना को लेकर यह कदम उठाने वाला पंजाब पहला राज्य बन गया है।

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सभी डिस्ट्रिक कलेक्टर को निर्देश दिए हैं कि वे अपने जिलों में कर्फ्यू का सख्ती से पालन कराएं। पंजाब में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या 22 पहुंच गई है। सोमवार को मोहाली में एक और महिला को कोरोना संक्रमण होने की पुष्टि हुई है। यह महिला फेज पांच की रहने वाली है। इस महिला के घर में चंडीगढ़ सेक्टर 21 निवासी संक्रमित युवती की दोस्त रहती थी। मामला सामने आने के बाद पुलिस ने उसके घर को कब्जे में ले लिया है। नगर निगम की टीमें सैनिटाइज कर रही हैं। अब मोहाली जिले में कोरोना पीड़ितों की संख्या 5 हो गई है।

सोमवार को सरकार ने घोषणा की कि प्रदेश के आईएएस अफसर अपनी एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री राहत फंड में जमा कराएंगे, ताकि प्रदेश में संक्रमित लोगों की मदद की जा सके और व्यवस्था बनाई रखी जा सके। राज्य सरकार की ओर से जारी बुलेटिन में बताया गया है कि पंजाब में 203 संदिग्ध मामलों के सैंपल लिए गए, जिनमें से 160 लोग निगेटिव पाए गए हैं। 22 लोगों के सैंपल की रिपोर्ट का इंतजार है।

बता दें कि पंजाब के नवांशहर में 14, मोहाली में पांच, होशियारपुर में दो और अमृतसर में एक व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाया गया है।इस बीच मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लोगों से कहा कि आप बीमारी को आगे नहीं बढ़ने देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी वैश्विक खतरे के रूप में सामने आई है। मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया कि उनकी सरकार चुनौती का सामना करने के लिए पूरी तरह तैयार है और अब तक के सभी संभावित एहतियाती कदम उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि हमें अपने राज्य और लोगों को किसी भी बड़े नुकसान से बचाने के लिए और कड़े प्रतिबंध लगाने सहित अन्य उपाय करने की आवश्यकता पड़ सकती है।

मुख्यमंत्री ने कहा जो लोग हाल ही में विदेश से लौटे हैं, उन्हें घर में एकांतवास से गुजरना है और बीमारी के किसी भी लक्षण के शुरू होने पर निकटतम सरकारी स्वास्थ्य सुविधा को रिपोर्ट करना जरूरी है। स्थानीय समुदाय को भी जनहित में इसे लागू करने में प्रशासन की सहायता करनी चाहिए।

कैप्टन अमरिंदर ने व्यापारियों और व्यवसायियों से न केवल आवश्यक वस्तुओं की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए, बल्कि किसी भी तरह की जमाखोरी और मुनाफाखोरी से बचने की अपील की। उन्होंने चेतावनी दी कि सरकार किसी को भी अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए स्थिति का अनुचित लाभ उठाने की अनुमति नहीं देगी।

वहीं, धारा 144 के तहत प्रतिबंधों को सख्ती से लागू करने के लिए डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कहा कि सभी जिलों में अतिरिक्त बल तैनात किए गए हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस कर्मी अपनी सुरक्षा के लिए सभी तरह की सावधानी बरतें, क्योंकि इस दौरान वे कई लोगों के संपर्क में आएंगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...