श्रीनगर में राज्यपाल ने फहराया तिरंगा, कहा-सेना की कार्रवाई से आतंकियों ने मानी हार

styapal malik
श्रीनगर में राज्यपाल ने फहराया तिरंगा, कहा-सेना की कार्रवाई से आतंकियों ने मानी हार

जम्मू। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर देशभर में जश्न का माहौल है। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने गुरुवार को श्रीनगर के शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में तिरंगा फहराया। ध्वजारोहण के बाद उन्होंने अर्धसैनिक बलों और जम्मू-कश्मीर पुलिस की परेड का निरीक्षण किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि केंद्र के फैसले के बाद लोगों को अपनी पहचान को लेकर चंतित होने की जरूरत नहीं है।

Independence Day Is Being Celebrated In Srinagar :

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, सशस्त्र बलों की सतत कार्रवाई से आतंकवादियों ने हार मान ली है। बता दें कि जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने के बाद यह पहला स्वतंत्रता दिवस है। राज्यपाल ने कहा कि, सरकार की नीति आतंकवाद को कतई बर्दाश्त नहीं करने की है। सशस्त्र बलों की सतत कार्रवाई से आतंकवादियों ने हार मान ली है। उन्होंने कहा कि, पत्थराव की घटनाओं में काफी हद तक कमी आई है।

वहीं, अनुच्छेद-370 के तहत राज्य को मिला विशेष दर्जा खत्म करने के मद्देनजर यहां प्रतिबंध लागू रहा। जम्मू-कश्मीर प्रशासन के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने बताया कि बुधवार को श्रीनगर सहित कश्मीर के विभिन्न हिस्सों में प्रतिबंधों में ढील दी गई। हालांकि,घाटी में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए कुछ प्रतिबंध जारी हैं।

जम्मू। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर देशभर में जश्न का माहौल है। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने गुरुवार को श्रीनगर के शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में तिरंगा फहराया। ध्वजारोहण के बाद उन्होंने अर्धसैनिक बलों और जम्मू-कश्मीर पुलिस की परेड का निरीक्षण किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि केंद्र के फैसले के बाद लोगों को अपनी पहचान को लेकर चंतित होने की जरूरत नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, सशस्त्र बलों की सतत कार्रवाई से आतंकवादियों ने हार मान ली है। बता दें कि जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने के बाद यह पहला स्वतंत्रता दिवस है। राज्यपाल ने कहा कि, सरकार की नीति आतंकवाद को कतई बर्दाश्त नहीं करने की है। सशस्त्र बलों की सतत कार्रवाई से आतंकवादियों ने हार मान ली है। उन्होंने कहा कि, पत्थराव की घटनाओं में काफी हद तक कमी आई है। वहीं, अनुच्छेद-370 के तहत राज्य को मिला विशेष दर्जा खत्म करने के मद्देनजर यहां प्रतिबंध लागू रहा। जम्मू-कश्मीर प्रशासन के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने बताया कि बुधवार को श्रीनगर सहित कश्मीर के विभिन्न हिस्सों में प्रतिबंधों में ढील दी गई। हालांकि,घाटी में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए कुछ प्रतिबंध जारी हैं।