मलेशिया पर और सख्त हुआ भारत, पॉम तेल के बाद इन उत्पादों पर भी रोक लगाने की तैयारी

narendra
मलेशिया पर और सख्त हुआ भारत, पॉम तेल के बाद इन उत्पादों पर भी रोक लगाने की तैयारी

नई दिल्ली। भारत सरकार की ओर से मलेशिया (Malaysia) पर सख्ती और बढ़ती जा रही है। नागरिकता संशोधन कानून और कश्मीर से जुड़े अनुच्छेद 370 के खिलाफ बयान देने के बाद ट्रेड वार (Trade war) गहरा सकता है। मलेशिया से पॉम तेल के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया था। इतना ही नहीं, अब मामले से जुड़े जानकारों का कहना है कि सरकार जल्द मलेशिया से आयात होने वाले माइक्रोप्रोसेसर, कम्प्यूटर पार्ट्स और टर्बोजेट्स पर भी रोक लगा सकती है।

India Becomes More Strict On Malaysia Preparations To Ban These Products After Palm Oil :

कई और चीज़ों के आयात पर बैन!

सूत्रों के मुताबिक भारत अब मलेशिया से आयात होने वाली कई और चीज़ों पर पाबंदी लगाने की तैयारी में है। कैबिनेट सचिव ने इसको लेकर वाणिज्य मंत्रालय को एक पत्र भी लिखा है। इसमें पाम ऑयल के अलावा पेट्रोलियम क्रूड ऑयल, रिफाइंड पाम ऑयल, क्रूड पाम ऑयल, कॉपर, एलुमिनियम वायर, माइक्रोप्रोसेसर, कम्प्यूटर के पार्ट्स और LNG शामिल हैं। इन चीज़ों के आयात में कटौती के चलते मलेशिया को भारी नुकसान पड़ सकता है।

मलेशिया की बौखलाहट

दावोस में चल रहे वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम की मीटिंग से मलेशिया के वाणिज्य मंत्री डारेल लेइकिंग भारतीय समकक्ष पीयूष गोयल से मुलाकात कर सकते हैं। माना जा रहा है कि पाम ऑयल के आयात पर बातचीत हो सकती है। मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने पिछले दिनों कहा था कि भारत को जवाब देने के लिए वो बहुत छोटा देश हैं। ऐसे में वह कोई समाधान निकालने की कोशिश करेंगे। भारत ने मलेशिया से पाम ऑयल की खरीददारी में कटौती कर दी है, जिसके बाद मलेशियाई पीएम की तरफ से ये बयान सामने आया।

भारत के खिलाफ बयानबाज़ी

पिछले कुछ समय मलेशिया कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने का विरोध कर रहा है। पिछले साल संयुक्त राष्ट्र महासभा में भी मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने का मुद्दा उठाया था। CAA पर बयान महातिर मोहम्मद ने कहा था,’स्वयं को धर्मनिरपेक्ष होने का दावा करने वाले भारत को देखकर मुझे दुख होता है कि अब वह कुछ मुसलमानों को नागरिकता से वंचित करने के लिए कदम उठा रहा है।’ इस  बयान के बाद विदेश मंत्रालय ने मलेशियाई उच्चायोग के इंचार्ज को तलब किया था।  

नई दिल्ली। भारत सरकार की ओर से मलेशिया (Malaysia) पर सख्ती और बढ़ती जा रही है। नागरिकता संशोधन कानून और कश्मीर से जुड़े अनुच्छेद 370 के खिलाफ बयान देने के बाद ट्रेड वार (Trade war) गहरा सकता है। मलेशिया से पॉम तेल के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया था। इतना ही नहीं, अब मामले से जुड़े जानकारों का कहना है कि सरकार जल्द मलेशिया से आयात होने वाले माइक्रोप्रोसेसर, कम्प्यूटर पार्ट्स और टर्बोजेट्स पर भी रोक लगा सकती है। कई और चीज़ों के आयात पर बैन! सूत्रों के मुताबिक भारत अब मलेशिया से आयात होने वाली कई और चीज़ों पर पाबंदी लगाने की तैयारी में है। कैबिनेट सचिव ने इसको लेकर वाणिज्य मंत्रालय को एक पत्र भी लिखा है। इसमें पाम ऑयल के अलावा पेट्रोलियम क्रूड ऑयल, रिफाइंड पाम ऑयल, क्रूड पाम ऑयल, कॉपर, एलुमिनियम वायर, माइक्रोप्रोसेसर, कम्प्यूटर के पार्ट्स और LNG शामिल हैं। इन चीज़ों के आयात में कटौती के चलते मलेशिया को भारी नुकसान पड़ सकता है। मलेशिया की बौखलाहट दावोस में चल रहे वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम की मीटिंग से मलेशिया के वाणिज्य मंत्री डारेल लेइकिंग भारतीय समकक्ष पीयूष गोयल से मुलाकात कर सकते हैं। माना जा रहा है कि पाम ऑयल के आयात पर बातचीत हो सकती है। मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने पिछले दिनों कहा था कि भारत को जवाब देने के लिए वो बहुत छोटा देश हैं। ऐसे में वह कोई समाधान निकालने की कोशिश करेंगे। भारत ने मलेशिया से पाम ऑयल की खरीददारी में कटौती कर दी है, जिसके बाद मलेशियाई पीएम की तरफ से ये बयान सामने आया। भारत के खिलाफ बयानबाज़ी पिछले कुछ समय मलेशिया कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने का विरोध कर रहा है। पिछले साल संयुक्त राष्ट्र महासभा में भी मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने का मुद्दा उठाया था। CAA पर बयान महातिर मोहम्मद ने कहा था,'स्वयं को धर्मनिरपेक्ष होने का दावा करने वाले भारत को देखकर मुझे दुख होता है कि अब वह कुछ मुसलमानों को नागरिकता से वंचित करने के लिए कदम उठा रहा है।' इस  बयान के बाद विदेश मंत्रालय ने मलेशियाई उच्चायोग के इंचार्ज को तलब किया था।