भारत बदल नहीं सकता, इसलिए सोंच को बदल डाला : पीएम मोदी

pm narendra modi
भारत बदल नहीं सकता, इसलिए सोंच को बदल डाला : पीएम मोदी

वाराणसी। प्रवासी भारतीय दिवस समारोह का का मंगलवार को पीएम मोदी और समेत तमाम वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने किया। इस दौरान उन्होने कहा कि भारत नहीं बदल सकता, इसलिए सोंच को बदल डाला। शुभारंभ करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आप सभी के सहयोग से बीते साढ़े चार वर्षो में भारत ने दुनिया में अपना स्वाभाविक स्थान पाने की दिशा में बड़ा कदम बढ़ाया है। उन्होने कहा कि दुनिया आज हमारी बातों को पूरी गंभीरता से सुन भी रही है और समझ भी रही है।

India Can Not Change We Have Changed This Thinking Says Pm Modi :

पीएम मोदी ने कहा कि भारत अनेक मामलों में दुनिया की अगुवाई करने की स्थिति में है। इस दौरान पीएम के अलावा मारीशस के पीएम जगन्नाथ, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, सीएम योगी आदित्यानाथ और विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने भी समारोह को संबोधित किया।

प्रवासी भारतीय दिवस समारोह में पीएम मोदी ने कहा कि अटल जी ने इस प्रवासी भारतीय दिवस समारोह का शुभारंभ किया था। उनके जाने के बाद पहली बार ये कार्यक्रम हो रहा है। उन्होने वहां मौजूद लोगों से कहा कि काशी और आप प्रवासी लोगों में एक समानता देख रहा हूं। काशी अपनी परंपरा से दुनिया में देश की पहचान कराती रही है। आप भी दुनिया में भारत और भारतीयता से परिचय करा रहे हैं।

वाराणसी। प्रवासी भारतीय दिवस समारोह का का मंगलवार को पीएम मोदी और समेत तमाम वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने किया। इस दौरान उन्होने कहा कि भारत नहीं बदल सकता, इसलिए सोंच को बदल डाला। शुभारंभ करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आप सभी के सहयोग से बीते साढ़े चार वर्षो में भारत ने दुनिया में अपना स्वाभाविक स्थान पाने की दिशा में बड़ा कदम बढ़ाया है। उन्होने कहा कि दुनिया आज हमारी बातों को पूरी गंभीरता से सुन भी रही है और समझ भी रही है।पीएम मोदी ने कहा कि भारत अनेक मामलों में दुनिया की अगुवाई करने की स्थिति में है। इस दौरान पीएम के अलावा मारीशस के पीएम जगन्नाथ, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, सीएम योगी आदित्यानाथ और विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने भी समारोह को संबोधित किया।प्रवासी भारतीय दिवस समारोह में पीएम मोदी ने कहा कि अटल जी ने इस प्रवासी भारतीय दिवस समारोह का शुभारंभ किया था। उनके जाने के बाद पहली बार ये कार्यक्रम हो रहा है। उन्होने वहां मौजूद लोगों से कहा कि काशी और आप प्रवासी लोगों में एक समानता देख रहा हूं। काशी अपनी परंपरा से दुनिया में देश की पहचान कराती रही है। आप भी दुनिया में भारत और भारतीयता से परिचय करा रहे हैं।