चीन ने कहा- हम नहीं चाहते बॉर्डर पर हालात बिगड़े, डोकलाम जैसी घटना फिर हो

चीन ने कहा- हम नहीं चाहते बॉर्डर पर हालात बिगड़े, डोकलाम जैसी घटना फिर हो
चीन ने कहा- हम नहीं चाहते बॉर्डर पर हालात बिगड़े, डोकलाम जैसी घटना फिर हो

नई दिल्ली। भारत में चीन के राजदूत लोउ झाओहुई (Luo Zhaohui) ने कहा है कि भारत और चीन दूसरा डोकलाम नहीं झेल सकते. उन्होंने कहा कि दो पड़ोसियों के बीच विवाद होना सामान्य बात है पर विवाद की बजाय एक-दूसरे से किन किन क्षेत्रों में सहयोग कर सकते हैं, इस पर ज़ोर देना चाहिए। इसका मतलब ये भी नहीं कि विवाद को नज़रअंदाज़ करना चाहिए।

डोकलाम पर कहा, दोबारा नहीं

लु ने कहा कि चीन, रूस और मंगोलिया के बीच ऐसी ही समिट हुई थी, मुझे ऐसा कोई कारण नहीं दिखता कि भारत, पाकिस्तान और चीन में ऐसा न हो सके। उन्होंने आगे कहा कि सीमाओं पर शांति सभी देशों के हित में है। भारत-चीन-भूटान ट्राइजंक्शन पर पिछले साल 73 दिनों तक चले गतिरोध के संदर्भ में उन्होंने कहा, ‘हम एक और डोकलाम की घटना नहीं दोहरा सकते हैं। ऐसे में सीमा पर शांति कायम करने के लिए सभी को मिलकर प्रयास करना चाहिए।’ लु ने ट्वीट किया कि ऐसे विवादों पर एक पारस्परिक स्वीकार्य समाधान की जरूरत है।

{ यह भी पढ़ें:- .... जब चीनी दूतावास में भेड़ों का झुंड लेकर पहुंच गए थे अटल बिहारी }

‘मतभेदों को कम करना होगा’

चीनी राजदूत ने ट्वीट किया, ‘हमें सहयोग बढ़ाकर मतभेदों को नियंत्रित और कम करने की जरूरत है। इतिहास के साथ ही सीमा का सवाल पीछे छूट चुका है। हमें विशेष प्रतिनिधियों की बैठकों के जरिए विश्वास बहाली के उपाय करने की जरूरत है, जिससे सभी को स्वीकार होने वाले समाधान निकाले जा सकें।’

उल्लेखनीय है कि पिछले साल जून से अगस्त तक भारत, भूटान और चीन सीमा के निकट दोकलम स्थित तिमुहाने पर दोनों देशों की सेनाओं के बीच 73 दिनों तक गतिरोध जारी रहा था। इस तनाव की वजह से नाथु-ला की ओर से कैलाश मानसरोवर यात्रा रोक दी गई थी। यही नहीं दोनों देशों के बीच होने वाला सालाना सैन्य अभ्यास भी टाल दिया गया था।

{ यह भी पढ़ें:- चीन ने लद्दाख के 400 मीटर क्षेत्र में की घुसपैठ, सीमा पर लगाए पांच टेंट }

भारतीय तीर्थयात्रियों के लिए व्यवस्था करेगा चीन

ल्यू झाओहुई ने कहा कि चीन लगातार धार्मिक आदान-प्रदान को बढ़ावा देगा। साथ ही तिब्बत में कैलाश मानसरोवर की यात्रा में भारतीय तीर्थयात्रियों के लिए व्यवस्था करेगा। उन्होंने बताया कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस साल होने वाले ब्रिक्स और जी-20 सम्मेलनों से इतर मिलेंगे।

नई दिल्ली। भारत में चीन के राजदूत लोउ झाओहुई (Luo Zhaohui) ने कहा है कि भारत और चीन दूसरा डोकलाम नहीं झेल सकते. उन्होंने कहा कि दो पड़ोसियों के बीच विवाद होना सामान्य बात है पर विवाद की बजाय एक-दूसरे से किन किन क्षेत्रों में सहयोग कर सकते हैं, इस पर ज़ोर देना चाहिए। इसका मतलब ये भी नहीं कि विवाद को नज़रअंदाज़ करना चाहिए। डोकलाम पर कहा, दोबारा नहीं लु ने कहा कि चीन, रूस और मंगोलिया के बीच…
Loading...