वैश्विक पर्यटन प्रतिस्पर्धा सूची जारी, 34वें स्थान पर पहुंचा भारत

वैश्विक पर्यटन प्रतिस्पर्धा सूची जारी, 34वें स्थान पर पहुंचा भारत
वैश्विक पर्यटन प्रतिस्पर्धा सूची जारी, 34वें स्थान पर पहुंचा भारत

नई दिल्ली। वैश्विक यात्रा एवं पर्यटन प्रतिस्पर्धा सूची जारी हो गई है जिसमें भारत की रैंकिंग छह अंक सुधरकर 34 हो गयी है। विश्व आर्थिक मंच यानि डब्ल्यूईएफ की बुधवार को जारी नवीनतम रिपोर्ट में यह सामने आया है कि वर्ष 2017 में यह रैकिंग 40वें स्थान पर थी जो अब 34 हो गयी है। इसके पीछे अहम वजह प्राकृतिक और सांस्कृतिक संसाधन के मामले में भारत का समृद्ध होना और कीमत के लिहाज से बेहद प्रतिस्पर्धी होना है।

India Climbs To 34th Position In Global Tourism Ranking :

सूची में यह देश भी हैं शामिल

  • चीन, मेक्सिको, मलेशिया, थाईलैंड, ब्राजील और भारत भले ही उच्च आय वाली अर्थव्यवस्था न हों लेकिन सांस्कृति संसाधन एवं व्यापारिक यात्रा खंड में शीर्ष 35 देशों में शामिल हैं।
  • इसकी प्रमुख वजह प्राकृतिक और सांस्कृतिक संसाधन के मामले में इनका समृद्ध होना और कीमत के लिहाज से प्रतिस्पर्धी होना है।
  • उप खंडों के लिहाज से बेहतर वातावरण खंड में भारत का 33वां, बुनियादी एवं बंदरगाह ढांचा में 28वां, अंतरराष्ट्रीय स्वीकार्यता में 51वां, प्राकृतिक सौंदर्य में 14वां और सांस्कृतिक संसाधन खंड में आठवां स्थान है।
  • वैश्विक यात्रा एवं पर्यटन प्रतिस्पर्धा सूचकांक में 140 देश शामिल है।
  • डब्ल्यूईएफ के इस सूचकांक में स्पेन शीर्ष पर रहा है।
  • इसके बाद क्रमश: फ्रांस, जर्मनी, जापान और अमेरिका शीर्ष पांच में शामिल है।
  • ब्रिटेन की रैंकिंग पांचवे स्थान से खिसककर छठे पर आ गयी है।
नई दिल्ली। वैश्विक यात्रा एवं पर्यटन प्रतिस्पर्धा सूची जारी हो गई है जिसमें भारत की रैंकिंग छह अंक सुधरकर 34 हो गयी है। विश्व आर्थिक मंच यानि डब्ल्यूईएफ की बुधवार को जारी नवीनतम रिपोर्ट में यह सामने आया है कि वर्ष 2017 में यह रैकिंग 40वें स्थान पर थी जो अब 34 हो गयी है। इसके पीछे अहम वजह प्राकृतिक और सांस्कृतिक संसाधन के मामले में भारत का समृद्ध होना और कीमत के लिहाज से बेहद प्रतिस्पर्धी होना है। सूची में यह देश भी हैं शामिल
  • चीन, मेक्सिको, मलेशिया, थाईलैंड, ब्राजील और भारत भले ही उच्च आय वाली अर्थव्यवस्था न हों लेकिन सांस्कृति संसाधन एवं व्यापारिक यात्रा खंड में शीर्ष 35 देशों में शामिल हैं।
  • इसकी प्रमुख वजह प्राकृतिक और सांस्कृतिक संसाधन के मामले में इनका समृद्ध होना और कीमत के लिहाज से प्रतिस्पर्धी होना है।
  • उप खंडों के लिहाज से बेहतर वातावरण खंड में भारत का 33वां, बुनियादी एवं बंदरगाह ढांचा में 28वां, अंतरराष्ट्रीय स्वीकार्यता में 51वां, प्राकृतिक सौंदर्य में 14वां और सांस्कृतिक संसाधन खंड में आठवां स्थान है।
  • वैश्विक यात्रा एवं पर्यटन प्रतिस्पर्धा सूचकांक में 140 देश शामिल है।
  • डब्ल्यूईएफ के इस सूचकांक में स्पेन शीर्ष पर रहा है।
  • इसके बाद क्रमश: फ्रांस, जर्मनी, जापान और अमेरिका शीर्ष पांच में शामिल है।
  • ब्रिटेन की रैंकिंग पांचवे स्थान से खिसककर छठे पर आ गयी है।