1. हिन्दी समाचार
  2. भारत में एक दिन में बढ़े सबसे ज्यादा मरीज, कोरोना संक्रमितो के ठीक होने की दर हुई 27.41 %

भारत में एक दिन में बढ़े सबसे ज्यादा मरीज, कोरोना संक्रमितो के ठीक होने की दर हुई 27.41 %

India Has The Highest Number Of Patients In A Single Day Corona Infectivity Rate Is 27 41

नई दिल्ली। कोरोना वायरस संक्रमण का 24 घंटे में अब तक का सबसे ज्यादा केस 3,900 आए हैं। मंगलवार को आयोजित नियमित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना के सबसे ज्यादा केस आए हैं और सबसे ज्यादा मौतें हुई हैं। उन्होंने कहा कि इस दौरान 195 लोगों की जान गई है। इसके बाद मृतकों की संख्या 1,389 थी जो बढ़ कर 1,568 हो गई। साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि कोरोना का रिकवरी रेट बढ़कर 27.41 फीसदी हो गया है।

पढ़ें :- बंगालः नारेबाजी से नाराज हुईं ममता बनर्जी, कहा-किसी को बुलाकर बेइज्जत करना ठीक नहीं

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, इन नए मामलों के आने के बाद अब देश में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 46,433 हो गई है। इनमें 32,138 एक्टिव केस हैं, 12727 लोगों को ठीक कर उन्हें घर भेजा जा चुका है जबकि 1568 लोगों को इस महामारी से मौत हो चुकी है। इधर, गृह मंत्रालय ने कहा कि सरकार विदेश में फंसे भारतीय को वापस लाएगी। उन्हें लाने की प्रक्रिया 7 मई से शुरू होगी। विदेश से आए इन लोगों को 14 दिनों तक क्वारनटीन में रहना होगा।

हर्ष वर्धन ने कहा, देश में अब तक कोविड-19 का सामुदायिक प्रसार नहीं

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्द्धन ने मंगलवार को कहा कि भारत अब तक कोविड-19 के सामुदायिक प्रसार को रोकने में कामयाब रहा है। साथ ही हर्षवर्धन ने उम्मीद जतायी कि कोरोना वायरस संकट के कारण लोगों की ‘आदत में जो बदलाव आया है, वह इस महामारी की रोकथाम के बाद एक स्वस्थ समाज के लिए ‘नया सामान्य आचरण’ होगा।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्द्धन ने पीटीआई-भाषा से कहा कि अगर भारतीय अपनी दिनचर्या में हाथ धोने, सांस संबंधी और पर्यावरण स्वच्छता की आदत को बरकरार रखते हैं, तो कोरोना वायरस संकट के समाप्त होने के बाद, भविष्य में जब देश महामारी के इस काल को देखेगा तो इन आदतों को वह ‘बुरे वक्त में मिला वरदान’ मान सकता है।लॉकडाउन के महत्व पर जोर देते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अर्थव्यवस्था की तरह ही स्वास्थ्य पर भी पूरा ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने कहा, ” सरकार को संतुलनकारी कार्य करना पड़ेगा।”

पढ़ें :- हमारे नेताजी भारत के पराक्रम की प्रतिमूर्ति भी हैं और प्रेरणा भी : पीएम मोदी

हर्षवर्धन ने कहा, ” एक बार जैसे ही वायरस की मार कम होगी और संकट खत्म होगा तो लोग, इस दौर में अपनाई गई अच्छी आदतों को, बुरे समय में मिले वरदान की तरह याद कर सकते हैं।” उन्होंने कहा कि अब तक भारत खुद को कोरोना वायरस के सामुदायिक प्रसार के चरण में जाने से रोकने में कामयाब रहा है।

हर्षवर्धन ने कहा, ” अब तक हम जान चुके हैं कि कोरोना वायरस से निपटना आसान नहीं है। इस बुरे समय में जिस तरह हम हाथ धोने, सांस संबंधी और साफ-सफाई आदि मानकों का बेहतर तरीके से पालन कर रहे हैं, अगर इसे समाज अपनी आदत में शामिल रखता है तो यह एक नया सकारात्मक बदलाव होगा।” उन्होंने जोर दिया कि स्वच्छता की ऐसी आदतों से भविष्य में भी संचारी रोगों के प्रसार में कमी आएगी।

मंत्री ने कहा कि चेचक और पोलियो की तरह अन्य विषाणुजनित संक्रमण को देश से पूरी तरह से खत्म नहीं किया जा सका है। अन्य बीमारियां अब भी हैं। उन्होंने संकेत दिया कि कोविड-19 का संक्रमण भी लंबे समय तक रह सकता है।

हर्षवर्धन ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण उपजे हालात को स्वास्थ्य क्षेत्र के बुनियादी ढांचे और स्वास्थ्य उपकरणों के उत्पादन में इजाफा होने के अवसर के तौर पर भी देखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के मद्देनजर व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों जैसे पीपीई किट और एन-95 मास्क के उत्पादन में बढ़ोत्तरी हुई है। साथ ही परीक्षण सुविधाओं में भी खासी वृद्धि हुई है।

सोमवार से शराब की बिक्री शुरू होने के बाद इसकी खरीद को लेकर उमड़ी भीड और सामाजिक नियमों के उल्लंघन को लेकर केंद्रीय मंत्री ने कहा, ” हमें हर फैसले पर निष्पक्षता से विचार करना होगा और उसके लागू होने से पहले ही इसके असर का अंदाजा लगाना होगा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि कोविड-19 के मामलों में बढ़ोत्तरी न हो।’ उन्होंने देश में मरीजों के स्वस्थ होने की दर को लेकर भी संतुष्टि जाहिर की।

पढ़ें :- शिल्पकारों और दस्तकारों के कला को निखार स्वदेशी के मंत्र को बल देंगे : मुख्यमंत्री

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...