यूएन में पाकिस्तान को भारत का जवाब, दिखाई शहीद फैय्याज की तस्वीर

न्यूयार्क। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) जनरल असेंबली में भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के वक्तव्य के बाद बौखलाए पाकिस्तान ने कश्मीर में पैलटगन विक्टिम की फर्जी तस्वीर को पेश कर दुनिया भर के सामने शर्मसार होना पड़ा। पाकिस्तान के लिए यह काफी नहीं था, भारत ने  पाकिस्तान के खिलाफ एक बार फिर राइट टू रिप्लाई का प्रयोग करते हुए, तस्वीर का जवाब तस्वीर से दिया। भारतीय डिप्लोमैट पौलोमी त्रिपाठी ने पाकिस्तान की ओर से फर्जी तस्वीर पेश करने वाली अधिकारी और कश्मीरी युवा अर्मी आफिसर फैय्याज की तस्वीर को यूएन असेंबली के सामने रखते हुए कहा कि पाकिस्तान का असली चेहरा यह है। वह आतंकवाद के विषय से दुनिया का ध्यान भटकाना चाहता है।

पौलोमी त्रिपाठी ने कहा कि पाकिस्तान सालों से कश्मीर को आतंकवाद का दर्द दे रहा है। बड़ा मजबूर होकर उन्हें कश्मीरी युवा अर्मी आफिसर फैय्याज की ये तस्वीर दिखानी पड़ रही है, जो पाकिस्तन की नीच हरकत को दिखाती। फैय्याज एक कश्मीरी युवा अर्मी आफिसर था जिसे मई 2017 में एक शादी समारोह से अपहरण कर, नृशंस तरीके से टॉर्चर किया गया और फिर उनकी हत्या कर दी गई। यह असली तस्वीर है। यह तस्वीर कड़वे और अफसोसनाक सच को उजागर करती है। सीमा पार से फैलाए जा रहे इस आतंकवाद से भारत के लोग, खास तौर पर जम्मू और कश्मीर के लोग रोजाना जूझ रहे हैं। यह वह सच्चाई है जिसे पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि छुपाने की कोशिश कर रही थीं। फैय्याज की यह तस्वीर बिलकुल असली है दो पाकिस्तान के दिए दर्द की दास्तां बयान करती है।

{ यह भी पढ़ें:- पाकिस्तान के इस काम से खुश होकर डोनाल्ड ट्रंप के मुंह से निकले मीठे बोल }

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान कश्मीर को लेकर झूठ फैलाने के लिए फर्जी तस्वीर का इस्तेमाल कर रहा है ताकि वैश्विक आतंकवाद में पाकिस्तान की भूमिका से दुनिया का ध्यान हटाया जा सके।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन की सबसे जूनियर डिप्लोमैट पौलोमी त्रिपाठी ने दो तस्वीरें दिखाईं। उनके एक हाथ में भारत के शहीद आर्मी अफसर उमर फैयाज की तस्वीर थी तो दूसरे में पाकिस्तान की प्रतिनिधि मलीहा लोधी की तस्वीर जिसमें वह फिलीस्तीन की एक महिला को कश्मीरी महिला बताती हुई नजर आ रही हैं। त्रिपाठी ने कहा कि पाकिस्तान का असली चेहरा अब किसी से छिपा नहीं रह गया है।

{ यह भी पढ़ें:- जवाबदेही अदालत के समक्ष पेश हुईं शरीफ की बेटी मरियम }

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की सबसे वरिष्ठ अधिकारी मलीहा लोधी को तगड़ा जवाब देने वाली भारत की पौलमी त्रिपाठी 2007 बैच की IFS ऑफिसर हैं। वह संयुक्त राष्ट्र के भारत के स्थायी मिशन की सबसे जूनियर अधिकारी हैं। मिशन का नेतृत्व वरिष्ठ अधिकारी सैयद अकबरुद्दीन करते हैं। पाकिस्तान को जवाब देने के लिए भारत ने पौलमी त्रिपाठी को काफी सोच समझकर चुना। त्रिपाठी भारत के स्थायी मिशन में मानवाधिकार का विषय देखती हैं।