कश्मीर पर डोनाल्ड ट्रंप की पेशकश पर भारत का जवाब, तीसरे पक्ष की जरूरत नहीं

ravish kumar
कश्मीर पर डोनाल्ड ट्रंप की पेशकश पर भारत का जवाब, तीसरे पक्ष की जरूरत नहीं

नई दिल्ली। स्विट्जरलैंड के दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (World Economic Forum) के इतर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) की मुलाकात हुई। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि हम भारत और पाकिस्तान के संबंध में कश्मीर को लेकर सोच रहे हैं और अगर हम मदद कर सकते हैं तो निश्चित रूप से ऐसा करेंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति को अब भारत ने दो टूक जवाब दिया है।

India Responds To Donald Trumps Offer On Kashmir No Third Party Needed :

रवीश कुमार ने कहा कि अगर भारत और पाकिस्तान में कोई द्विपक्षीय मुद्दे हैं, जिन पर चर्चा करने की आवश्यकता है, तो इसे शिमला समझौते और लाहौर घोषणा के प्रावधानों के तहत 2 देशों के बीच किया जाना चाहिए। लेकिन इसके लिए पाकिस्तान को आतंक और हिंसा से मुक्त माहौल बनाना होगा।

बता दें कि एक दिन पहले दावोस में ट्रंप से मुलाकात के बाद पत्रकारों से बात करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि वह कश्मीर के हालात पर करीब से नजर बनाए हुए हैं।अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इमरान खान के साथ मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, ‘हम कश्मीर पर भी बात कर रहे हैं कि वहां भारत और पाकिस्तान के बीच क्या हो रहा है। अगर हम इस पर कोई मदद कर सकते हैं तो जरूर करेंगे। हम इस पर बेहद करीब से नजर बनाए हुए हैं।’

पिछले साल अगस्त में जम्मू कश्मीर को मिले विशेष राज्य का दर्जा खत्म होने और उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटे जाने के बाद ट्रंप ने चौथी बार कश्मीर पर मदद का प्रस्ताव दिया है। हालांकि भारत स्‍पष्‍ट कर चुका है कि कश्‍मीर भारत-पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय मुद्दा है और इसमें किसी तीसरे देश की मध्‍यस्‍थता स्‍वीकार नहीं है।

नई दिल्ली। स्विट्जरलैंड के दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (World Economic Forum) के इतर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) की मुलाकात हुई। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि हम भारत और पाकिस्तान के संबंध में कश्मीर को लेकर सोच रहे हैं और अगर हम मदद कर सकते हैं तो निश्चित रूप से ऐसा करेंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति को अब भारत ने दो टूक जवाब दिया है। रवीश कुमार ने कहा कि अगर भारत और पाकिस्तान में कोई द्विपक्षीय मुद्दे हैं, जिन पर चर्चा करने की आवश्यकता है, तो इसे शिमला समझौते और लाहौर घोषणा के प्रावधानों के तहत 2 देशों के बीच किया जाना चाहिए। लेकिन इसके लिए पाकिस्तान को आतंक और हिंसा से मुक्त माहौल बनाना होगा। बता दें कि एक दिन पहले दावोस में ट्रंप से मुलाकात के बाद पत्रकारों से बात करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि वह कश्मीर के हालात पर करीब से नजर बनाए हुए हैं।अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इमरान खान के साथ मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, 'हम कश्मीर पर भी बात कर रहे हैं कि वहां भारत और पाकिस्तान के बीच क्या हो रहा है। अगर हम इस पर कोई मदद कर सकते हैं तो जरूर करेंगे। हम इस पर बेहद करीब से नजर बनाए हुए हैं।' पिछले साल अगस्त में जम्मू कश्मीर को मिले विशेष राज्य का दर्जा खत्म होने और उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटे जाने के बाद ट्रंप ने चौथी बार कश्मीर पर मदद का प्रस्ताव दिया है। हालांकि भारत स्‍पष्‍ट कर चुका है कि कश्‍मीर भारत-पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय मुद्दा है और इसमें किसी तीसरे देश की मध्‍यस्‍थता स्‍वीकार नहीं है।