संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तानी पीएम के आरोपों पर भारत का पलटवार

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तानी पीएम के आरोपों पर भारत का पलटवार

नई दिल्ली। अमेरिका के न्यूयार्क में चल रहे संयुक्त राष्ट्र संघ के 72वें अधिवेशन में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी की ओर से भारत पर लगाए गए तमाम आरोपों पर भारत ने मुंह तोड़ जवाब दिया है। पाकिस्तान की ओर से भारत शासित कश्मीर में मानवाधिकार के उल्लंघन, सीजफायर तोड़ने और पाकिस्तान में चरमपंथियों को मदद देने के आरोप लगाए। जिसका जवाब देते हुए भारत ने कहा कि पाकिस्तान जिसे पवित्र जमीन कहा जाता है आज आतंक की जमीन बन चुका है। जहां चरमपंथी और आतंकवादी खुलेआम और बेखौफ घूम रहे हैं। विदेश से मिलने वाली करोड़ों डॉलर की मदद को पाकिस्तान आतंकवादियों को संरक्षण देने पर खर्च कर रहा है।

भारत ने कहा ​कि पाकिस्तान एक ऐसा देश है जो भारत पर चरमपंथ को मदद देने के आरोप लगाता है जबकि ओसामा बिन लादेन उनकी जमीन पर शरण पाता है।  हाफिज सईद जैसे संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकवादी पाकिस्तान में सियासी पार्टी बनान कर अपनी राजनीतिक पकड़ बनाने में जुटे हैं। पाकिस्तान की सेना भी ऐसे आतंकवादियों को संरक्षण दे रही है। पाकिस्तान अब टेररिस्तान बन चुका है जहां केवल चरमपंथ फलफूल रहा है।

{ यह भी पढ़ें:- GST सही या गलत गुजरात चुनाव के नतीजे बताएंगे: अरुण जेटली }

कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान की ओर से लगाए गए आरोपों का जवाब देते हुए भारत ने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और हमेशा रहेगा। पाकिस्तान को यह बात समझ लेना चाहिए कि भारत कश्मीर में होने वाले घुसपैठ को भारत रोकता रहेगा।

इसके साथ ही भारत ने कहा कि पाकिस्तान खुद को अंतरराष्ट्रीय सहायता के रूप में मिलने वाली लाखों डॉलर की रकम को चरमपंथियों पर लुटा रहा है। पाकिस्तान पूरी तरह से असफल देश है, जहां लोकतंत्र और मानवाधिकार चरमपंथियों का गुलाम बन चुका है। पाकिस्तान को चाहिए कि वह अपनी जमीन पर हो रही आतंकवादी गतिविधियों पर रोक लगाकर मानवा और शांति के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को अमल में लाए। जिससे पाकिस्तान को भी विश्व के अन्य देशों की तरह ही वैश्विक मंचों पर जगह मिल सके।

{ यह भी पढ़ें:- पाकिस्तान के इस काम से खुश होकर डोनाल्ड ट्रंप के मुंह से निकले मीठे बोल }