1. हिन्दी समाचार
  2. भारत ने रूस से की 200 करोड़ की एंटी टैंक मिसाइल डील, 3 महीने में होगी डिलीवरी

भारत ने रूस से की 200 करोड़ की एंटी टैंक मिसाइल डील, 3 महीने में होगी डिलीवरी

India Russia Sign 200 Crore Anti Tanks Missile Deal

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। देश को युद्ध जैसी स्थिति में तैयार रखने के लिए कदम आगे बढ़ाते हुए भारत ने रूस के साथ 200 करोड़ की एंटी टैंक मिसाइल डील साइन की है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, आपातकालीन नियमों के तहत रूस से एंटी-टैंक मिसाइल के लिए डील हुई है, जिसके अंतर्गत समझौते के तीन महीने के भीतर ही मिसाइलों की सप्लाई की जाएगी।

पढ़ें :- सरकारी नौकरी: नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन ने निकाली कई पदों पर भर्ती, अप्लाई करने की ये है लास्ट डेट

सरकार के सूत्रों ने बताया, ‘ऐंटी-टैंक मिसाइल ‘स्त्रम अटाका’ को अधिग्रहित करने की डील इस शर्त के साथ साइन की गई है कि दस्तावेजों पर हस्ताक्षर होने के 3 महीने के भीतर ही इसकी सप्लाई करनी होगी।’ अधिकारी ने बताया कि दोनों देशों के बीच यह डील करीब 200 करोड़ रुपये में फाइनल हुई है। इसके बाद भारत के एमआई-35 चॉपर्स शत्रु के टैंक और दूसरे हथियारबंद वाहनों पर हमला कर सकेंगे।

एमआई-35 भारतीय वायुसेना के हमलावर चॉपर हैं। इन चॉपर को अमेरिका के अपाचे गनशिप्स से रिप्लेस किया जाएगा। भारत रशियन मिसाइल को अधिग्रहित करने की योजना लंबे समय से बना रही थी, लेकिन करीब एक दशक के बाद यह डील खास शर्त के साथ साइन की गई।

सेना युद्ध की स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहेगी

पिछले हफ्ते रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की मौजूदगी में आपातकालीन प्रावधानों के तहत तीनों सेनाओं की ओर से की जाने वाली खरीदारी के बारे में एक प्रजेंटेशन हुआ था। इसमें आपातकालीन प्रावधानों का इस्तेमाल कर हथियार खरीदने में भारतीय वायुसेना आगे रही।

पढ़ें :- Lungs Cancer के बाद संजय दत्त लिया नया अवतार, तस्वीरें देख फैंस के उड़े होश

सरकार के सूत्र के मुताबिक, तुरंत युद्ध की स्थिति के मद्देनजर आपातकालीन प्रावधान के तहत वायुसेना ने कई देशों के साथ स्पाइस 2000 स्टैंड ऑफ वेपन सिस्टम और कई स्पेयर और एयर टू एयर मिसाइल की डील की है।

फ्रांस से भी मिसाइल खरीदेगा भारत

भारतीय सेना फ्रांस से स्पाइक एंटी टैंक मिसाइल खरीदने की प्रक्रिया में है। साथ ही रूस से एयर डिफेंस मिसाइल तत्काल प्रभाव से खरीदने जा रही है। सूत्र के मुताबिक, 14 फरवरी को हुए पुलवामा हमले के कुछ दिनों के बाद ही तीनों सेनाओं को आपातकालीन शक्तियां दी गई थीं। इसके तहत सेना अपने जरूरत के हिसाब से 300 करोड़ रुपए के हथियार खरीद सकती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...