चीन से तनाव के बीच भारत खरीदेगा रूस से 33 फाइटर प्लेन, रक्षा मंत्रालय ने दी मंजूरी

air force
चीन से तनाव के बीच भारत खरीदेगा रूस से 33 फाइटर प्लेन, रक्षा मंत्रालय ने दी मंजूरी

नई दिल्ली। चीन से तनाव के बीच भारत सरकार लगातार सेना की ताकत बढ़ाने में जुटी है। चीन से तनाव के बीच भारत सरकार ने तीनों सेनाओं को गोला बारूद और हथियार खरीदने के लिए आपातकालीन वित्तीय शक्ति प्रदान की थी। वहीं, अब भारत और रूस के बीच बड़ी डिफेंस डील हुई है। गुरुवार रक्षामंत्रालय ने बताया कि रूस से 33 नए लड़ाकू विमान खरीदने पर मंजूरी हो गयी है।

India To Buy 33 Fighter Plane From Russia Amid Tension From China Ministry Of Defense Approved :

भारत रूस से 12 नए सुखोई-30 और 21 नए मिग-29 लड़ाकू विमान खरीदेगा। इसके अलावा 59 मौजूदा मिग—29 को अपग्रेड किया जायेगा। रक्षा मंत्रालय ने बताया कि इसमें कुल 18,148 करोड़ रुपये की लागत आएगी। दोनों देशों के बीच होने वाली इस बड़ी और महत्वपूर्ण डील का फैसला डिफेंस एक्जिविशन काउंसिल ने लिया है। रक्षा मंत्रालय ने 248 अस्त्र एयर मिसाइल की खरीदी की भी इजाजत दी।

यह भारतीय वायु सेना और नौसेना दोनों के काम आ सकेगी। इसके साथ ही डीआरडीओ द्वारा बनाई गई एक हजार किलोमीटर रेंज वाली क्रूज मिसाइल के डिजाइन को भी मंजूरी मिल गई है। बता दें कि, फ्रांस जल्द ही भारत को राफेल विमानों की डिलीवरी करने जा रहा है।

भारतीय वायुसेना के ‘विशेष निवेदन’ के बाद फ्रांस इन विमानों को समय से पहले भारत भेजेगा। 27 जुलाई को छह राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप आएगी। पहले चार विमानों को पहली खेप में आना था। ऐसे में भारत की वायुसेना की ताकत पहले के मुकाबले काफी बढ़ जाएगी।

नई दिल्ली। चीन से तनाव के बीच भारत सरकार लगातार सेना की ताकत बढ़ाने में जुटी है। चीन से तनाव के बीच भारत सरकार ने तीनों सेनाओं को गोला बारूद और हथियार खरीदने के लिए आपातकालीन वित्तीय शक्ति प्रदान की थी। वहीं, अब भारत और रूस के बीच बड़ी डिफेंस डील हुई है। गुरुवार रक्षामंत्रालय ने बताया कि रूस से 33 नए लड़ाकू विमान खरीदने पर मंजूरी हो गयी है। भारत रूस से 12 नए सुखोई-30 और 21 नए मिग-29 लड़ाकू विमान खरीदेगा। इसके अलावा 59 मौजूदा मिग—29 को अपग्रेड किया जायेगा। रक्षा मंत्रालय ने बताया कि इसमें कुल 18,148 करोड़ रुपये की लागत आएगी। दोनों देशों के बीच होने वाली इस बड़ी और महत्वपूर्ण डील का फैसला डिफेंस एक्जिविशन काउंसिल ने लिया है। रक्षा मंत्रालय ने 248 अस्त्र एयर मिसाइल की खरीदी की भी इजाजत दी। यह भारतीय वायु सेना और नौसेना दोनों के काम आ सकेगी। इसके साथ ही डीआरडीओ द्वारा बनाई गई एक हजार किलोमीटर रेंज वाली क्रूज मिसाइल के डिजाइन को भी मंजूरी मिल गई है। बता दें कि, फ्रांस जल्द ही भारत को राफेल विमानों की डिलीवरी करने जा रहा है। भारतीय वायुसेना के 'विशेष निवेदन' के बाद फ्रांस इन विमानों को समय से पहले भारत भेजेगा। 27 जुलाई को छह राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप आएगी। पहले चार विमानों को पहली खेप में आना था। ऐसे में भारत की वायुसेना की ताकत पहले के मुकाबले काफी बढ़ जाएगी।