कोरोना: ऑस्ट्रेलिया में बॉर्डर सील, भारत की टी20 वर्ल्‍ड कप की तैयारियों को लगा झटका!

virat
कोरोना: ऑस्ट्रेलिया में बॉर्डर सील, भारत की टी20 वर्ल्‍ड कप की तैयारियों को लगा झटका!

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलियाई सरकार के कोविड-19 महामारी के चलते अगले छह महीनों के लिए अपनी सीमा बंद रखने के फैसले का प्रतिकूल असर भारत के भविष्य दौरा कार्यक्रम (एफटीपी) पर पड़ सकता है जिसमें इस साल के अंत में ऑस्ट्रेलिया टूर भी शामिल है। भारत का ऑस्ट्रेलियाई दौरा अक्टूबर में टी20 त्रिकोणीय सीरीज से शुरू होकर दिसंबर में टेस्ट सीरीज के साथ खत्म होना था।

India Vs Australia Six Month Travel Ban India Tour Of Australia Affected :

ऑस्ट्रेलिया में कोविड-19 से 2000 से ज्यादा लोग संक्रमित हैं जबकि 16 लोगों की मौत हो चुकी है जिससे सरकार ने देश की सीमाओं को बंद कर दिया है। सौरव गांगुली की अगुआई वाली बीसीसीआई को इस महामारी के चलते वैकल्पिक योजना बनानी पड़ सकती है। बीसीसीआई को अभी हालांकि आईपीएल के इस चरण के आयोजन पर भी अंतिम फैसला करना है और अंतरराष्ट्रीय कैलेंडर भी चिंता का विषय है क्योंकि इसमें श्रीलंका (वनडे और टी20), जिम्बाब्वे दौरा, एशिया कप (टी20) और इंग्लैंड के खिलाफ सफेद गेंद की सीरीज शामिल है।

यात्रा संबंधित छह महीने के प्रतिबंध का मतलब है कि आगामी दिनों में होने वाले टूर्नामेंट के लिये किसी भी टीम को आस्ट्रेलिया में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जायेगी जिसमें विश्व टी20 और भारतीय टीम का दौरा शामिल है। इसकी जानकारी रखने वाले बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर पीटीआई से कहा कि इस समय कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। यह संभवत: छह महीने की यात्रा पांबदी है। अगर हालात काबू में आ जाते हैं तो इसे कम किया जा सकता है।

लेकिन जिन्हें एफटीपी कैलेंडर का अंदाजा है, उन्होंने स्वीकार किया कि ऐसे हालात में व्यावहारिक समस्या टी20 त्रिकोणीय श्रृंखला में हो सकती है जो अक्टूबर में शुरू होगी जिसमें आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड भी शामिल हैं। बीसीसीआई के एक अन्य सूत्र ने कहा कि अगर अंतरराष्ट्रीय यात्रा पांबदी छह महीने तक जारी रहती है तो यह लाजिस्टिकल दुस्वप्न हो जायेगा। कम से कम टी20 त्रिकोणीय सीरीज के लिए जो विश्व टी20 से पहले होगी।

उन्होंने कहा कि वीजा और टिकट बनवाना, सब काफी चुनौतीपूर्ण हो जायेगा। सिर्फ ऑस्ट्रेलिया ही नहीं, इंग्लैंड को भी सितंबर में सफेद गेंद की सीरीज के लिए भारत का दौरा करना है। ब्रिटेन में चीजें सामान्य होंगी तभी खिलाड़ियों को यात्रा की अनुमति दी जायेगी। ये बड़े सवाल हैं।

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलियाई सरकार के कोविड-19 महामारी के चलते अगले छह महीनों के लिए अपनी सीमा बंद रखने के फैसले का प्रतिकूल असर भारत के भविष्य दौरा कार्यक्रम (एफटीपी) पर पड़ सकता है जिसमें इस साल के अंत में ऑस्ट्रेलिया टूर भी शामिल है। भारत का ऑस्ट्रेलियाई दौरा अक्टूबर में टी20 त्रिकोणीय सीरीज से शुरू होकर दिसंबर में टेस्ट सीरीज के साथ खत्म होना था। ऑस्ट्रेलिया में कोविड-19 से 2000 से ज्यादा लोग संक्रमित हैं जबकि 16 लोगों की मौत हो चुकी है जिससे सरकार ने देश की सीमाओं को बंद कर दिया है। सौरव गांगुली की अगुआई वाली बीसीसीआई को इस महामारी के चलते वैकल्पिक योजना बनानी पड़ सकती है। बीसीसीआई को अभी हालांकि आईपीएल के इस चरण के आयोजन पर भी अंतिम फैसला करना है और अंतरराष्ट्रीय कैलेंडर भी चिंता का विषय है क्योंकि इसमें श्रीलंका (वनडे और टी20), जिम्बाब्वे दौरा, एशिया कप (टी20) और इंग्लैंड के खिलाफ सफेद गेंद की सीरीज शामिल है। यात्रा संबंधित छह महीने के प्रतिबंध का मतलब है कि आगामी दिनों में होने वाले टूर्नामेंट के लिये किसी भी टीम को आस्ट्रेलिया में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जायेगी जिसमें विश्व टी20 और भारतीय टीम का दौरा शामिल है। इसकी जानकारी रखने वाले बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर पीटीआई से कहा कि इस समय कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। यह संभवत: छह महीने की यात्रा पांबदी है। अगर हालात काबू में आ जाते हैं तो इसे कम किया जा सकता है। लेकिन जिन्हें एफटीपी कैलेंडर का अंदाजा है, उन्होंने स्वीकार किया कि ऐसे हालात में व्यावहारिक समस्या टी20 त्रिकोणीय श्रृंखला में हो सकती है जो अक्टूबर में शुरू होगी जिसमें आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड भी शामिल हैं। बीसीसीआई के एक अन्य सूत्र ने कहा कि अगर अंतरराष्ट्रीय यात्रा पांबदी छह महीने तक जारी रहती है तो यह लाजिस्टिकल दुस्वप्न हो जायेगा। कम से कम टी20 त्रिकोणीय सीरीज के लिए जो विश्व टी20 से पहले होगी। उन्होंने कहा कि वीजा और टिकट बनवाना, सब काफी चुनौतीपूर्ण हो जायेगा। सिर्फ ऑस्ट्रेलिया ही नहीं, इंग्लैंड को भी सितंबर में सफेद गेंद की सीरीज के लिए भारत का दौरा करना है। ब्रिटेन में चीजें सामान्य होंगी तभी खिलाड़ियों को यात्रा की अनुमति दी जायेगी। ये बड़े सवाल हैं।