वर्ष 2028 तक दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा टूरिज्म इकोनॉमी वाला देश होगा भारत

दुनिया ,सबसे बड़ा टूरिज्म इकोनॉमी वाला देश, भारत
वर्ष 2028 तक दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा टूरिज्म इकोनॉमी वाला देश होगा भारत

नई दिल्ली। वर्ष 2028 तक दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा टूरिज्म इकोनॉमी वाला देश बन सकता है भारत। वर्ल्ड ट्रैवल एंड टूरिज्म काउंसिल (डब्ल्यूटीटीसी) की रिपोर्ट के अनुसार देश की कुल जीडीपी और टूरिज्म से होने वाली आय के आंकड़ों के विश्लेषण के आधार पर यह बात कही है। डब्ल्यूटीटीसी द्वारा गुरुवार को जारी की गयी रिपोर्ट के अनुसार 2028 तक टूरिज्म के क्षेत्र में भारत में 1 करोड़ नई नौकरियां पैदा होंगी। वहीं ट्रैवल एंड टूरिज्म में सीधे और परोक्ष रूप से नौकरियां 2028 में 42.9 मिलियन से बढ़कर 52.3 मिलियन हो जाएंगी।

India Will Be 3rd Largest Tourism Economy In 2028 :

मौजूदा समय में भारत को दुनिया का सातवां सबसे बड़ा टूरिज्म इकोनॉमी वाला देश करार दिया गया है। वहीं यह भी कहा जा रहा है कि टूरिज्म इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार होने की संभावनाएं बढ़ सकती हैं। डब्ल्यूटीटीसी की अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी ग्लोरिया गुएवारा ने कहा कि भारत को अपने टूरिज्म इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर बनाने के लिए काम करना चाहिए। वैश्विक परिप्रेक्ष्य में टूरिज्म एक प्रतिस्पर्धी कारोबार है। भारत के पूर्वी और पश्चिमी पड़ोसी देशों की बात करें तो उन्होंने एयरपोर्ट्स, बंदरगाहों और हाईस्पीड रेल और रोड नेटवर्क के जरिए वर्ल्ड क्लास इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार किया है।

ग्लोरिया ने सरकार के देश को एक वैश्विक क्रूज बनाने की महत्वाकांक्षा का स्वागत किया जिसके तहत मुंबई में एक नया क्रूज बनाया जाएगा। उन्होंने कहा- सरकार ने कुछ अत्यंत सक्रिय कदम उठाए हैं जिसके जरिए अतंर्राष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित किया जा सके। 163 देशों के लिए ई-वीजा की सुविधा शुरू करना और इन्क्रेडिबल इंडिया 2.0 कैंपेन को अच्छी मार्केटिंग और पीआर रणनीति के साथ लॉन्च करना भी एक अच्छा कदम है।

नई दिल्ली। वर्ष 2028 तक दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा टूरिज्म इकोनॉमी वाला देश बन सकता है भारत। वर्ल्ड ट्रैवल एंड टूरिज्म काउंसिल (डब्ल्यूटीटीसी) की रिपोर्ट के अनुसार देश की कुल जीडीपी और टूरिज्म से होने वाली आय के आंकड़ों के विश्लेषण के आधार पर यह बात कही है। डब्ल्यूटीटीसी द्वारा गुरुवार को जारी की गयी रिपोर्ट के अनुसार 2028 तक टूरिज्म के क्षेत्र में भारत में 1 करोड़ नई नौकरियां पैदा होंगी। वहीं ट्रैवल एंड टूरिज्म में सीधे और परोक्ष रूप से नौकरियां 2028 में 42.9 मिलियन से बढ़कर 52.3 मिलियन हो जाएंगी। मौजूदा समय में भारत को दुनिया का सातवां सबसे बड़ा टूरिज्म इकोनॉमी वाला देश करार दिया गया है। वहीं यह भी कहा जा रहा है कि टूरिज्म इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार होने की संभावनाएं बढ़ सकती हैं। डब्ल्यूटीटीसी की अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी ग्लोरिया गुएवारा ने कहा कि भारत को अपने टूरिज्म इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर बनाने के लिए काम करना चाहिए। वैश्विक परिप्रेक्ष्य में टूरिज्म एक प्रतिस्पर्धी कारोबार है। भारत के पूर्वी और पश्चिमी पड़ोसी देशों की बात करें तो उन्होंने एयरपोर्ट्स, बंदरगाहों और हाईस्पीड रेल और रोड नेटवर्क के जरिए वर्ल्ड क्लास इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार किया है।ग्लोरिया ने सरकार के देश को एक वैश्विक क्रूज बनाने की महत्वाकांक्षा का स्वागत किया जिसके तहत मुंबई में एक नया क्रूज बनाया जाएगा। उन्होंने कहा- सरकार ने कुछ अत्यंत सक्रिय कदम उठाए हैं जिसके जरिए अतंर्राष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित किया जा सके। 163 देशों के लिए ई-वीजा की सुविधा शुरू करना और इन्क्रेडिबल इंडिया 2.0 कैंपेन को अच्छी मार्केटिंग और पीआर रणनीति के साथ लॉन्च करना भी एक अच्छा कदम है।