वर्ष 2028 तक दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगा भारत

economy

नई दिल्ली। वर्ष 2028 तक भारत जापान को पीछे छोड़ कर विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बनने वाला है। इस बात का दावा बैंक ऑफ फर्म से जुड़ी एक रिपोर्ट में किया गया है। हाल्ङ्कि अभी भारत को टॉप तीन की सूची में आने के लिए 11 साल का वक्त लगेगा।

India Will Become Third Largest Economy Of World :

बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंक फर्म की सोमवार को आई रिपोर्ट के अनुसार भारत पहले ही ब्राजील और रूस को पीछे छोड़ ब्रिक्स देशों में चीन के बाद दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन चुका है। भारत 2019 तक फ्रांस और ब्रिटेन को पिछाड़ कर जर्मनी के बाद विश्व का पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा।

रिपोर्ट में बताया गया है कि निर्भरता अनुपात में गिरावट, फाइनेंसियल मैच्युरिटी और लोगों की बढ़ती आय को देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा है कि भारत तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में शामिल होगा। 2028 में भारत का निर्भरता अनुपात का प्रतिशत 46.2 फीसदी रह जाएगा जबकि अभी ये अनुपात 52.2 फीसदी है। इस वजह से जीडीपी की बजत दर 32 फीसदी तक रह सकती है। इसकी तुलना 2000-17 से की जाए तो ये 31.4 फीसदी रही है। इसी के आधार पर रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि भारत 7.1 फीसदी की विकास दर से आगे निकलकर 10 फीसदी की विकास दर से आगे बढ़ेगा।

नई दिल्ली। वर्ष 2028 तक भारत जापान को पीछे छोड़ कर विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बनने वाला है। इस बात का दावा बैंक ऑफ फर्म से जुड़ी एक रिपोर्ट में किया गया है। हाल्ङ्कि अभी भारत को टॉप तीन की सूची में आने के लिए 11 साल का वक्त लगेगा।बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंक फर्म की सोमवार को आई रिपोर्ट के अनुसार भारत पहले ही ब्राजील और रूस को पीछे छोड़ ब्रिक्स देशों में चीन के बाद दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन चुका है। भारत 2019 तक फ्रांस और ब्रिटेन को पिछाड़ कर जर्मनी के बाद विश्व का पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा।रिपोर्ट में बताया गया है कि निर्भरता अनुपात में गिरावट, फाइनेंसियल मैच्युरिटी और लोगों की बढ़ती आय को देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा है कि भारत तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में शामिल होगा। 2028 में भारत का निर्भरता अनुपात का प्रतिशत 46.2 फीसदी रह जाएगा जबकि अभी ये अनुपात 52.2 फीसदी है। इस वजह से जीडीपी की बजत दर 32 फीसदी तक रह सकती है। इसकी तुलना 2000-17 से की जाए तो ये 31.4 फीसदी रही है। इसी के आधार पर रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि भारत 7.1 फीसदी की विकास दर से आगे निकलकर 10 फीसदी की विकास दर से आगे बढ़ेगा।