देश 26/11 के मुंबई हमले को नहीं भूल सकता: पीएम मोदी

पीएम मोदी

India Will Never Forget 2611 Mumbai Terrorist Attack Says Pm Modi

नई दिल्ली। महीने के आखिरी रविवार को मन की बात रोडियो कार्यक्रम के माध्यम से देश की जनता से संवाद कर रहे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि 26/11 को मुंबई पर हुए आतंकी हमलों में जानगंवाने वाले जवानों और आम नागरिकों की शहादत को हमारा देश नहीं भूल सकता। जिस 26/11 को हम संविधान दिवस के रूप में मनाते हैं, उसी तारीख के साथ आज से नौ साल पहले एक गंदी याद जोड़ दी गई। जिसे भुलाया नहीं जा सकता।

देश अपने उन बहादुर नागरिकों, पुलिसकर्मियों, सुरक्षाकर्मी और हर उस इंसान को स्मरण करता है, जिन्होंने इस हमले में अपनी जानें गंवाई, यह देश कभी उनके बलिदान को नहीं भूल सकता।

पीएम मोदी ने कहा कि आज आतंकवाद ने भयंकर रूप अख्तियार कर लिया है। आतंकवाद ने मानवता को चुनौती दी है और भारत 40 साल से इसके खिलाफ लड़ रहा है। उन्होंने अपील की कि दुनिया मिलकर आतंकवाद का खात्मा करे।

पीएम मोदी ने बताया कि 4 दिसम्बर को हम सब नौ-सेना दिवस मनाएंगे। भारतीय नौ-सेना, हमारे समुद्र-तटों की रक्षा और सुरक्षा प्रदान करती है। मैं, नौ-सेना से जुड़े सभी लोगों का अभिनंदन करता हूं। इस साल सिंतबर में रोहिंग्या मामले में हमारी नौसेना ने बांग्लादेश में सहायता पहुंचाई थी।

‘मन की बात’ की 38वीं कड़ी के जरिये पीएम मोदी जनता से जुड़े मुद्दों पर बात करते हैं। शनिवार को पीएम मोदी ने आम जनता से सुझाव के तौर पर संदेश भी मांगे थे।

उन्होंने आम जनता से अनुरोध किया था कि वह इस बार भी पिछली बार की तरह ही बढ़-चढ़कर हिस्सा लें। मोदी ने जनता से नरेंद्र मोदी मोबाइल ऐप के जरिये भी अपना संदेश साझा करने की बात कही। प्रधानमंत्री ने जनता से सुझाव लेने को लेकर एक ट्वीट भी किया, उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि आप अपने सुझाव मुझ तक पहुंचाने के लिए 1800-11-7800 नंबर भी डायल करे सकते हैं, साथ ही अपना संदेश रिकॉर्ड करके भी भेज सकते हैं।

नई दिल्ली। महीने के आखिरी रविवार को मन की बात रोडियो कार्यक्रम के माध्यम से देश की जनता से संवाद कर रहे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि 26/11 को मुंबई पर हुए आतंकी हमलों में जानगंवाने वाले जवानों और आम नागरिकों की शहादत को हमारा देश नहीं भूल सकता। जिस 26/11 को हम संविधान दिवस के रूप में मनाते हैं, उसी तारीख के साथ आज से नौ साल पहले एक गंदी याद जोड़ दी गई। जिसे भुलाया नहीं जा…