भारत अपने सैनिकों की शहादत का अब ऐसे बदला लेगा !

3-39

नई दिल्ली: लद्दाख के गलवान इलाके में भारत और चीन की सेना के बीच खूनी संघर्ष में भारत में 20 सैनिक शहीद हो गए। चीन के इस धोखे के बाद पूरे देश में गुस्से का माहौल है। भारत ने अभीतक इस मामले पर सधी प्रतिक्रिया दी है। लेकिन नई दिल्ली अपने सैनिकों की शहादत का बदला लेने की पूरी तैयारी कर रहा है। सूत्रों के मुताबिक पेइचिंग की इस हिमाकत का बदला भारत बड़ी तैयारी के साथ लेने वाला है।

India Will Now Take Revenge For The Martyrdom Of Its Soldiers :

आर्थिक मोर्चे पर घेरेगा भारत
1975 के बाद भारत और चीन के बीच सबसे बड़े खूनी संघर्ष के बाद दोनों देशों के संबंध बेहद नाजुक स्थिति में पहुंच गए हैं। चीन के धोखे का जवाब देने के लिए भारत बड़ी तैयारी कर रहा है। भारत सैन्य से ज्यादा चीन को आर्थिक मोर्चे पर घेरने की तैयारी कर रहा है। ड्रैगन को घेरने के लिए भारत ने पूरी बिसात बिछा ली है। क्षेत्रीय से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पेइचिंग को अलग-थलग करने की तैयारी।

UN में चीन को अलग-थलग करेगा भारत
दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है। ऐसे में नरेंद्र मोदी सरकार पेइचिंग को कोई मोर्चे पर घेरने की रणनीति पर काम कर ही है। संयुक्त राष्ट्र में चीन को अलग-थलग करने के लिए नई योजना पर काम कर रहा है।

आर्थिक मोर्चे पर भारत यूं देगा चीन को मात
अभीतक चीनी निवेश प्रस्ताव को तेजी से इजाजत दे रहा भारत अब इस रणनीति को धीमा करेगा। खबरों के मुताबिक सरकार चीन को भारत के मार्केट में बड़ा झटका देने की तैयारी कर चुकी है। चीनी कंपनियों को अब सरकारी या निजी क्षेत्र में जल्द कोई अनुबंध नहीं मिलने वाला है।

मोबाइल कंपनियों को भी लगेगा झटका
सबसे खास बात ये है कि चीन की बड़ी मोबाइल कंपनी हुवेई को भारत के 5जी मार्केट में एंट्री की अनुमति मिलने की उम्मीद लगभग खत्म हो गई है।

जानें गलवान घाटी में क्या हुआ था।
सोमवार सुबह ब्रिगेड कमांडर लेवल के साथ लोकल कमांडर लेवल की मीटिंग हुई। कमांडिंग अफसर (कर्नल) ने चीन के लोकल कमांडर से बात की। शाम को भारतीय सेना के ऑफिसर टीम के साथ गलवान वैली में पीपी-14 पहुंचे जहां से चीनी सैनिकों को पीछे हटना था। ऐसा बातचीत में तय हुआ था। तब वहां 10-12 चीनी सैनिक थे।

अचानक बहुत से सैनिक आए। भारतीय ऑफिसर और उनके दो जवानों पर पत्थरों और लोहे की रॉड से हमला बोल दिया। भारतीय सैनिक चौंक गए और इसका जवाब दिया गया। भारी संख्या में भारतीय सैनिक भी उस पॉइंट पर पहुंचे और आधी रात तक हिंसक झड़प चलती रही। इस घटना में भारत के 20 जवान शहीद हो गए जबकि चीन के 43 सैनिकों के मारे जाने की खबर है।

नई दिल्ली: लद्दाख के गलवान इलाके में भारत और चीन की सेना के बीच खूनी संघर्ष में भारत में 20 सैनिक शहीद हो गए। चीन के इस धोखे के बाद पूरे देश में गुस्से का माहौल है। भारत ने अभीतक इस मामले पर सधी प्रतिक्रिया दी है। लेकिन नई दिल्ली अपने सैनिकों की शहादत का बदला लेने की पूरी तैयारी कर रहा है। सूत्रों के मुताबिक पेइचिंग की इस हिमाकत का बदला भारत बड़ी तैयारी के साथ लेने वाला है। आर्थिक मोर्चे पर घेरेगा भारत 1975 के बाद भारत और चीन के बीच सबसे बड़े खूनी संघर्ष के बाद दोनों देशों के संबंध बेहद नाजुक स्थिति में पहुंच गए हैं। चीन के धोखे का जवाब देने के लिए भारत बड़ी तैयारी कर रहा है। भारत सैन्य से ज्यादा चीन को आर्थिक मोर्चे पर घेरने की तैयारी कर रहा है। ड्रैगन को घेरने के लिए भारत ने पूरी बिसात बिछा ली है। क्षेत्रीय से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पेइचिंग को अलग-थलग करने की तैयारी। UN में चीन को अलग-थलग करेगा भारत दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है। ऐसे में नरेंद्र मोदी सरकार पेइचिंग को कोई मोर्चे पर घेरने की रणनीति पर काम कर ही है। संयुक्त राष्ट्र में चीन को अलग-थलग करने के लिए नई योजना पर काम कर रहा है। आर्थिक मोर्चे पर भारत यूं देगा चीन को मात अभीतक चीनी निवेश प्रस्ताव को तेजी से इजाजत दे रहा भारत अब इस रणनीति को धीमा करेगा। खबरों के मुताबिक सरकार चीन को भारत के मार्केट में बड़ा झटका देने की तैयारी कर चुकी है। चीनी कंपनियों को अब सरकारी या निजी क्षेत्र में जल्द कोई अनुबंध नहीं मिलने वाला है। मोबाइल कंपनियों को भी लगेगा झटका सबसे खास बात ये है कि चीन की बड़ी मोबाइल कंपनी हुवेई को भारत के 5जी मार्केट में एंट्री की अनुमति मिलने की उम्मीद लगभग खत्म हो गई है। जानें गलवान घाटी में क्या हुआ था। सोमवार सुबह ब्रिगेड कमांडर लेवल के साथ लोकल कमांडर लेवल की मीटिंग हुई। कमांडिंग अफसर (कर्नल) ने चीन के लोकल कमांडर से बात की। शाम को भारतीय सेना के ऑफिसर टीम के साथ गलवान वैली में पीपी-14 पहुंचे जहां से चीनी सैनिकों को पीछे हटना था। ऐसा बातचीत में तय हुआ था। तब वहां 10-12 चीनी सैनिक थे। अचानक बहुत से सैनिक आए। भारतीय ऑफिसर और उनके दो जवानों पर पत्थरों और लोहे की रॉड से हमला बोल दिया। भारतीय सैनिक चौंक गए और इसका जवाब दिया गया। भारी संख्या में भारतीय सैनिक भी उस पॉइंट पर पहुंचे और आधी रात तक हिंसक झड़प चलती रही। इस घटना में भारत के 20 जवान शहीद हो गए जबकि चीन के 43 सैनिकों के मारे जाने की खबर है।