1. हिन्दी समाचार
  2. #IndvsAus: ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने वाला पहला एशियाई देश बना भारत

#IndvsAus: ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने वाला पहला एशियाई देश बना भारत

India Win First Test Series In Australia Virat Kohli Led Team India Beat Australia

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। विराट कोहली वाली भारतीय क्रिकेट टीम ने ऑस्ट्रेलिया में इतिहास रच दिया है। सिडनी में खेले गए सीरीज के चौथे और आखिरी टेस्ट मैच को बारिश के कारण ड्रॉ घोषित कर दिया। इसके साथ ही टीम इंडिया ने कंगारुओं को उन्हीं के घर में मात देकर 2-1 से टेस्ट सीरीज अपने नाम की भारत को टेस्ट सीरीज जिताने में सबसे अहम रोल चेतेश्वर पुजारा और जसप्रीत बुमराह का रहा।

पढ़ें :- इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले टेस्ट सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान, इनको मिली जगह

चेतेश्वर पुजारा ने जहां इस टेस्ट सीरीज में 521 रन बनाए वहीं जसप्रीत बुमराह ने भारत की ओर से सर्वाधिक 21 विकेट झटके। चेतेश्वर पुजारा को उनके यादगार प्रदर्शन के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज के पुरस्कार से नवाजा गया। वहीं, टेस्ट में विराट कोहली की कप्तानी में भारत ने विदेश में चौथी और कुल 11वीं सीरीज जीती है।

चेतेश्वर पुजारा को उनके शानदार खेल के लिए मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज घोषित किया गया। तीन शतक के सात उन्होंने सीरीज में 521 रन बनाए। चौथे टेस्ट के पांचवें दिन बारिश के कारण खेल नहीं हो सका। पहला सत्र बारिश की भेंट चढ़ गया था। ऐसे में चायकाल से पहले दोनों टीमों के कप्तानों के बीच मैच को बराबरी पर समाप्त करने पर सहमति बन गई। इससे पहले मैच की पहली पारी में भारत ने चेतेश्वर पुजारा (193), ऋषभ पंत (नाबाद 159), रवींद्र जडेजा (81) और मंयक अग्रवाल (77) की लाजवाब पारियों के दम पर पहली पारी में विशाल स्कोर खड़ा किया था।

भारत ने दूसरे दिन 7 विकेट पर 622 रन बनाकर अपनी पारी घोषित कर दी थी। इसके बाद कंगारू टीम को 300 रन पर ढेर करने के बाद उसे फॉलोऑन खेलने को कहा। इसके बाद बारिश की वजह से ज्यादा खेल नहीं हो सका और ऑस्ट्रेलिया अपनी दूसरी पारी में बगौर कोई विकेट खोए 6 रन बना सका यूं तो भारतीय क्रिकेट टीम ने ऑस्ट्रेलिया का पहला दौरा साल 1947-48 में लाला अमरनाथ की कप्तानी में किया। उस समय कंगारू टीम के कप्तान सर डॉन ब्रेडमैन थे। तब लेकर 2018-19 तक टीम इंडिया 12 बार ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज खेलने गई लेकिन हर टेस्ट सीरीज के बाद भारत को निराशा हाथ लगी।

1977-78 में भारत ने बिशन सिंह बेदी की कप्तानी में लगातार 2 टेस्ट जीतकर ऑस्ट्रेलिया की बराबरी की जरूर लेकिन अंतिम टेस्ट में टीम इंडिया को हार का सामना करना पड़ा और भारत उस 5 टेस्ट मैच की सीरीज में 3-2 से हार गया। उस सीरीज के बाद से टीम इंडिया ने सुनील गावस्कर, कपिल देव, मोहम्मद अजरूद्दीन, सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली, अनिल कुंबले, महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई में ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया लेकिन इनमें से कोई भी कप्तान भारत को टेस्ट सीरीज में जीत नहीं दिला सका।

इस बार विराट कोहली कोहली को नेतृत्व वाली भारतीय क्रिकेट टीम से इतिहास रचने की उम्मीदें थीं जो विराट की कप्तानी में साकार भी हुई। इस तरह 70 साल बाद क्रिकेट के पन्नों में एक स्वर्णिम अध्याय जुड़ा गया। ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर टेस्ट सीरीज में मिली यह जीत निश्चित तौर पर आने वाले मैचों के लिए उत्प्रेरक का काम करेगी।

ये हैं दोनों टीमें

भारत: विराट कोहली (कप्तान), मयंक अग्रवाल, लोकेश राहुल, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, हनुमा विहारी, ऋषभ पंत, रवींद्र जडेजा, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह और कुलदीप यादव।

ऑस्ट्रेलिया: टिम पेन (कप्तान), मार्कस हैरिस, उस्मान ख्वाजा, ट्रेविस हेड, शान मार्श, नाथन लियोन, मिशेल स्टार्क, पैट कमिंस, मार्नस लाबुशेन, जोश हेजलवुड और पीटर हैंड्सकोम्ब।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...