भारतीय सेना ने पेश की मानवता की मिसाल, सौंपा पाकिस्तानी बच्चे का शव

indain army
भारतीय सेना ने पेश की मानवता की मिसाल, प्रोटोकॉल तोड़ 8 साल के बच्चे का शव पाकिस्तान को लौटाया

नई दिल्ली। जम्मू—कश्मीर के गुरेज सेक्टर में गुरुवार बांदीपोर जिले के किशनगंगा नदी में एक आठ वर्ष के बच्चे का शव बरामद हुआ। जांच में सामने आया कि मृत बच्चा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) निवासी था, जो बीते दिनों लापता हुआ था। बच्चे का शव मिलने के बाद भारतीय सेना ने प्रोटोकॉल तोड़कर पाकिस्तानी सेना के जरिए बच्चे के शव को उसके परिजनों तक पहुंचाया। भारतीय सेना ने यह काम करके मानवता की मिसाल पेश की है।

Indian Army Introduced Humanitys Example Broke Protocol Returned 8 Year Old Childs Body To Pakistan :

भारत—पाक ​सीमा पर कश्मीर के बांदीपोरा जिले के अचूरा गांव से बहने वाली किशनगंगा नदी में पीओके निवासी 8 वर्षीय आबिद शेख का शव दिखा। स्थानीय लोगों ने शव देख पुलिस और स्थानीय प्रशासन को इसकी सूचना दी। मौके पर पहुंची सेना ने आबिद के शव को नदी से बाहर निकाला और उसकी पहचान कराई। शिनाख्त होने के बाद भारतीय सेना ने इसकी सूचना हॉटलाइन पर पाकिस्तान प्रशासन को दी।

इसके बाद बच्चे की शिनाख्त गिलगिट के मूल निवासी के रूप में हुई। मृत बच्चे के परिवारिजनों ने भारतीय सेना से उसके शव को वापस लौटने की मांग की। जिसके बाद सेना ने निर्धारित प्रोटोकॉल तोड़कर पाकिस्तान सेना से फ्लैग मीटिंग करके गुरुवार को बच्चे के शव को सौंप दिया। मृत बच्चे के परिवार ने भारतीय सेना के प्रति आभार व्यक्त किया।

नई दिल्ली। जम्मू—कश्मीर के गुरेज सेक्टर में गुरुवार बांदीपोर जिले के किशनगंगा नदी में एक आठ वर्ष के बच्चे का शव बरामद हुआ। जांच में सामने आया कि मृत बच्चा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) निवासी था, जो बीते दिनों लापता हुआ था। बच्चे का शव मिलने के बाद भारतीय सेना ने प्रोटोकॉल तोड़कर पाकिस्तानी सेना के जरिए बच्चे के शव को उसके परिजनों तक पहुंचाया। भारतीय सेना ने यह काम करके मानवता की मिसाल पेश की है। भारत—पाक ​सीमा पर कश्मीर के बांदीपोरा जिले के अचूरा गांव से बहने वाली किशनगंगा नदी में पीओके निवासी 8 वर्षीय आबिद शेख का शव दिखा। स्थानीय लोगों ने शव देख पुलिस और स्थानीय प्रशासन को इसकी सूचना दी। मौके पर पहुंची सेना ने आबिद के शव को नदी से बाहर निकाला और उसकी पहचान कराई। शिनाख्त होने के बाद भारतीय सेना ने इसकी सूचना हॉटलाइन पर पाकिस्तान प्रशासन को दी। इसके बाद बच्चे की शिनाख्त गिलगिट के मूल निवासी के रूप में हुई। मृत बच्चे के परिवारिजनों ने भारतीय सेना से उसके शव को वापस लौटने की मांग की। जिसके बाद सेना ने निर्धारित प्रोटोकॉल तोड़कर पाकिस्तान सेना से फ्लैग मीटिंग करके गुरुवार को बच्चे के शव को सौंप दिया। मृत बच्चे के परिवार ने भारतीय सेना के प्रति आभार व्यक्त किया।