भारतीय सेना को मिलेंगे नई तकनीकी वाले पिठ्ठू बैग

Army will get backpack
भारतीय सेना को मिलेंगे नई तकनीकी वाले पिठ्ठू बैग

नई दिल्ली। रक्षा मंत्रालय ने भारतीय सेना को नई तकनीकि वाले पिठ्ठू बैग मोहईया करवाने के लिए आउटडोर गियर और ट्रेक-ट्रैवल परिधान कंपनी वाइल्डक्राफ्ट इंडिया से करार किया है। भारतीय सेना के जवान जल्द ही नई तकनीकी वाले पिठ्ठू बैग से लैस दिखाई देंगे। इन बैग्स में पहले से ज्यादा जगह होगी साथ ही यह कठिन परिस्थितियों और मौसम में जवानों की मददगार भी होंगी। जो सैनिकों को बीहड़ इलाकों में सहायता प्रदान करेंगी।

Indian Army Will Get Backpack With New Technology :

भारतीय सेना की एलीट कमांडो यूनिट और जवान लंबे मिशन पर जाने के लिए इस तरह के बैग्स का इस्तेमाल करते हैं। भारतीय रक्षा मंत्रालय लंबे समय से सेना के लिए एक उन्नत किस्म के बैग की तलाश कर रहा था। बताया जा रहा है कि बंगलूरू की यह कंपनी पिछले पांच साल से रक्षा मंत्रालय के साथ बातचीत कर रही थी। वाइल्डक्राफ्ट इंडिया के कोफाउंडर सिद्धार्थ सूद के अनुसार, हमने भारतीय सेना के लिए रूकसैक बनाने का मंत्रालय से कई मिलियन डॉलर का ऑर्डर प्राप्त किया है।

कंपनी का कहना है कि 2020 तक सप्लाई शुरू हो जायेगी। इन बैग्स की मदद से भारतीय जवान चुनौतीपूर्ण इलाके में अधिक से अधिक समय बिता सकते हैं। बताया जा रहा है पड़ोसी देशों के संभावित खतरों को देखते हुए रक्षा मंत्रालय सेना के आधुनिकीकरण पर जोर दे रहा है।
यही नही इसी क्रम में सुरक्षाबलों के अत्याधुनिक हथियार और साजो-सामान को फास्ट ट्रैक प्रक्रिया के तहत खरीदा जा रहा है।

नई दिल्ली। रक्षा मंत्रालय ने भारतीय सेना को नई तकनीकि वाले पिठ्ठू बैग मोहईया करवाने के लिए आउटडोर गियर और ट्रेक-ट्रैवल परिधान कंपनी वाइल्डक्राफ्ट इंडिया से करार किया है। भारतीय सेना के जवान जल्द ही नई तकनीकी वाले पिठ्ठू बैग से लैस दिखाई देंगे। इन बैग्स में पहले से ज्यादा जगह होगी साथ ही यह कठिन परिस्थितियों और मौसम में जवानों की मददगार भी होंगी। जो सैनिकों को बीहड़ इलाकों में सहायता प्रदान करेंगी। भारतीय सेना की एलीट कमांडो यूनिट और जवान लंबे मिशन पर जाने के लिए इस तरह के बैग्स का इस्तेमाल करते हैं। भारतीय रक्षा मंत्रालय लंबे समय से सेना के लिए एक उन्नत किस्म के बैग की तलाश कर रहा था। बताया जा रहा है कि बंगलूरू की यह कंपनी पिछले पांच साल से रक्षा मंत्रालय के साथ बातचीत कर रही थी। वाइल्डक्राफ्ट इंडिया के कोफाउंडर सिद्धार्थ सूद के अनुसार, हमने भारतीय सेना के लिए रूकसैक बनाने का मंत्रालय से कई मिलियन डॉलर का ऑर्डर प्राप्त किया है। कंपनी का कहना है कि 2020 तक सप्लाई शुरू हो जायेगी। इन बैग्स की मदद से भारतीय जवान चुनौतीपूर्ण इलाके में अधिक से अधिक समय बिता सकते हैं। बताया जा रहा है पड़ोसी देशों के संभावित खतरों को देखते हुए रक्षा मंत्रालय सेना के आधुनिकीकरण पर जोर दे रहा है। यही नही इसी क्रम में सुरक्षाबलों के अत्याधुनिक हथियार और साजो-सामान को फास्ट ट्रैक प्रक्रिया के तहत खरीदा जा रहा है।