भारतीय कंपनी ने बनाई खास तकनीक, अस्पताल में ही मारे जाएंगे covid-19 के वायरस!

hhh-696x366

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की महामारी से पूरी दुनिया परेशान है। सभी देश अपनी मौजूदा स्थिति के अनुसार कोरोना से लड़ रहे हैं। भारत सरकार भी बड़े लेवल पर काम कर रही है। वहीं टाटा और रिलायंस जैसी देश की तमाम कंपनियां भी वेंटिलेटर्स और डॉक्टर्स की सुरक्षा किट बनाने पर काम कर रही हैं। इसी बीच JClean वेदर नाम की कंपनी ने एक ऐसी तकनीक विकसित करने का दावा किया है जिसके जरिए कोरोना से संक्रमित छोटे कमरे और छोटी जगह को वायरस मुक्त कर सकती है।

Indian Company Made Special Technology Covid 19 Virus Will Be Killed In Hospital Itself :

JClean वेदर ने इस तकनीक का नाम Scitech Airon रखा है और इस तकनीक पर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के साथ बड़े लेवल पर काम चल रहा है। इस कंपनी का ऑफिस पुणे में है। इस तकनीक को निधि प्रयास प्रोग्राम के तहत तैयार किया जा रहा है। कंपनी का दावा है कि Scitech Airon की मदद से किसी छोटी-सी जगह पर मौजूद वायरस को एक घंटे में 99.7 फीसदी तक खत्म किया जा सकता है। इस तकनीक का इस्तेमाल कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों के अस्पताल को वायरस मुक्त करने में किया जाएगा।

Airon की टेस्टिंग कई अंतरराष्ट्रीय लैब, छोटी जगह, अस्पताल, स्कूल और फर्म में हो चुकी है। Airon बैक्टीरिया, विषाणु और हानिकारक बैक्ट्रीरिया को मारने में सक्षम है। इसके अलावा यह कार्बन मोनोऑक्साइज, नाइट्रोजन डाईऑक्साइड जैसे जहरीले गैस को भी खत्म करता है। खबरों की माने तो JClean को इस तकनीक के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की ओर से एक करोड़ रुपये भी मिले हैं। कंपनी का दावा है कि 1,000 यूनिट्स तैयार हैं जिन्हें जल्द ही महाराष्ट्र के तमाम अस्पतालों में इंस्टॉल किया जाएगा।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की महामारी से पूरी दुनिया परेशान है। सभी देश अपनी मौजूदा स्थिति के अनुसार कोरोना से लड़ रहे हैं। भारत सरकार भी बड़े लेवल पर काम कर रही है। वहीं टाटा और रिलायंस जैसी देश की तमाम कंपनियां भी वेंटिलेटर्स और डॉक्टर्स की सुरक्षा किट बनाने पर काम कर रही हैं। इसी बीच JClean वेदर नाम की कंपनी ने एक ऐसी तकनीक विकसित करने का दावा किया है जिसके जरिए कोरोना से संक्रमित छोटे कमरे और छोटी जगह को वायरस मुक्त कर सकती है। JClean वेदर ने इस तकनीक का नाम Scitech Airon रखा है और इस तकनीक पर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के साथ बड़े लेवल पर काम चल रहा है। इस कंपनी का ऑफिस पुणे में है। इस तकनीक को निधि प्रयास प्रोग्राम के तहत तैयार किया जा रहा है। कंपनी का दावा है कि Scitech Airon की मदद से किसी छोटी-सी जगह पर मौजूद वायरस को एक घंटे में 99.7 फीसदी तक खत्म किया जा सकता है। इस तकनीक का इस्तेमाल कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों के अस्पताल को वायरस मुक्त करने में किया जाएगा। Airon की टेस्टिंग कई अंतरराष्ट्रीय लैब, छोटी जगह, अस्पताल, स्कूल और फर्म में हो चुकी है। Airon बैक्टीरिया, विषाणु और हानिकारक बैक्ट्रीरिया को मारने में सक्षम है। इसके अलावा यह कार्बन मोनोऑक्साइज, नाइट्रोजन डाईऑक्साइड जैसे जहरीले गैस को भी खत्म करता है। खबरों की माने तो JClean को इस तकनीक के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की ओर से एक करोड़ रुपये भी मिले हैं। कंपनी का दावा है कि 1,000 यूनिट्स तैयार हैं जिन्हें जल्द ही महाराष्ट्र के तमाम अस्पतालों में इंस्टॉल किया जाएगा।