फीफा विश्व कप: भारत ने हार कर भी जीत लिया दर्शकों का दिल

नई दिल्ली। दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में भारत और अमेरिका के बीच शुक्रवार को फीफा अंडर-17 वर्ल्ड कप का ऐतिहासिक फुटबॉल मुकाबला खेला गया। पहले मैच में यूएसए ने मेजबान भारत को 3-0 से हरा दिया। भले ही भारतीय टीम यह मैच हार गयी लेकिन अपने खेल से दर्शकों का दिल जरूर जीत लिया। शायद ही ऐसा दृश्य आपने पहले देखा होगा जहां टीम हार रही हो और प्रशंसक तालियों और सीटियों के साथ उनका स्वागत कर रहे हों, लेकिन इस मैच में यही देखने को मिला।

दरअसल फीफा विश्व कप के इतिहास का पहला मैच खेलने उतरी भारतीय अंडर-17 टीम जब हाफ टाइम में 0-1 से पीछे होकर वापस आ रही थी तो स्टेडियम में मौजूद दर्शक खड़े होकर उनका उत्साहवर्धन कर रहे थे। जब टीम 0-3 से हारकर स्टेडियम की तरफ बढ़ रही थी तो दर्शक दीर्घा में मौजूद लोग उनके लिए तालियां और सीटियां बजा रहे थे, क्योंकि उन्हें भी पता था कि अपना पहला ऐतिहासिक मैच खेलने उतरी टीम इंडिया ने अपेक्षाकृत अच्छा खेल दिखाया और अमेरिका जैसी टीम को चुनौती दी।

{ यह भी पढ़ें:- फीफा ने रद्द की पाकिस्तान फुटबॉल फेडरेशन की मान्यता }

जाहिर है भारत फीफा के किसी इवेंट में पहली बार भाग ले रहा है और खिलाड़ी कम उम्र के हैं इसलिए उन पर बड़े मैच का दबाव भी था। इसके बावजूद भारत के खिलाड़ियों ने निराश नहीं किया। उन्होंने कई बार अमेरिका के गोल पोस्ट की तरफ आक्रामक मूव बनाए। जिन खिलाड़ियों ने अपने स्किल की वजह से ध्यान खींचा वो हैं कोमल थाटल और गोलकीपर धीरज सिंह। इन्हें देखकर लगता है कि भारत के फुटबॉल में संभावनाएं मौजूद हैं। हर गोल के बाद पूरी टीम बगैर मनोबल गंवाए पूरी ताकत से वापसी कर रही थी और अंत तक उसने ऐसा किया। इस मैच को आगे के मुकाबलों के लिए एक सबक की तरह भी लिया जा सकता है।

बता दें कि भारत को ग्रुप-ए में रखा गया है जहां उसके साथ अमेरिका के अलावा कोलंबिया और घाना जैसी फुटबॉल की दिग्गज टीमें हैं। अब भारतीय टीम का सामना नौ अक्टूबर को कोलंबिया और 12 अक्टूबर को घाना से होगा।

{ यह भी पढ़ें:- अंडर-17 विश्व कप : इतिहास रचने उतरेगा मेजबान भारत }