भारत के इस लड़के ने बनाया अपना देश, पापा को बनाया प्रधानमंत्री तो खुद बना राजा

हर घर के दरवाजे पर युवा लोग खुद को घर का राजा मानते हुए लिखते हैं- ‘माय होम, माय रूल्स’. लेकिन भारत के एक लड़के ने खुद का देश ही बना लिया. सुनने में आपको भले ही थोड़ा अजीब लगे. लेकिन, ये सच है. इंदौर के रहने वाले सुयश दिक्षित ने एक जगह देखी जो इजिप्ट और सुडान के बीच में पड़ती है जिसमें किसी भी देश का मालिकाना हक नहीं था. वहां उसने अपना देश बना लिया है और नाम ‘किंगडम ऑफ दीक्षित’ रखा है. सुयश ने फेसबुक पर इस चीज का एलान किया है. सुयश ने खुद को राजा घोषित करते हुए झंडा भी लहरा दिया है. अब वो चाहता है कि यूएन इस इलाके के लिए मान्यता दे. बता दें, जिस इलाके को सुयश ने ‘किंगडम ऑफ दीक्षित’ रखा है उसका असली नाम ताविल है.

सुयश ने फेसबुक पर खुद को राजा घोषित करते हुए कहा- ‘मैंने यहां तक पहुंचने के लिए 319 किलोमीटर का सफर तय किया है. जब मैं इजिप्ट से निकला तो वहां शूट एंड साइट के ऑर्डर थे. मैं बड़ी मुश्किल से वहां से निकलकर यहां पहुंचा. यहां आने के लिए सड़क भी नहीं थी. ये इलाका पूरा रेगिस्तान से भरा है. यहां 900 स्क्वायर फीट का इलाका किसी देश का नहीं है. यहां आराम से रहा जा सकता है. मैंने यहां पौधे लगाने के लिए बीज डालकर पानी डाला है.’

{ यह भी पढ़ें:- सानिया और शोएब के बीच कूदना इस पाकिस्तानी खिलाड़ी को पड़ा महंगा, कहना पड़ा 'सॉरी' }

सुयश ने ‘किंडम ऑफ दीक्षित’ की घोषणा करने के बाद अपने पिता को प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और मिलिट्री हेड बनाया है. वहीं उसने खुद को राजा बनाया है. यही नहीं उन्होंने इस देश की वेबसाइट (https://kingdomofdixit.gov.best) भी तैयार की है. उन्होंने कहा- मेरे देश में अभी कई पद खाली हैं. कोई भी अपलाय कर सकता है. जिसपर वो विचार करेंगे.

जानिए खास बातें जो उन्होंने अपनी वेबसाइट पर बताई है-
* देश की कुल जनसंख्या सिर्फ 1 है.
* इस देश की राजधानी का नाम सुयशपुर है.
* इस देश की स्थापना 5 नवंबर 2017 को हुई.
* सुयश ने देश का राष्ट्र पशु छिपकली को चुना है. क्योंकि वहां सिर्फ उन्हें छिपकली ही दिखीं हैं.

{ यह भी पढ़ें:- पत्नी साक्षी ने लीक कर दिया धोनी का प्राइवेट वीडियो, जमकर हो रहा वायरल }

आपको बता दें, सुयश से पहले 2014 में एक शख्स जिसका नाम जेरमी हीटन था उन्होंने इस जगह को अपना बताया था. लेकिन सुयश यूएन से मान्यता लेने की कोशिश कर रहे हैं. अब ये देखना है कि वो कितना सफल हो पाते हैं.

Loading...