1. हिन्दी समाचार
  2. बिज़नेस
  3. Indian Rail: अब सर्दियों के दौरान कोहरे में भी नहीं थमेगी ट्रेनों की रफ्तार क्युकी अब बिना ड्राइवर भी दौड़ेंगी ट्रेनें

Indian Rail: अब सर्दियों के दौरान कोहरे में भी नहीं थमेगी ट्रेनों की रफ्तार क्युकी अब बिना ड्राइवर भी दौड़ेंगी ट्रेनें

Indian Railways News: रेलवे में अब बिना ड्राइवर के ऑटो मोड पर ट्रेन चलाने की दिशा में काम करना आसान हो गया है। अब सर्दियों के दौरान कोहरे में भी ट्रेंस को अपनी रफ्तार काम नहीं करनी होगी।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

ऑटो मोड पर ट्रेन चलाना होगा आसान
रेलवे के एक अधिकारी के द्वारा यह बताया गया की अब एक ऐसी संचार प्रणाली मिल गई है जिससे बिना ड्राइवर के ऑटो मोड पर ट्रेन चलाने की दिशा में काम करना आसान हो जाएगा। अब सर्दियों के दौरान कोहरे में भी ट्रेनों की रफ्तार धीमी नहीं पड़ेगी। अभी तक ट्रेन डाइवर कोहरे के दौरान बाहर देखता था कि सिग्नल ग्रीन है या रेड। उसके बाद ट्रेन की स्पीड बेहद कम हो जाती थी। लेकिन अब स्पैक्ट्रम मिल जाने से ड्राइवर के कैब में ही सिग्नल मिलेगा उससे बहुत पहले ही ड्राइवर को आगे के हालात का पता चल जाएगा।

पढ़ें :- रेलवे का ये शेयर 30 रुपये के भाव पर , एक्सपर्ट ने निवेशकों की दी ये सलाह

स्पैक्ट्रम से बेहतर कनेक्टिविटी और सिग्नलिंग मिलने लगेगी इससे ट्रेनों के मूवमेंट पर नजर रखना बेहद आसान हो जाएगा। रेलवे बोर्ड के मैंबर ऑफ इंफ्रास्ट्रेक्चर संजीव मित्तल के मुताबिक यह स्पैक्ट्रम मिला है तो इससे लगातार रेलवे को सिग्नल व संचार मुहैया कराना बेहद आसान हो जाएगा। इस स्पैक्ट्रम के अनुरूप पहले साल में 600 किलोमीटर रेल नेटवर्क में सुधार होगा, दूसरे साल में 8000 किलोमीटर नेटवर्क में, तीसरे साल 12000 किलोमीटर और चौथे साल 13000 किलोमीटर रेल नेटवर्क में सुधार होगा। 4 साल के अंदर कुल 34000 किलोमीटर रेल नेटवर्क को सुधारा जाएगा।

रेलवे की इस तकनीक से आवा जाहि आसान हो जायेगा। रेलवे के इस स्पैक्ट्रम से यात्रियों की सुरक्षा के लिए ट्रेनों में सीसीटीवी कैमरे लगाना और उन पर नजर रखना बेहद आसान हो जाएगा। सारे स्टेशनों पर वाइफाई बेहतर तरीके से चलने लगेगा। रेलवे ट्रैक की निगरानी हो सकेगी। विडियो और साउंड में बेहतर सुधार होगा। ट्रेनों की स्पीड बढ़ जाएगी। अभी दिल्ली-मुंबई और दिल्ली हावड़ा के बीच ट्रेनों की स्पीड 160 किलोमीटर प्रति घंटा की है। इसे 200 किलोमीटर प्रति घंटा तक बढ़ाया जा सकता है। स्पीड को इस सिस्टम के जरिए लगातार एक जैसा रखा जा सकता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...