1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. अब तक 17 देशों में मिला कोरोना वायरस का ‘भारतीय स्ट्रेन’ : WHO

अब तक 17 देशों में मिला कोरोना वायरस का ‘भारतीय स्ट्रेन’ : WHO

कोरोना वायरस का ‘भारतीय स्ट्रेन’ दुनिया के दूसरे देशों में भी फैलने लगा है। अब तक करीब 17 देशों में इसकी पुष्टि हो चुकी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक पूरी दुनिया में बीते हफ्ते में कोरोना संक्रमण के 57 लाख मामले सामने आ चुके हैं। इस बीच कोरोना वायरस का ‘भारतीय स्ट्रेन’ जिसे बी.1.617 के नाम से या 'दो बार रूप परिवर्तित कर चुके प्रकार' के तौर पर जाना जाता है। वह कम से कम 17 देशों में पाया गया है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Indian Strain Of Corona Virus Found In 17 Countries So Far Who

जेनेवा। कोरोना वायरस का ‘भारतीय स्ट्रेन’ दुनिया के दूसरे देशों में भी फैलने लगा है। अब तक करीब 17 देशों में इसकी पुष्टि हो चुकी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक पूरी दुनिया में बीते हफ्ते में कोरोना संक्रमण के 57 लाख मामले सामने आ चुके हैं। इस बीच कोरोना वायरस का ‘भारतीय स्ट्रेन’ जिसे बी.1.617 के नाम से या ‘दो बार रूप परिवर्तित कर चुके प्रकार’ के तौर पर जाना जाता है। वह कम से कम 17 देशों में पाया गया है।

पढ़ें :- सोनिया गांधी ने तीसरी लहर से पहले बच्चों की सुरक्षा पर जोर दिया, टीकाकरण की गति पर जताई चिंता

संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी ने मंगलवार को अपने साप्ताहिक माहामारी संबंधी जानकारी में कहा कि सार्स-सीओवी-2 के बी.1.617 प्रकार या ‘भारतीय स्ट्रेन’ को भारत में कोरोना वायरस के मामले बढ़ने का कारण माना जा रहा है, जिसे डब्ल्यूएचओ ने रुचि के प्रकार (वैरिएंट्स ऑफ इंटरेस्ट-वीओआई) के तौर पर निर्दिष्ट किया है।

एजेंसी ने कहा कि 27 अप्रैल तक, जीआईएसएआईडी में करीब 1,200 अनुक्रमों (सीक्वेंस) को अपलोड किया गया और वंशावली बी.1.617 को कम से कम 17 देशों में मिलने वाला बताया। जीआईएसएआईडी 2008 में स्थापित वैश्विक विज्ञान पहल और प्राथमिक स्रोत है जो इंफ्लुएंजा विषाणुओं और कोविड-19 वैश्विक माहामारी के लिए जिम्मेदार कोरोना वायरस के जीनोम डेटा तक खुली पहुंच उपलब्ध कराता है। एजेंसी ने कहा कि पैंगो वंशावली बी.1.617 के भीतर सार्स-सीओवी-2 के उभरते प्रकारों की हाल में भारत से एक वीओआई के तौर पर जानकारी मिली थी और डब्ल्यूएचओ ने इसे हाल ही में वीओआई के तौर पर निर्दिष्ट किया है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि अध्ययनों ने इस बात पर जोर दिया है कि दूसरी लहर का प्रसार भारत में पहली लहर के प्रसार की तुलना में बहुत तेज है।

जानें क्या कहा गया है रिपोर्ट में?

विश्व स्वास्थ्य निकाय की रिपोर्ट में कहा कि जीआईएसएआईडी को सौंपे गए अनुक्रमों पर आधारित डब्ल्यूएचओ द्वारा प्रारंभिक प्रतिरूपण से सामने आया है कि बी.1.617 भारत में प्रसारित अन्य प्रकारों से अधिक गति से विकसित हो रहा है, जो संभवत: अधिक संक्रामक है। इसके साथ ही अन्य प्रसारित हो रहे वायरस के प्रकार भी अधिक संक्रामक मालूम हो रहे हैं। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि अन्य कारकों में जन स्वास्थ्य एवं सामाजिक उपायों का क्रियान्वयन एवं पालन से जुड़ी चुनौतियां, सामाजिक सभाएं शामिल हैं। इन कारकों की भूमिका को समझने के लिए और जांच किए जाने की जरूरत है।

पढ़ें :- दुनिया को जल्द मिल सकती है ‘सुपरवैक्सीन’, जो कोरोना के सभी वैरिएंट पर होगी कारगर

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X