भारत-चीन सीमा विवाद: मायावती ने कहा-देशहित और सीमा की रक्षा का काम सरकार पर छोड़ देना चाहिए

mayawati
भारत-चीन सीमा विवाद: मायावती ने कहा-देशहित और सीमा की रक्षा का काम सरकार पर छोड़ देना चाहिए

लखनऊ। भारत-चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद को लेकर विपक्ष सरकार पर हमला बोल रहा है। ऐसे में मायावती ने सरकार का बचाव करते हुए देशहित में फैसला लेने की जिम्मेदारी उस पर ही छोड़ने की बात कही गयी है। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में विपक्ष को सरकार के साथ रहना चाहिए। सत्ता पक्ष और विपक्ष को मिलकर चीन को सबक सिखाने की जरूरत है।

Indo China Border Dispute Mayawati Said The Task Of Protecting The Country And The Border Should Be Left To The Government :

मायावती ने कहा कि चीन के साथ जारी गतिरोध के मसले पर सरकार और विपक्ष को एकजुट होने तथा देशहित और सीमा की रक्षा का काम सरकार पर छोड़ देना चाहिए। मायावती ने सोमवार को दो ट्वीट किए, जिसमें कहा कि, ‘अभी हाल ही में 15 जून को लद्दाख में चीनी सेना के साथ संघर्ष में कर्नल सहित 20 सैन्यकर्मियों की मौत से पूरा देश काफी दुःखी, चिन्तित व आक्रोशित है।

इसके निदान के लिए सरकार और विपक्ष दोनों को पूरी परिपक्वता तथा एकजुटता के साथ काम करना है।” दूसरे ​ट्वीट में उनहोंने कहा है कि, ‘ऐसे कठिन एवं चुनौतीपूर्ण समय में भारत सरकार की अगली कार्रवाई के संबंध में लोगों और विशषज्ञों की राय अलग-अलग हो सकती है, लेकिन मूल रूप से यह सरकार पर छोड़ देना बेहतर है कि वह देशहित और सीमा की रक्षा हर हाल में करे, जो कि हर सरकार का दायित्व भी है।’

लखनऊ। भारत-चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद को लेकर विपक्ष सरकार पर हमला बोल रहा है। ऐसे में मायावती ने सरकार का बचाव करते हुए देशहित में फैसला लेने की जिम्मेदारी उस पर ही छोड़ने की बात कही गयी है। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में विपक्ष को सरकार के साथ रहना चाहिए। सत्ता पक्ष और विपक्ष को मिलकर चीन को सबक सिखाने की जरूरत है। मायावती ने कहा कि चीन के साथ जारी गतिरोध के मसले पर सरकार और विपक्ष को एकजुट होने तथा देशहित और सीमा की रक्षा का काम सरकार पर छोड़ देना चाहिए। मायावती ने सोमवार को दो ट्वीट किए, जिसमें कहा कि, 'अभी हाल ही में 15 जून को लद्दाख में चीनी सेना के साथ संघर्ष में कर्नल सहित 20 सैन्यकर्मियों की मौत से पूरा देश काफी दुःखी, चिन्तित व आक्रोशित है। इसके निदान के लिए सरकार और विपक्ष दोनों को पूरी परिपक्वता तथा एकजुटता के साथ काम करना है।" दूसरे ​ट्वीट में उनहोंने कहा है कि, 'ऐसे कठिन एवं चुनौतीपूर्ण समय में भारत सरकार की अगली कार्रवाई के संबंध में लोगों और विशषज्ञों की राय अलग-अलग हो सकती है, लेकिन मूल रूप से यह सरकार पर छोड़ देना बेहतर है कि वह देशहित और सीमा की रक्षा हर हाल में करे, जो कि हर सरकार का दायित्व भी है।'