इंदौर-पटना एक्सप्रेस हादसा: मृतकों की संख्या बढ़कर 149 हुई

कानपुर। इंदौर-पटना एक्सप्रेस ट्रेन दुर्घटना में सोमवार को 19 शव और मिले। अब तक 149 यात्रियों की मौत हो जाने की पुष्टि हुई है। उत्तर मध्य रेलवे के झांसी मंडल में कानपुर देहात जिले के पुखरायां व मलासा स्टेशन के बीच पर इंदौर से पटना (राजेन्द्र नगर) जा रही एक्सप्रेस ट्रेन रविवार सुबह 3.08 बजे भीषण हादसे का शिकर हो गयी थी। इस दर्दनाक हादसे के बाद से जारी हुए बचाव कार्य के दौरान 130 शवों को में बाहर निकाला गया था। घटना में 300 से ज्यादा मुसाफिर घायल हुए हैं। दुर्घटना के दूसरे दिन भी सोमवार को भी राहत और बचाव कार्य जारी रहा। बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुके स्लीपर कोच को हटाए जाने पर नीचे और शव मिले। कुल 19 शव और निकाले गए। जिनमें कुच्छ की पहचान करना तक मुश्किल था।




इन शवों के मिलने के बाद मृतकों की संख्या का आंकड़ा अब 149 हो गया है। इधर सोमवर को घटनास्थल का प्रमुख सचिव गृह व डीजीपी ने जायजा लिया।हादसे का शिकर हुई इन्दौर-पटना एक्सप्रेस ट्रेन की रफ्तार का आंकलन 110 किलोमीटर प्रति घन्टा किया गया। रेलवे के लोगों के मुताबिक भी इस सेक्शन पर ट्रेन की रफ्तार सौ किलोमीटर प्रतिघन्टा से अधिक ही रहती है। लिहाजा रफ्तार को दुर्घटना का कारण नहीं माना जा रहा है। इधर सोमवार को जिला प्रशासन ने अगवत कराया कि ट्रेन हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़कर 149 हो गयी है।



इनमें से जिन 129 की शिनाख्त हो गयी, इन सभी का पोस्टमार्टम किया जा चुका है। जानकारी दी गई कि उत्तर प्रदेश के 65, मध्यप्रदेश के 28, बिहार के 24, महाराष्ट्र के 2 व झारखंड के 1 यात्री की इस दुर्घटना में जान गई। जिसमें 46 महिलाएं, 95 पुरु ष व 4 बच्चे थे। वहीं अस्पतालों में भर्ती घायलों में 37 उत्तर प्रदेश के, 19 मध्यप्रदेश के व 15 बिहार रहने वाले यात्री हैं।