1. हिन्दी समाचार
  2. बॉलीवुड
  3. इंडस्ट्री ने खोया एक और सितारा, वामन-गुरू फेमस एडिटर वामन भोसले का हुआ निधन

इंडस्ट्री ने खोया एक और सितारा, वामन-गुरू फेमस एडिटर वामन भोसले का हुआ निधन

60 से लेकर 90 के दशक तक कई बड़ी हिंदी फिल्मों की एडिटिंग करनेवाले वामन-गुरू फेम वामन भोसले का आज लम्बी बीमारी के बाद मुम्बई में गोरेगांव स्थित अपने घर में तड़के 4.00 बजे के करीब निधन हो गया. वे 89 साल के थे।

By आराधना शर्मा 
Updated Date

नई दिल्ली: 60 से लेकर 90 के दशक तक कई बड़ी हिंदी फिल्मों की एडिटिंग करनेवाले वामन-गुरू फेम वामन भोसले का आज लम्बी बीमारी के बाद मुम्बई में गोरेगांव स्थित अपने घर में तड़के 4.00 बजे के करीब निधन हो गया। वे 89 साल के थे। जाने-माने फिल्म निर्माता सुभाष घई ने वामन भोसले की मौत की पुष्टि करते हुए एक न्यूज़ चैनल के साथ यह जानकारी शेयर की।

पढ़ें :- इंडस्ट्री ने फिर खोया दिग्गज एक्टर, KTS Padannayil का निधन...सीएम ने जताया शोक

संपर्क किये जाने पर वामन भोसले के भतीजे दिनेश भोसले ने एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए कहा, “वे पिछले एक साल से काफी बीमार चल रहे थे। उन्हें पहले से ही डायबिटीज की गंभीर समस्या थी मगर पिछले एक साल में उनकी मस्तिष्क से जुड़ी समस्याएं इस कदर बढ़ गईं थीं कि वे लोगों को पहचान तक नहीं पा रहे थे। वे चलने-फिरने में भी असमर्थ हो गये थे।

पिछले 4-5 दिनों से उन्होंने खाना पीना भी छोड़ दिया था। उनका अंतिम संस्कार दोपहर में गोरेगांव में किया जाएगा।”वामन भोसले ने अपने पार्टनर गुरू शिराली के साथ मिलकर ‘मेरा गांव मेरा देस’, ‘दो रास्ते’, ‘इनकार’, ‘दोस्ताना’, ‘परिचय’, ‘गुलाम’, ‘आंधी’, ‘मौसम’, ‘अग्निपथ’, ‘रूप की रानी चोरों का राजा जैसी तमाम बड़ी और चर्चित फिल्मों की एडिटिंग की थी। वामन-गुरू को 1977 में रिलीज हुई फिल्म ‘इनकार’ के लिए सर्वश्रेष्ठ एडिटर के राष्ट्रीय पुरस्कार से भी नवाजा गया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...