अमानवीय चेहरा: दम तोड़ रहे थे युवक, पुलिस कर्मियों ने नहीं पहुंचाया अस्पताल

अमानवीय चेहरा, डॉयल 100
अमानवीय चेहरा: दम तोड़ रहे थे युवक, पुलिस कर्मियों ने नहीं पहुंचाया अस्पताल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस अपनी डॉयल 100 सेवा के लिए तरह तरह के दावे करती है। डॉयल 100 में तैनात पुलिसकर्मियों की कार्यशैली कैसी है, ये शुक्रवार की रात सहारनपुर जिले में हुई एक सड़क दुर्घटना के मामले में देखने को मिला। जहां बिजली के खंभे से टकराए बाइक सवार दो युवकों ने सड़क के किनारे दम तोड़ दिया और मौके पर पहुंची यूपी पुलिस की डॉयल 100 पैट्रोलिंग वैन पर तैनात पुलिस कर्मियों ने गाड़ी गंदी होने का हवाला देते हुए घायलों को अस्पताल पहुंचाने से इंकार कर दिया।

मिली जानकारी के मुताबिक सड़क हादसे के बाद 100 नंबर पर की गई कॉल पर घटनास्थल पर पहुंची डॉयल 100 वैन के पुलिस कर्मियों के सामने 17 साल के दो बच्चे सड़क के किनारे लहूलुहान पड़े थे। रास्ते से गुजर रहे एक व्यक्ति ने पुलिसवालों से घायलों को अस्पताल पहुंचाने की गुहार लगाई, लेकिन पुलिसवालों ने गाड़ी गंदी होने का हवाला देकर कोई और व्यवस्था करने को कहा। इस दौरान मौके से गुजर रहे एक व्यक्ति ने मौके के हालात को देखते हुए वीडियो बनाना शुरू कर दिया। पुलिसवालों ने वीडियो बनता देखने के बाद भी कोई प्रभाव नहीं पड़ा।

{ यह भी पढ़ें:- पासपोर्ट वेरिफिकेशन के बाद दारोगा ने महिला से कर दी ऐसी डिमांड }

इस दौरान घटना स्थल पर एक के बाद एक कई लोग पहुंच गए, लोगों ने पुलिस वालों के सामने तरह तरह की बातें कहीं लेकिन पुलिस वालों का दिल नहीं पसीजा तो नहीं पसीजा। पुलिस वाले मदद के लिए रूके लोगों से कहा कि वे घायलों को अस्पताल लेकर पहुंचें, वे उन्हें वहीं मिलेंगे।

इससे पहले कि मददगार उन युवकों को अस्पताल पहुंचाते बहुत देर हो चुकी थी। अस्पताल पहुंचते ही दोनों युवकों ने दम तोड़ दिया था। डॉक्टरों ने दोनों की मौत की वजह ज्यादा खून का बहने बताया। जिसके घायलों को अस्पताल ले कर पहुंचे मददगारों के जहन में एक ही बात बार बार आ रही थी कि अगर पुलिसवालों ने अपनी गाड़ी पर खून के धब्बों की चिंता नहीं की होती तो दोनों युवकों की सांसे चल रही होतीं।

{ यह भी पढ़ें:- संस्कृति राय हत्याकांड : रेप के विरोध में टैम्पो चालक ने उतारा था मौत के घाट }

मृतक युवकों की पहचान अर्पित खुराना और सनी गर्ग के रूप में हुई है। दोनों युवक मोटरसाइकिल से घर जा रहे थे तभी दोनों की बाइक बिजली के खंभे से टकरा गई। सड़क के किनारे दो युवकों को घायल अवस्था में देखने के बाद किसी राहगीर ने डॉयल 100 पर कॉल कर मदद मांगी। कुछ ही देर में पैट्रोलिंग ड्यूटी पर तैनात तीन पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे, लेकिन उन्होंने युवकों को अस्पताल पहुंचाने से इंकार कर दिया।

यह पूरा वाकया एक वीडियो के माध्यम से सोशल मीडिया में वॉयरल हो रहा है। यूपी पुलिस के इस अमानवीय चेहरे को देखकर हर कोई हैरान है।

{ यह भी पढ़ें:- अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा में तैनात होगी 'यूथ ब्रिगेड' }

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस अपनी डॉयल 100 सेवा के लिए तरह तरह के दावे करती है। डॉयल 100 में तैनात पुलिसकर्मियों की कार्यशैली कैसी है, ये शुक्रवार की रात सहारनपुर जिले में हुई एक सड़क दुर्घटना के मामले में देखने को मिला। जहां बिजली के खंभे से टकराए बाइक सवार दो युवकों ने सड़क के किनारे दम तोड़ दिया और मौके पर पहुंची यूपी पुलिस की डॉयल 100 पैट्रोलिंग वैन पर तैनात पुलिस कर्मियों ने गाड़ी गंदी होने का हवाला…
Loading...