इंस्पेक्टर कर रहा था ब्लैकमेल, इसलिए डीसीपी ने गोली मारकर की आत्महत्या, सुसाइड नोट में खुलासा

dcp hariyana
इंस्पेक्टर कर रहा था ब्लैकमेल, इसलिए डीसीपी ने गोली मारकर की थी आत्महत्या, सुसाइड नोट में खुलासा

नई दिल्ली। हरियाणा के फरीदाबाद में डीसीपी विक्रम कपूर ने अपने ही घर में रिवॉल्वर से गोली मारकर आत्महत्या कर ली। डीसीपी के सुसाइड करने के बाद हड़कंप मच गया। जांच के दौरान पुलिस को एक सुसाइड नोट हाथ लगा है, जिसमें लिखा है कि उन्हें एक इंस्पेक्टर अपने साथी के साथ मिलकर ब्लैकमेल कर रहा था। इस कारण उन्होंने गोली मारकर आत्महत्या कर ली है।

Inspector Was Blackmailing So Dcp Shot And Committed Suicide :

सुसाइड नोट के आधार पर पुलिस ने छानबीन शुरू कर दी है। बता दें कि, डीसीपी विक्रम कपूर फरीदाबाद-एनआईटी के पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) थे। वह फरीदाबाद के सेक्टर-30 स्थित अपने घर में अपनी पत्नी के साथ रहते थे। साल 2017 में उन्हें हरियाणा पुलिस में अपनी सेवा के लिए आईपीएस पद पर पदोन्नत किया गया था।

अगले साल (वर्ष 2020) ही वह रिटायर होने वाले थे। पुलिस का कहना है कि, बरामद सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा है कि, अब्दुल नाम का इंस्पेक्टर अपने एक साथी के साथ उन्हें ब्लैकमेल कर रहा था, जिससे तंग आकर सुसाइड करने जैसा कदम उठाने जा रहे हैं। बता दें कि, घटना के समय डीसीपी की पत्नी बाथरूम में थीं।

गोली की आवाज सुनकर बाहर निकलीं तो देखा कि पति ड्रॉइंग रूम में खून से लथपथ पड़े हुए थे। पति को इस हालत में देखने के बाद उन्होंने अपने बेटे को जगाया। इसके बाद मामले की सूचना पुलिस को दी गई। डीसीपी पिछले 2 साल से फरीदाबाद में पोस्टेड थे और एक साल बाद ही वो सेवानिवृत होने वाले थे।

नई दिल्ली। हरियाणा के फरीदाबाद में डीसीपी विक्रम कपूर ने अपने ही घर में रिवॉल्वर से गोली मारकर आत्महत्या कर ली। डीसीपी के सुसाइड करने के बाद हड़कंप मच गया। जांच के दौरान पुलिस को एक सुसाइड नोट हाथ लगा है, जिसमें लिखा है कि उन्हें एक इंस्पेक्टर अपने साथी के साथ मिलकर ब्लैकमेल कर रहा था। इस कारण उन्होंने गोली मारकर आत्महत्या कर ली है। सुसाइड नोट के आधार पर पुलिस ने छानबीन शुरू कर दी है। बता दें कि, डीसीपी विक्रम कपूर फरीदाबाद-एनआईटी के पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) थे। वह फरीदाबाद के सेक्टर-30 स्थित अपने घर में अपनी पत्नी के साथ रहते थे। साल 2017 में उन्हें हरियाणा पुलिस में अपनी सेवा के लिए आईपीएस पद पर पदोन्नत किया गया था। अगले साल (वर्ष 2020) ही वह रिटायर होने वाले थे। पुलिस का कहना है कि, बरामद सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा है कि, अब्दुल नाम का इंस्पेक्टर अपने एक साथी के साथ उन्हें ब्लैकमेल कर रहा था, जिससे तंग आकर सुसाइड करने जैसा कदम उठाने जा रहे हैं। बता दें कि, घटना के समय डीसीपी की पत्नी बाथरूम में थीं। गोली की आवाज सुनकर बाहर निकलीं तो देखा कि पति ड्रॉइंग रूम में खून से लथपथ पड़े हुए थे। पति को इस हालत में देखने के बाद उन्होंने अपने बेटे को जगाया। इसके बाद मामले की सूचना पुलिस को दी गई। डीसीपी पिछले 2 साल से फरीदाबाद में पोस्टेड थे और एक साल बाद ही वो सेवानिवृत होने वाले थे।