1. हिन्दी समाचार
  2. 60 साल की उम्र में चढ़ा शादी का शौक, तो दुल्हन ने वो किया कि उड़े सबके होश

60 साल की उम्र में चढ़ा शादी का शौक, तो दुल्हन ने वो किया कि उड़े सबके होश

Interested In Marriage At The Age Of 60 The Bride Did That To Fly Everyones Senses

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

इंदौर: हिंदी में एक कहावत है कि “बूढ़ी घोड़ी और लाल लगाम” इस कहावत जैसा ही हाल इंदौर के बूढे बाबा की हो गई है। जिन्हें अपनी पूरी जिंदगी बीताने के बाद बूढ़ापे में जवानी का जोश चढ़ा हुआ है। इंदौर के इस बूढ़े ने शादी तो कर ली लेकिन उसे ये शादी कुछ ज्यादा ही महंगी पड़ गई। दरअसल, यह मामला धार शहर के रिटायर्ड बिजली कर्मी का है… दरअसल, इस बूढ़े के शादी करने का शौक था और जिससे इसने शादी की उसे पैसों का बेइम्तिहां बुखार चढ़ा हुआ था। बस फिर क्या था एक लड़की ने अपना नाम पूजा बताकर बूढ़े रूप दास बैरागी से शादी कर ली। शादी के बाद भागी हुई इस लड़की को पुलिस ने तीन लाख रूपय व जेवर के साथ गिरफ्तार किया।

पढ़ें :- IPL 2020: आउट करने पर हार्दिक पांड्या से भिड़े क्रिस मौरिस, फिर जानिए क्या हुआ

जानकारी के अनुसार महिला ने पूजा नाम बताकर 60 साल के बूढ़े से शादी की थी. जबकि उसका असली नाम ही हेमा है. फिलहाल पुलिस ने महिला के समेत शादी में भाई का किरदार निभाने वाले युवक को भी गिरफ्तार कर लिया है. जांच पड़ताल करने पर पुलिस को इनसे 10 हजार रूपए नकद , कुछ जेवरात और एक बिछुड़ी मिली है. बहरहाल, चलिए जानते हैं आखिर यह पूरा मामला क्या था…

दरअसल, मंदसोर के निवासी रूप दास बैरागी 60 वर्षीय बिजली कंपनी से रिटायर्ड हो चुके हैं और नौगांव की साईं धाम कॉलोनी में घर बना रहे थे. रिपोर्ट के अनुसार उनकी पहली पत्नी वंदना का साल 1992 में ही निधन हो गया था. उनकी कोई संतान नहीं थी इसलिए उनका कोई अपना रिश्तेदार भी नहीं था. अपने अकेलेपन और बुढ़ापे से तंग आकर आखिरकार रूप दास ने शादी करने की ठान ली और इसकी चर्चा अपने मित्र अशोक प्रजापत से की.

जिसके बाद उसे 40 से 45 साल की विधवा महिला का नंबर अशोक से मिला. इसके बाद अगले ही दिन अशोक उस महिला को घर लेकर आया जिसका नाम उसने पूजा बताया. इसके इलावा उसने उसके साथ एक अन्य शख्स उसका भाई बताया जिसका नाम उसने जितेंद्र बताया. अशोक ने रूपदास को बताया कि उसको इस परिवार के बारे में किसी प्रकार की चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है.

22 जून को अशोक ने दोनों की संतोषी माता मंदिर में सिंदूर भर कर शादी करवा दी. शादी संपन्न होने के बाद रूपदास पूजा को लेकर घर चले गए और अलमारी एवं घर की चाबियां सौंप दी. कुछ ही दिन बाद यानी 29 जून को रूप दास बैरागी जब दूसरी मंजिल पर घर की सफाई कर रहे थे, तो उन्होंने पूजा को अपनी मदद के लिए आवाज लगाई.

पढ़ें :- पाकिस्तान का सबसे बड़ा कुबूलनामा: मंत्री फवाद बोले-पुलवामा हमला इमरान सरकार की बड़ी कामयाबी

जब उन्हें कोई आवाज नहीं मिली तो वह नीचे गए. वहां उन्होंने अपनी अलमारी को खुला देखा. अलमारी को नजदीक से देखने के बाद उन्हें पता चला कि उसमें से 3 लाख रुपए नकद और कुछ सोना चांदी के जेवर गायब थे. जिसके बाद उन्होंने अशोक को नंबर लगाया तो अशोक ने कहा कि वह उस से जल्द ही सारे पैसे और जेवर वापस दिलवा देगा.

पैसे ना मिलने पर बेरागी ने पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज करवा दी जिसके बाद उन्होंने अशोक को हिरासत में ले लिया. जिसके बाद पुलिस को पता चला कि महिला का कोई ठिकाना नहीं था केवल एक मोबाइल नंबर ही उस तक पहुंचने का एक मात्र रास्ता था. इस के बाद उन्होंने अशोक की पत्नी से फोन पर कहलवा कर कहा कि अशोक काफी बीमार है इसलिए वह जल्दी से घर मिलने आ जाए.फोन पर अशोक की खबर सुनने के बाद ही पूजा उससे मिलने के लिए पहुंच गई. जिसके बाद पुलिस ने अशोक के समेत उसको गिरफ्तार कर लिया.

फिलहाल, पूजा बनी हेमा का भाई जितेंद्र फरार है. पुलिस को अशोक और हेमा से पांच -पांच हजार नकद और एक बिछुड़ी मिल चुकी है. वही सीएसपी शशिकांत कनकने ने बताया कि महिला और उसकी शादी करवाने वाले युवक को गिरफ्तार कर लिया है

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...