1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. International Tiger Day 2019: जाने कब से हुई टाइगर-डे की शुरुआत

International Tiger Day 2019: जाने कब से हुई टाइगर-डे की शुरुआत

International Tiger Day 2019 History

By आस्था सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। आज यानि 29 जुलाई को पूरे विश्वभर में बाघों की घटती संख्या और इसके संरक्षण के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए हर साल 29 जुलाई को अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस मनाया जाता है। आज बाघ दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बाघों की संख्या के नये आंकड़े जारी करेंगे ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि यह संख्या बढ़ सकती है। नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी के अनुसार 2014 में आखिरी बार हुई बाघों की गणना के अनुसार भारत में 2226 बाघ हैं, जो कि 2010 की गणना की तुलना में काफी ज्यादा हैं। बता दें कि 2010 में बाघों की संख्या 1706 थी।

पढ़ें :- विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस: जानिए ऑस्टियोपोरोसिस का क्या है लाइफ मे महत्व...

जाने कब से हुई टाइगर-डे मनाने की शुरुआत

वर्ष 2010 में रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में आयोजित एक शिखर सम्मेलन में बाघ संरक्षण के काम को प्रोत्साहित करने, उनकी घटती संख्या के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस मनाने की घोषणा हुई थी। इस सम्मेलन में शामिल हुए कई अलग-अलग देशों की सरकारों ने 2020 तक बाघों की आबादी को दोगुना करने का लक्ष्य तय किया था।

वर्ल्ड वाइल्ड लाइफ फंड (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) के मुताबिक दुनिया में लगभग 3,900 बाघ ही बचे हैं। जोकि 20वीं सदी की शुरुआत के बाद से वैश्विक स्तर पर 95 प्रतिशत से अधिक बाघ की आबादी कम हो गई है। वर्ष 1915 में बाघों की संख्या एक लाख से भी ज्यादा थी।

ये हैं बाघों की जिंदा प्रजातियां—

पढ़ें :- पैतृक गांव अस्थियां लेकर पहुंचे चिराग पासवान, कहा- पापा के जाने के बाद मैं अकेला पड़ गया हूं

साइबेरियन टाइगर, बंगाल टाइगर, इंडोचाइनीज टाइगर, मलायन टाइगर, सुमात्रन टाइगर
विलुप्त हो चुकीं प्रजातियां: बाली टाइगर, कैस्पियन टाइगर, जावन टाइगर

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...