भातखण्डे संगीत विश्वविद्यालय की कुलपति के खिलाफ होगी जांच, राज्यपाल ने दिये आदेश!

kulpati
भातखण्डे संगीत विश्वविद्यालय की कुलपति के खिलाफ होगी जांच, राज्यपाल ने दिये आदेश!

लखनऊ। भातखण्डे संगीत विश्वविद्यालय की कुलपति के खिलाफ वित्तीय अनियमितता और मनमानी के मामले में राज्यपाल के आदेश पर जांच के आदेश दिये गये हैं। वहीं जांच कमेटी को लेकर पूंछे गये सवाल पर कुलपति प्रो एसएस काटकर का कहना है कि उन्हें इस बारे में फिलहाल कुछ मालूम नहीं है। आपको बता दें प्रो एसएस काटकर पिछले दस सालों से भातखण्डे संगीत विश्वविद्यालय की कुलपति हैं।

Investigation Will Be Held Against The Vice Chancellor Of Bhatkhande Music University Governor Orders :

दरअसल सीएजी की रिपोर्ट में कई वित्तीय अनियमितता के खुलासे किये गये जिसके बाद कुलपति प्रो एसएस काटकर पर शिकंजा कस गया। रिपोर्ट के बाद राज्यपाल ने कुलपति की जांच के लिए तीन सदस्यों की एक कमेटी बना दी है। बताया गया कि राज्यपाल की ओर से जांच संबंधी जो आदेश जारी किया गया है उसमें 15 अलग अलग वित्तीय अनियमितता और मनमानी का जिक्र किया गया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक बार बार एक ही फर्म को विश्वविद्यालय में काम दिया गया है। साथ ही बिना टेण्डर के मनमानी तरीके से काम कराये जाने के आरोप भी सामने आये हैं। यही नही यूनिवर्सिटी के कॉर्पस फण्ड के सापेक्ष बिना शासन की अनुमति के लोन लेने जैसे आरोप भी लगे हैं।

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही लखनऊ के भातखण्डे संगीत संस्थान अभिमत विश्वविद्यालय की वित्तीय अनियमितता की खबर सामने आयी थी। जिसके बाद से लगातार कुलपति पर संकट के बादल छा रहे थे। इस मामले में राज्यपाल ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज न्यायमूर्ति वीरेन्द्र कुमार दीक्षित की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। कमेटी के दो और सदस्य मध्यप्रदेश के पूर्व महाधिवक्ता पुष्पेन्द्र कौरव और लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति आलोक राय हैं। इस टीम को एक महीने के अन्दर ही रिपोर्ट पेस करनी होगी।

लखनऊ। भातखण्डे संगीत विश्वविद्यालय की कुलपति के खिलाफ वित्तीय अनियमितता और मनमानी के मामले में राज्यपाल के आदेश पर जांच के आदेश दिये गये हैं। वहीं जांच कमेटी को लेकर पूंछे गये सवाल पर कुलपति प्रो एसएस काटकर का कहना है कि उन्हें इस बारे में फिलहाल कुछ मालूम नहीं है। आपको बता दें प्रो एसएस काटकर पिछले दस सालों से भातखण्डे संगीत विश्वविद्यालय की कुलपति हैं। दरअसल सीएजी की रिपोर्ट में कई वित्तीय अनियमितता के खुलासे किये गये जिसके बाद कुलपति प्रो एसएस काटकर पर शिकंजा कस गया। रिपोर्ट के बाद राज्यपाल ने कुलपति की जांच के लिए तीन सदस्यों की एक कमेटी बना दी है। बताया गया कि राज्यपाल की ओर से जांच संबंधी जो आदेश जारी किया गया है उसमें 15 अलग अलग वित्तीय अनियमितता और मनमानी का जिक्र किया गया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक बार बार एक ही फर्म को विश्वविद्यालय में काम दिया गया है। साथ ही बिना टेण्डर के मनमानी तरीके से काम कराये जाने के आरोप भी सामने आये हैं। यही नही यूनिवर्सिटी के कॉर्पस फण्ड के सापेक्ष बिना शासन की अनुमति के लोन लेने जैसे आरोप भी लगे हैं। आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही लखनऊ के भातखण्डे संगीत संस्थान अभिमत विश्वविद्यालय की वित्तीय अनियमितता की खबर सामने आयी थी। जिसके बाद से लगातार कुलपति पर संकट के बादल छा रहे थे। इस मामले में राज्यपाल ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज न्यायमूर्ति वीरेन्द्र कुमार दीक्षित की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। कमेटी के दो और सदस्य मध्यप्रदेश के पूर्व महाधिवक्ता पुष्पेन्द्र कौरव और लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति आलोक राय हैं। इस टीम को एक महीने के अन्दर ही रिपोर्ट पेस करनी होगी।