आईएनएक्स मीडिया केस: पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी पर आज होगा फैसला

P. Chidambaram
आईएनएक्स मीडिया केस: पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी पर आज होगा फैसला

​नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया धनशोधन मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को पी. चिदंबरम की​ गिरफ्तारी और पूछताछ की अनुमति पर राउज एवेन्यू कोर्ट आज अपना फैसला सुनाएगी। कोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय की अर्जी पर प्रोडक्शन वारंट जारी कर चिदंबरम को पेश करने का निर्देश दिया था। सोमवार को विशेष सीबीआई जज अजय कुमार कुहार ने ईडी व बचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद फैसला मंगलवार चार बजे तक सुरक्षित रख लिया था।

Inx Media Case Decision Will Be Taken Today On The Arrest Of Former Finance Minister P Chidambaram :

सॉलीसीटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट के समक्ष चिदंबरम की गिरफ्तारी की अनुमति मांगी थी। इसके साथ ही कहा था कि, आईएनएक्स केस कालेधन के धनशोधन मामला सीबीआई केस से अलग है। इसके साथ ही उन्हें गिरफ्तार कर पूछताछ करने की जरूरत है। वहीं, सुप्रीम कोर्ट भी इस बात पर अपनी सहमति दे चुकी है।

वहीं, दूसरी ओर ईडी की अर्जी का विरोध करते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि यह सारा केस एक है और ईडी का पूरा केस सीबीआई की एफआईआर पर आधारित है। सीबीआई इस केस में उनके मुव्वकिल से पूछताछ कर चुकी है। इसके बाद ही चिदंबरम को न्यायिक हिरासत में भेजा गया था।

लिलाजा, ईडी को रिमांड नहीं दी जानी चाहिए। बता दें कि, 21 अगस्त की रात को सीबीआई ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया केस में गिरफ्तार किया था। अदालत ने सीबीआई की पूछताछ के बाद चिदंबरम को पांच सितंबर को न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।

​नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया धनशोधन मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को पी. चिदंबरम की​ गिरफ्तारी और पूछताछ की अनुमति पर राउज एवेन्यू कोर्ट आज अपना फैसला सुनाएगी। कोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय की अर्जी पर प्रोडक्शन वारंट जारी कर चिदंबरम को पेश करने का निर्देश दिया था। सोमवार को विशेष सीबीआई जज अजय कुमार कुहार ने ईडी व बचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद फैसला मंगलवार चार बजे तक सुरक्षित रख लिया था। सॉलीसीटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट के समक्ष चिदंबरम की गिरफ्तारी की अनुमति मांगी थी। इसके साथ ही कहा था कि, आईएनएक्स केस कालेधन के धनशोधन मामला सीबीआई केस से अलग है। इसके साथ ही उन्हें गिरफ्तार कर पूछताछ करने की जरूरत है। वहीं, सुप्रीम कोर्ट भी इस बात पर अपनी सहमति दे चुकी है। वहीं, दूसरी ओर ईडी की अर्जी का विरोध करते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि यह सारा केस एक है और ईडी का पूरा केस सीबीआई की एफआईआर पर आधारित है। सीबीआई इस केस में उनके मुव्वकिल से पूछताछ कर चुकी है। इसके बाद ही चिदंबरम को न्यायिक हिरासत में भेजा गया था। लिलाजा, ईडी को रिमांड नहीं दी जानी चाहिए। बता दें कि, 21 अगस्त की रात को सीबीआई ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया केस में गिरफ्तार किया था। अदालत ने सीबीआई की पूछताछ के बाद चिदंबरम को पांच सितंबर को न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।