INX MEDIA CASE : अब मंगलवार को होगी चिंदबरम की जमानत याचिका पर सुनवाई

p chidambaram
INX MEDIA CASE : अब मंगलवार को होगी चिंदबरम की जमानत याचिका पर सुनवाई

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया केस में पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम की एक दिन के लिए सीबीआई की हिरासत बढ़ा दी गई है। अब चिदंबरम की अंतरिम जमानत के मामले पर सुनवाई मंगलवार को होगी। इससे पहले, आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के लिये अंतरिम जमानत के आग्रह पर विचार करने के निचली अदालत को आदेश के चंद घंटों बाद ही शीर्ष अदालत ने सालिसीटर जनरल तुषार मेहता के अनुरोध पर इसमें संशोधन कर दिया। जब इस मामले में मंगलवार को ​सुनवाई की जाएगी।

Inx Media Case Now Hearing On Chidambarams Bail Plea On Tuesday :

भोजनावकाश के बाद मेहता पीठ के समक्ष पेश हुये और कहा कि दिन में पारित किये गये आदेश को लागू करने में अधिकार क्षेत्र की दिक्कतें आयेंगी। जिसके बाद पीठ ने कहा कि सीबीआई निचली अदालत से चिदंबरम को मंगलवार तक पुलिस हिरासत में देने का अनुरोध करने के लिये स्वतंत्र है।

बता दें कि भोजनावकाश से पहले के सत्र में शीर्ष अदालत ने निचली अदालत से कहा था कि पी चिदंबरम को अंतरिम जमानत देने के आग्रह पर आज ही विचार करे। इससे पहले चिदंबरम ने न्यायालय से कहा कि उन्हें न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल नहीं भेजा जाये बल्कि घर में ही नजरबंद कर दिया जाये।

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया केस में पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम की एक दिन के लिए सीबीआई की हिरासत बढ़ा दी गई है। अब चिदंबरम की अंतरिम जमानत के मामले पर सुनवाई मंगलवार को होगी। इससे पहले, आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के लिये अंतरिम जमानत के आग्रह पर विचार करने के निचली अदालत को आदेश के चंद घंटों बाद ही शीर्ष अदालत ने सालिसीटर जनरल तुषार मेहता के अनुरोध पर इसमें संशोधन कर दिया। जब इस मामले में मंगलवार को ​सुनवाई की जाएगी। भोजनावकाश के बाद मेहता पीठ के समक्ष पेश हुये और कहा कि दिन में पारित किये गये आदेश को लागू करने में अधिकार क्षेत्र की दिक्कतें आयेंगी। जिसके बाद पीठ ने कहा कि सीबीआई निचली अदालत से चिदंबरम को मंगलवार तक पुलिस हिरासत में देने का अनुरोध करने के लिये स्वतंत्र है। बता दें कि भोजनावकाश से पहले के सत्र में शीर्ष अदालत ने निचली अदालत से कहा था कि पी चिदंबरम को अंतरिम जमानत देने के आग्रह पर आज ही विचार करे। इससे पहले चिदंबरम ने न्यायालय से कहा कि उन्हें न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल नहीं भेजा जाये बल्कि घर में ही नजरबंद कर दिया जाये।