INX Media मनी लांड्रिंग केस: कार्ति चिदंबरम को नहीं मिली राहत, पी. चिदंबरम से जल्द हो सकती है पूछताछ

कार्ति चिदंबरम , Karti Chidambaram
INX Media मनी लांड्रिंग केस: कार्ति चिदंबरम को नहीं मिली राहत, पी. चिदंबरम से जल्द हो सकती है पूछताछ

INX Media (आईएनएक्स मीडिया) मनी लांड्रिंग मामले में सीबीआई की हिरासत में चल रहे पूर्व केन्द्रीय मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिली है। वहीं दूसरी ओर सीबीआई की पटियाला हाउस विशेष अदालत ने जांच एजेंसी की अपील पर कार्ति चिदंबरम की ​हिरासत की अवधि को बढ़ा दिया है। बताया जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट कार्ति चिदंबरम के वकील के रूप में पेश हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल की अपील पर इस मामले की अगली सुनवाई 8 मार्च को करेगी। वहीं कुछ खबरें ऐसी भी आ रहीं है कि मनीलांड्रिंग के इस मामले में सीबीआई कार्ति चिदंबरम के पिता पी चिदंबरम को भी पूछताछ के लिए तलब कर सकती है। बता दें कि भ्रष्टाचार के जिस मामले में कार्ति चिदंबरम को सीबीआई ने हिरासत में ले रखा है, वह पी चिदंबरम के वित्ती मंत्री रहते हुआ था।

सीबीआई की ओर अदालत के सामने पेश हुए वकील ने मंगलवार को विशेष जज को बताया है कि पिछले पांच दिनों की पूछ ताछ में भ्रष्टाचार के इस मामले में मुख्य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी और सह आरोपी कार्ति चिदंबरम को आपने सामने बैठा कर हुई पूछताछ में कई अहम जानकारियां हाथ लगीं हैं। इसी आधार पर सीबीआई ने कार्ति चिदंबरम की हिरासत को बढ़ाने की मांग की थी।

{ यह भी पढ़ें:- पूर्व IG डीजी वंजारा का खुलासा- इशरत एनकाउंटर के बाद मोदी-शाह को गिरफ्तार करना चाहती थी CBI }

वहीं इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में वकील के रूप में पेश हुए कपिल सिब्बल ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि वह पूरी तरह से सीबीआई का सहयोग करने के लिए तैयार है, लेकिन उन्हें डर है कि कहीं उन्हें भी गिरफ्तार न कर लिया जाए।

आपको बता दें कि कार्ति चिदंबरम पर आरोप है कि आईएनएक्स मीडिया ने विदेश से मिली फंडिंग को भारत लाने में कंपनी की प्रवर्तक इंद्राणी मुखर्जी को मदद की थी, जिसके लिए उन्होंने घूंस के रूप में 10 लाख रूपए दिए थे। कार्ति चिदंबरम ने अपने पिता पी चिदंबरम जो कि तत्कालीन वित्तमंत्री थे, के कार्यालय से आईएनएक्स मीडिया को सहूलियतें दिलाईं थीं।

{ यह भी पढ़ें:- बेनामी संपत्ति पर मोदी सरकार का वार, जानकारी देने वाले को मिलेगा 1 करोड़ का इनाम }

इंद्राणी मुखर्जी के बयान को लेकर उठ रहे सवाल —

इंद्राणी मुखर्जी वही महिला कारोबारी हैं, जो अपनी बेटी जिग्ना बोहरा की हत्या के मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद से जेल की सजा काट रहीं हैं। विपक्षी दलों का कहना है कि जिस महिला को अपनी बेटी की हत्या के मामले में दोषी पाया गया हो और जिसने अपनी बेटी की हत्या के मामले को कई सालों तक दुनिया के सामने रहस्य बनाए रखा, उसके बयान पर किसी प्रतिष्ठित व्यक्ति के खिलाफ जांच करना निराधार है।

फिलहाल सीबीआई ने इंद्राणी मुखर्जी को न्यायिक हिरासत में ले रखा है। सोमवार को ही विशेष अदालत ने इंद्राणी मुखर्जी ​की न्यायिक हिरासत को 15 दिनों के लिए बढ़ा दिया था।

{ यह भी पढ़ें:- आप के मंत्री के सरकारी आवास पर CBI का छापा, केजरीवाल बोले- क्या चाहते हैं PM? }

पीटर मुखर्जी का बयान भी होगा दर्ज—

आईएनएक्स मीडिया के मालिक और भारत के मीडिया मुगल कहलाने वाले पीटर मुखर्जी से भी सीबीआई इस मामले में पूछतांछ कर सकती है। ऐसा माना जाता है कि आईएनएक्स मीडिया के लिए विदेश से फंडिंग जुटाने का काम पीटर मुखर्जी ने ही किया था। जिसे भारत लाने में कर की चोरी की गई थी, जिसमें वित्त मंत्रालय से मदद दिलाने का काम कार्ति चिदंबरम ने किया था।

वित्त मंत्रालय में एफडीआई का काम देखने वाले तत्कालीन अधिकारी भी रडार पर—

सूत्रों की माने तो सीबीआई इस मामले में वित्त मंत्रालय के कई अधिकारियों से भी पूछतांछ कर चुकी है। इनमें अधिकांश अधिकारी ऐसे है जो उस समय विदेशी निवेश प्रभाग में तैनात थे। ऐसा अंदेशा जताया जा रहा है कि सीबीआई आने वाले दिनों में इन अधिकारियों के सामने भी कार्ति चिदंबरम से पूछतांछ करेगी। हालांकि अभी तक इस मामले में सीबीआई ने वित्त मंत्रालय के किसी अधिकारी का नाम आधिकारिक रूप से नहीं लिया है।

{ यह भी पढ़ें:- मोदी कैबिनेट में बड़ा फेरबदल: गोयल बने अस्थाई वित्त मंत्री, स्मृति इरानी से छिना मंत्रालय }

कांग्रेस का अरोप राजनीतिक विद्वेष से हो रही कार्रवाई—

पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति के खिलाफ की जा रही सीबीआई की कार्रवाई को उनकी पार्टी ने राजनीतिक विद्वेष की भावना से की जा रही कार्रवाई करार दिया है। कांग्रेस का अरोप है कि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी दस सालों तक विपक्ष में रहने के दौरान भी पी. चिदंबरम और उनके बेटे पर भ्रष्टाचार के आरोप मढ़ती रही है।

INX Media (आईएनएक्स मीडिया) मनी लांड्रिंग मामले में सीबीआई की हिरासत में चल रहे पूर्व केन्द्रीय मंत्री पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिली है। वहीं दूसरी ओर सीबीआई की पटियाला हाउस विशेष अदालत ने जांच एजेंसी की अपील पर कार्ति चिदंबरम की ​हिरासत की अवधि को बढ़ा दिया है। बताया जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट कार्ति चिदंबरम के वकील के रूप में पेश हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल की अपील पर इस…
Loading...