आईपीएल-10: बेकार गई डिविलियर्स की पारी, पंजाब ने बैंगलोर को आठ विकेट से हराया

इंदौर| अपने दूसरे घरेलू मैदान पर खेलते हुए किंग्स इलेवन पंजाब ने सोमवार को होल्कर क्रिकेट स्टेडियम में हुए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 10वें संस्करण के आठवें मैच में रॉयल चैलेंजर्स बैंग्लोर को आठ विकेट से हरा दिया। बैंग्लोर से मिले 149 रनों के औसत लक्ष्य का पीछा करते हुए पंजाब ने हाशिम अमला (नाबाद 58) और कप्तान ग्लेन मैक्सवेल (नाबाद 43) की सधी हुई पारियों के दम पर 33 गेंद शेष रहते 150 रन बनाकर जीत हासिल कर ली।




चार ओवरों के अपने कोटे से मात्र 12 रन देने वाले अक्षर पटेल को मैन ऑफ द मैच चुना गया। अक्षर ने पहले ही ओवर में बैंग्लोर के कप्तान शेन वाटसन का अहम विकेट भी चटकाया। आईपीएल में अक्षर और वाटसन चौथी बार आमने-सामने थे और अक्षर ने चौथी बार भी वाटसन का विकेट हासिल किया। सत्र में पंजाब की यह लगातार दूसरी जीत है, जिसके बल पर पंजाब अंकतालिका में सनराइजर्स हैदराबाद के बाद दूसरे स्थान पर पहुंच गया। इससे पहले इसी मैदान पर हुए अपने पहले मैच में पंजाब ने राइजिंग पुणे सुपरजाएंट को छह विकेट से मात दी थी। उस मैच में भी मैक्सवेल ने मैच जिताऊ तूफानी पारी खेली थी।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी पंजाब टीम को मनन वोहरा (34) ने अमला के साथ शानदार शुरुआत दिलाई। दोनों ने पहले विकेट के लिए 62 रन जोड़े। वोहरा का विकेट टाइमल मिल्स ने लिया। वोहरा के अलावा पंजाब ने अक्षर पटेल (9) का विकेट गंवाया। अक्षर 78 के कुल योग पर युजवेंद्र चहल की गेंद पर क्लीन बोल्ड हो पवेलियन लौटे। इसके बाद अमला और मैक्सवेल ने बिना किसी परेशानी के 72 रनों की नाबाद साझेदारी कर अपनी टीम को जीत दिलाई।

अमला-मैक्सवेल ने 11 से अधिक के औसत से यह रन बटोरे। अमला ने 38 गेंदों की नाबाद पारी में चार चौके और तीन छक्के लगाए, जबकि मैक्सवेल ने 22 गेंदों का सामना करते हुए तीन चौके और चार छक्के जमाए। इससे पहले, अब्राहम डिविलियर्स (नाबाद 89) की तूफानी पारी की बदौलत बैंग्लोर ने किसी तरह चार विकेट पर 148 रनों का सम्मानजनक स्कोर खड़ा किया।
एक समय सस्ते में निपटती नजर आ रही बैंग्लोर के लिए आखिरी पांच ओवरों में 77 रन जोड़ते हुए डिविलियर्स ने टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

डिविलियर्स को क्रिस गेल की जगह टीम में शामिल किया गया था और आईपीएल-10 में उनका पहला मैच था। टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी बैंग्लोर की शुरुआत बेहद खराब रही। शेन वाटसन (1), विष्णु विनोद (7) और केदार जाधव (1) पांचवें ओवर तक 22 के कुल योग पर पवेलियन लौट चुके थे और टीम बेहद दबाव में आ गई। पंजाब के गेंदबाजों ने इसके बाद बेहद कसी हुई गेंदबाजी करते हुए बैंग्लोर के रनों की गति पर जैसे विराम सा लगा दिया।

बैंग्लोर ने एक समय 15 ओवरों में चार विकेट पर मात्र 71 रन बनाए थे। इस बीच मंदीप सिंह (28) ने डिविलियर्स का साथ देने की भरपूर कोशिश की। दोनों ने चौथे विकेट के लिए 46 रनों की साझेदारी भी की, लेकिन यह साझेदारी 5.63 के बेहद धीमे औसत से हुई। 16वें ओवर की समाप्ति तक 30 गेंदों में 38 रन बनाकर खेल रहे डिविलियर्स ने बल्ले का गियर बदला और छक्कों की झड़ी लगा दी। डिविलियर्स ने इसके बाद खेली गई 16 गेंदों में सात छक्के और एक चौके की मदद से 51 रन जोड़ डाले।




डिविलियर्स ने कुल 46 गेंदों का सामना किया और तीन चौके तथा नौ छक्के लगाकर नाबाद लौटे। डिविलियर्स के साथ स्टुअर्ट बिन्नी ने नाबाद 18 रनों का योगदान दिया। पंजाब के लिए अक्षर पटेल बेहद किफायती साबित हुए। अक्षर ने चार ओवरों के अपने कोटे में मात्र 12 रन दिए और एक विकेट हासिल किया। वरुण एरॉन को सर्वाधिक दो विकेट मिले। वरुण ने भी 5.25 के औसत से मात्र 21 रन दिए। बैंग्लोर का इस सत्र में यह तीसरा मैच था, जिसमें उसे दूसरी हार मिली है। अंकतालिका में बैंग्लोर छठे स्थान पर खिसक गई है।